[Hindi] एक प्रभावी निम्न दबाव मॉनसून को करेगा सक्रिय, पूर्वी और मध्य भारत में बढ़ेगी बारिश, पश्चिमी घाट भी होगा प्रभावित

September 3, 2019 5:00 PM |

बंगाल की खाड़ी में विकसित हुआ निम्न दबाव का क्षेत्र आगे बढ़ते हुए ओड़ीशा और इससे सटे भागों पर पहुँच गया है। यह सिस्टम पश्चिमी और उत्तर-पश्चिमी भागों में बढ़ रहा है। इसके अलावा मध्य प्रदेश के पूर्वी और पश्चिमी भागों पर भी चक्रवाती हवाओं के क्षेत्र बने हुए हैं।

साथ ही मॉनसून की अक्षीय रेखा उत्तरी राजस्थान से लेकर मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड और पश्चिम बंगाल होते हुए बंगाल की खाड़ी तक बनी हुई है। इन सभी सिस्टमों के मॉनसून ट्रफ से मिलने के चलते ना सिर्फ मध्य और पूर्वी भारत पर मॉनसून सक्रिय हो रहा है बल्कि इस निम्न दबाव के आगे बढ़ने की गति भी धीमी हो गई है।

Read this in English: LOW-PRESSURE AREA IN THE BAY OF BENGAL TRIGGERING MONSOON RAINS OVER EAST AND CENTRAL INDIA

निम्न दबाव का क्षेत्र ज़मीनी भागों पर आने के बाद मॉनसून ट्रफ से मिल जाएगा। इस सिस्टम के उत्तर-पश्चिमी दिशा में बढ़ने की संभावना है और यह छत्तीसगढ़, पूर्वी मध्य को अगले 24 घंटों में प्रभावित करेगा। इन राज्यों के अलावा आसपास के राज्यों खासकर झारखंड, पश्चिम बंगाल, बिहार और उत्तर प्रदेश पर भी इसके चलते मॉनसून सक्रिय हो जाएगा।

निम्न दबाव के क्षेत्र के प्रभाव से उत्तरी प्रदेश के उत्तरी हिस्सों, तेलंगाना और महाराष्ट्र में अच्छी बारिश दर्ज की जा सकती है। यह सिस्टम पिछले निम्न दबाव के क्षेत्र से अधिक प्रभावी होगा। साथ ही यह अधिक क्षेत्रों को कवर करेगा।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार जब यह सिस्टम ओड़ीशा से आगे बदेगा तब पश्चिमी तटों पर भी मॉनसून में हलचल बढ़ जाएगी। पिछले 24 घंटों के दौरान कोंकण गोवा क्षेत्र में अच्छी बारिश दर्ज की गई है। अगले 24 घंटों के दौरान भी कोंकण गोवा क्षेत्र में भारी बारिश कुछ स्थानों पर हो सकती है। इस दौरान पश्चिमी तटों पर माथेरान, मुंबई, रत्नागिरी, महाबलेश्वर और हरनाई और आसपास के भागों में मध्यम से भारी बारिश हो सकती है।

Image credit: Mid day

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।

 

 







For accurate weather forecast and updates, download Skymet Weather (Android App | iOS App) App.

Weather Forecast

Other Latest Stories






latest news

Skymet weather

Download the Skymet App

Our app is available for download so give it a try

×