>  
>  
14 जून 2018 के लिए मॉनसून पूर्वानुमान: मॉनसून की रफ़्तार कमज़ोर; एक सप्ताह तक नहीं बढ़ेगा आगे

14 जून 2018 के लिए मॉनसून पूर्वानुमान: मॉनसून की रफ़्तार कमज़ोर; एक सप्ताह तक नहीं बढ़ेगा आगे

04:48 PM


 

पिछले 24 घंटों के दौरान मॉनसून आगे नहीं बढ़ा है। इसकी उत्तरी सीमा अभी भी कल की तरह मुंबई, अहमदनगर, अमरावती, तितलागढ़, कटक, मिदनापुर, ग्वालपाड़ा और बागडोगरा में बनी हुई है।

मॉनसून करंट कमजोर हुई है जिससे अगले कुछ दिनों तक मॉनसून की प्रगति प्रभावित होगी।

बीते 24 घंटों के दौरान मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, असम, मेघालय और गंगीय पश्चिम बंगाल में दक्षिण पश्चिम मॉनसून व्यापक रूप में सक्रिय रहा और इन भागों में भारी वर्षा रिकॉर्ड की गई।

Related Post

शेष पूर्वोत्तर राज्यों के साथ-साथ ओड़ीशा, तटीय आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, केरल, कर्नाटक और अंडमान व निकोबार द्वीपसमूह में सामान्य मॉनसून वर्षा दर्ज की गई। महाराष्ट्र, उत्तरी आंतरिक कर्नाटक, तेलंगाना और तमिलनाडु में मॉनसून की सुस्ती के बीच बारिश में व्यापक कमी आई।

पिछले 24 घंटों में सबसे अधिक बारिश चेरापूंजी में हुई। यहाँ 211 मिलीमीटर वर्षा रिकॉर्ड की गई। मजबत में 121 और सिलचर में 115 मिलीमीटर वर्षा हुई।

देशभर में कल से आज तक सामान्य से 45 प्रतिशत अधिक है। इसके साथ देश भर में इस मॉनसून सीज़न में बारिश का आंकड़ा बढ़कर 19 फीसदी के स्तर पर पहुँच गया।

दक्षिण भारत में इस सीज़न में सामान्य से 82 प्रतिशत अधिक, मध्य भारत में 66 फीसदी अधिक वर्षा हुई है। जबकि उत्तर भारत में सामान्य से 1 फ़ीसदी कम और पूर्वी तथा पूर्वोत्तर राज्यों में सामान्य से 39 प्रतिशत कम वर्षा हुई है।

अगले 24 घंटों के दौरान मॉनसून के प्रदर्शन का जिक्र करें तो नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, मेघालय और असम में मॉनसून व्यापक रूप में सक्रिय रहेगा और इन भागों में मध्यम से भारी बौछारें जारी रहेंगी।

Click the image below to see the live lightning and thunderstorm across IndiaRain in India

अरुणाचल प्रदेश, ओड़ीशा, केरल, तटीय कर्नाटक, लक्षद्वीप और अंडमान व निकोबार द्वीपसमूह में सामान्य मॉनसून के बीच हल्की से मध्यम बारिश देखने को मिल सकती है।

जबकि महाराष्ट्र, तेलंगाना, छत्तीसगढ़, आंतरिक कर्नाटक और तमिलनाडु में मॉनसून बेहद कमजोर होगा। और इन भागों में बारिश में व्यापक कमी रहेगी।

Please Note: Any information picked from here should be attributed to skymetweather.com