>  
>  
17 नवंबर का मौसम पूर्वानुमान: चक्रवात गज कमजोर होकर बना डीप डिप्रेशन। दिल्ली प्रदूषण से मिलेगी हल्की राहत।

17 नवंबर का मौसम पूर्वानुमान: चक्रवात गज कमजोर होकर बना डीप डिप्रेशन। दिल्ली प्रदूषण से मिलेगी हल्की राहत।

07:54 PM


तमिलनाडु और केरल में अच्छी बारिश देने के बाद, चक्रवात गज अब डिप्रेशन के रूप में कमजोर हो गया है और इस समय, लक्षद्वीप के पास दक्षिण-पूरवी अरब सागर पर है।

अनुमान है कि अब तमिलनाडु और केरल में बारिश कम हो जाएगी। हालांकि, केरल में एक या दो जगह पर मध्यम बारिश हो सकती है। साथ ही तमिलनाडु, रायलसीमा और तटीय कर्नाटक पर हल्की बारिश का भी अनुमान है। दक्षिण आंतरिक कर्नाटक में भी एक-दो जगह पर हल्की बारिश होगी। इसके अलावा, लक्षद्वीप पर वर्षा में बढ़ोत्तरी होने की संभावना है। एक अन्य चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र दक्षिण-पूर्वी बंगाल कि खाड़ी पर है। ये अब आगे तमिलनाडु तट कि और बढ़ेगा।

मध्य भारत कि बात करें तो एंटी-साइक्लोन अब उत्तरी मध्य प्रदेश पर है। इसके कारण यहाँ पर शुष्क मौसम जारी रहेगा। साथ ही, राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ पर उत्तर-पश्चिमी हवाएँ बहेंगी। इसके कारण इन जगहों पर तापमान में कमी आने कि संभावना है।

उत्तर भारत कि बात करें तो पश्चिमी विक्षोभ अब दूर जाता नज़र आ रहा है, इसलिए जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तरखंड समेत सम्पूर्ण पहाड़ी क्षेत्रों पर शुष्क मौसम बना रहेगा।

इसके अलावा उत्तर-पश्चिमी दिशा से आती हवाओं के कारण पंजाब, हरयाणा, दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, और उत्तरी राजस्थान में तापमान में 2 से 3 डिग्री सेल्सियस कि कमी आएगी। इसके बाद, यहाँ पर हवाएँ फिर से हल्की होने के कारण तापमान में एक बार फिर बढ़ोतरी हो सकती है। उत्तर-पश्चिमी हवाओं के कारण, दिल्ली प्रदूषण से हल्की राहत मिल सकती है।

Click the image below to see the live lightning and thunderstorm across IndiaRain in India

अब पूर्व और पूर्वोत्तर भारत कि ओर बढ़ें तो अरुणाचल प्रदेश, असम और मेघलय पर एक-दो जगह में हलकी से मध्यम बारिश होगी। बाकी के पूर्व और पूर्वोत्तर भारत पर शुष्क मौसम जारी रहेगा। हालांकि, पूर्वी उत्तर प्रदेश , बिहार और झारखंड में रात के तापमान में कमी आने का अनुमान है।

Any information taken from here should be credited to skymetweather.com

 

We do not rent, share, or exchange our customers name, locations, email addresses with anyone. We keep it in our database in case we need to contact you for confirming the weather at your location.