>  
>  
[Hindi] भारी बर्फबारी के बाद श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग दूसरे दिन भी बंद, 15 से फिर होगी बर्फबारी

[Hindi] भारी बर्फबारी के बाद श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग दूसरे दिन भी बंद, 15 से फिर होगी बर्फबारी

12:03 PM

Snowfall in Jammu and Kashmirजम्मू कश्मीर सहित अन्य पश्चिमी हिमालयी राज्यों में भारी बर्फबारी के बाद कल जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग बंद कर दिया गया। 300 किलोमीटर लंबी यह सड़क घाटी को जम्मू से जोड़ती है और सर्दियों में भारी बर्फबारी की स्थिति में इस पर प्रायः आवागमन रोकना पड़ता है ताकि किसी दुर्घटना को टाला जा सके। कश्मीर घाटी में बर्फबारी जारी रहने की स्थिति में आज दूसरे दिन भी श्रीनगर हाइवे को बंद रखा गया।

हालांकि आज कुछ समय के लिए स्थिति में सुधार के चलते कुछ समय के लिए राजमार्ग पर गाड़ियों को चलने की छूट दी गई थी लेकिन कुछ ही समय बाद इसे फिर से बंद करना पड़ा। श्रीनगर हवाई अड्डे पर भी परिचालन बाधित हुआ था लेकिन रनवे पर पड़ी बर्फ हटाने के बाद और दृश्यता में सुधार होने के बाद स्थिति सामान्य हो गई है। वैष्णो देवी में भी अच्छी बारिश और बर्फबारी हुई है। हालांकि पिछले 24 घंटों के दौरान कटरा में मौसम शुष्क। बारिश के बाद अब तापमान में कमी से यात्रियों को कड़ाके की ठंड का सामना करना पड़ेगा।

Related Post

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार 10 फरवरी से जम्मू कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में अधिकांश स्थानों पर वर्षा और बर्फबारी दर्ज की जा रही है। इस दौरान उत्तराखंड में भी कुछ स्थानों पर मौसमी हलचल देखने को मिली है। इस बीच तीनों पर्वतीय राज्यों में बारिश और हिमपात देने वाला सिस्टम पूर्वी दिशा में आगे निकल रहा है जिससे अब हलचल कम हो जाएगी। हालांकि अगले 24 घंटों तक जम्मू कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में एक-दो स्थानों पर हल्की वर्षा और बर्फबारी जारी रहने का अनुमान है। गरज और वर्षा वाले बादलों की ताज़ा स्थिति जानने के लिए नीचे दिए गए मैप पर क्लिक करें।

Lightning in jammu and Kashmir and north India

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार एक नया पश्चिमी विक्षोभ 15 फरवरी को फिर से दस्तक देगा। इसके प्रभाव से एक बार फिर से जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में बारिश होने की संभावना है। हालांकि आगामी सिस्टम पिछले सिस्टम जितना प्रभावी नहीं होगा जिससे भारी बर्फबारी जैसी संभावना फिलहाल नहीं है।

Image credit:

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।