>  
>  
मॉनसून 2018: केरल में समय से पहले दे सकता है दस्तक

मॉनसून 2018: केरल में समय से पहले दे सकता है दस्तक

09:30 AM


 

भारत के मुख्य भू-भाग पर मॉनसून का आगमन आमतौर पर 1 जून को होता है और यह केरल के रास्ते भारत में प्रवेश करता है। अब मॉनसून आने में लगभग 15 दिन का समय बाकी रह गया है। ऐसे में देशभर में कयास लगाए जा रहे हैं कि इस बार मॉनसून कब आएगा और देश भर में कैसी बारिश होगी।

जहां तक मॉनसून वर्षा की बात है तो, स्काइमेट ने 4 अप्रैल को जारी अपने मॉनसून पूर्वानुमान में संभावना जताई थी कि मॉनसून सामान्य रहेगा और 100% यानी 887 मिलीमीटर वर्षा देखने को मिलेगी।

भारत में सबसे अधिक वर्षा देने वाले दक्षिण-पश्चिम मॉनसून पर सबकी नज़र होती हैं। स्काईमेट प्रशांत महासागर से लेकर हिन्द महासागर और बंगाल की खाड़ी सहित मॉनसून को प्रभावित करने वाले सभी पहलुओं का लगातार बारीकी से विश्लेषण कर रहा है।

Related Post

स्काइमेट का अनुमान है कि इस बार केरल में मॉनसून का आगमन सामान्य समय यानी 1 जून से पहले, 28 मई को हो सकता है। अंडमान व निकोबार द्वीपसमूह में 20-21 मई को मॉनसून के पहुँचने के आसार हैं। स्काइमेट के मॉनसून आगमन पूर्वानुमान जारी करने के लगभग एक सप्ताह बाद भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने भी पूर्वानुमान जारी किया।

आईएमडी ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि 2018 में मॉनसून का आगमन 29 मई को हो सकता है। केरल में दस्तक देने वाले मॉनसून के आगमन के अनुमान में मौसम विभाग ने 4 दिन का एरर मार्जिन बताया है। यानि यह 29 मई से 4 दिन पहले या 4 दिन बाद भी आ सकता है। आईएमडी के अनुसार अंडमान सागर और दक्षिण-पूर्वी बंगाल की खाड़ी में इसके 23 मई को पहुँचने की संभावना है।

प्रमुख शहरों में मॉनसून के आगमन की अगर बात करें तो चेन्नई में 1 जून से दक्षिण-पश्चिमी हवाएँ प्रभावी हो जाएंगी और मॉनसून वर्षा शुरू हो जाएगी। 10 जून के भीतर हैदराबाद में मॉनसून के आगमन के आसार हैं। मुंबई को 10 जून से मॉनसूनी बौछारें भिगो सकती हैं। कोलकाता में भी इसी समय मॉनसून के आगमन की संभावना है।

Click the image below to see the live lightning and thunderstorm across IndiaRain in India

दूसरी ओर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली, जयपुर, लखनऊ और पटना का सफर तय करने में इसे समय लगेगा।

इस बीच देश भर में प्री-मॉनसून हलचल तेज़ हो गई है। आने वाले दिनों में दक्षिणी प्रायद्वीपीय भारत में और अच्छी वर्षा होने की संभावना है जिससे मॉनसून के समयपूर्व आगमन की संभावना और बढ़ जाएगी।

Any information taken from here should be credited to skymetweather.com