>  
[Hindi] वैष्णो देवी में पारा बढ़ा, ठंड से मिली राहत, एक सप्ताह तक नहीं होगी बारिश

[Hindi] वैष्णो देवी में पारा बढ़ा, ठंड से मिली राहत, एक सप्ताह तक नहीं होगी बारिश

12:30 PM

Vaishnao-devi weatherउत्तर भारत के पहाड़ों से लेकर मैदानों तक मौसम साफ बना हुआ है। वैष्णो देवी मंदिर और आसपास के भागों में भी काफी समय से बारिश नहीं हुई है। जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में इस समय आमतौर पर बारिश और बर्फबारी होती है जिससे पर्वतीय इलाकों में कई रास्ते लंबे समय के लिए बंद हो जाते हैं। इस बार की सर्दियों में अब तक उत्तर के पर्वतीय राज्यों में सामान्य से कम बारिश और बर्फबारी हुई है।

इससे पहले 11 और 12 दिसम्बर को जम्मू कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में अच्छी बारिश या बर्फबारी देखने को मिली थी। उसके बाद से पश्चिमी विक्षोभों के आने का क्रम जारी भले है लेकिन यह इतने प्रभावी नहीं है कि कटरा स्थिति वैष्णो धाम सहित राज्य के अन्य भागों में मौसम को बड़े पैमाने पर प्रभावित कर सकें।

Related Post

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार आगामी एक सप्ताह तक इसी तरह से कमजोर पश्चिमी विक्षोभ आते रहेंगे लेकिन वैष्णो देवी भवन और कटरा तथा आसपास के भागों में मौसम साफ और शुष्क बना रहेगा। इस दौरान कुछ समय के लिए आंशिक बादल देखे जा सकते हैं। हालांकि दिन में अधिकांश समय धूप खिली रहेगी जिससे दिन में पारा बढ़ेगा और सर्दी से राहत मिलेगी। जम्मू कश्मीर में गरज और वर्षा वाले बादलों की ताज़ा स्थिति जानने के लिए नीचे दिए गए मैप पर क्लिक करें।

Jammu Kashmir Lightning and rain

वर्तमान मौसमी परिदृश्य के अनुसार अगले कुछ दिनों के दौरान कटरा में अधिकतम तापमान 20 से 22 डिग्री और न्यूनतम तापमान 7 से 9 डिग्री के बीच रिकॉर्ड किया जाएगा। भवन पर सुबह पारा 2 से 3 डिग्री से ऊपर नहीं जाएगा जिससे सुबह और रात के समय कड़ाके की सर्दी परेशान करेगी। लेकिन दिन में 14 से 15 डिग्री तापमान के चलते श्रद्धालुओं को राहत मिलेगी।

बारिश और बर्फबारी की संभावना ना होने और दिन में खिली धूप तथा सुहावने मौसम के बीच अगले एक सप्ताह तक वैष्णो देवी के दर्शन को जाने का यह सही समय है। भवन पर कड़ाके की ठंडक को छोड़ दें तो मौसम भक्तों को परेशान नहीं करेगा।

Image credit: IndiaToday

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।