>  
[Hindi] दिल्ली में आए बादल, क्या फिर होगी भारी ओलावृष्टि और बारिश

[Hindi] दिल्ली में आए बादल, क्या फिर होगी भारी ओलावृष्टि और बारिश

03:51 PM

राजधानी दिल्ली के लोग इस बार मौसम की लुकाछिपी से कुछ ज़्यादा ही भौंचक्के हैं। कभी अचानक पारा ऊपर जा रहा है, तो कभी शीतलहर लोगों को काँपने को मजबूर कर रही है। मौसम में इस उतार-चढ़ाव का क्लाइमेक्स 7 फरवरी को दिखा जब भारी बारिश और ओलावृष्टि के कारण दिल्ली और एनसीआर के शहरों में नज़ारा शिमला और मनाली जैसा हो गया।

बीते तीन दिनों से मौसम शुष्क और साफ था और ठंडी हवाएँ चल रही थीं। लेकिन अब एक बार फिर से बादल दिल्ली पर मँडराने लगे हैं। इससे लोग डरने लगे हैं कि कहीं 7 फरवरी की पुनरावृत्ति ना हो। दिल्ली के ऊपर आए बादल धीरे-धीरे बढ़ेंगे हालांकि आज और कल बारिश की उम्मीद तो नहीं है। माना जा रहा है कि 13 फरवरी से वर्षा शुरू हो सकती है।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार इस समय जम्मू कश्मीर के पास एक पश्चिमी विक्षोभ बना हुआ है। इसी कारण बादल दिख रहे हैं। कल यह सिस्टम कश्मीर से आगे निकल जाएगा जबकि 13 फरवरी को एक नया पश्चिमी विक्षोभ जम्मू कश्मीर के पास आएगा जिसके कारण मैदानी इलाकों पर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र विकसित होगा। इसी सिस्टम के कारण दिल्ली-एनसीआर में 13 फरवरी की रात से बारिश का नया एपिसोड शुरू हो सकता है।

अनुमान है कि बारिश की गतिविधियां 14 और 15 फरवरी तक जारी रहेंगी। उस दौरान कई स्थानों पर हल्की से मध्यम और कुछ स्थानों पर भारी बारिश होने के आसार हैं। कहीं-कहीं गर्जना के साथ ओले भी पड़ेंगे। गुरुग्राम, दिल्ली, फ़रीदाबाद, नोएडा, गाज़ियाबाद सहित आसपास के हिस्सों में पिछले हफ्ते की तरह ही बारिश और ओलावृष्टि की संभावना जताई जा रही है। हालांकि बारिश और ओले 7 फरवरी जितने अधिक नहीं होंगे। फिर भी किसी तरह के नुकसान से बचने के लिए सतर्कता बेहतर उपाय होगा।

पिछले दिनों पहाड़ों पर भारी बर्फबारी और मैदानी इलाकों में भारी वर्षा के बाद राजधानी दिल्ली और इससे सटे शहरों में दिन और रात के तापमान में व्यापक गिरावट दर्ज की गई है। सोमवार को न्यूनतम तापमान सामान्य से 3 डिग्री कम 7 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। अगले दो दिन पारा धीरे-धीरे ऊपर जाएगा। बारिश के बाद इसमें फिर से गिरावट हो सकती है।

Image credit: Dev

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।

 

 

We do not rent, share, or exchange our customers name, locations, email addresses with anyone. We keep it in our database in case we need to contact you for confirming the weather at your location.