>  
[Hindi] पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, चंडीगढ़, राजस्थान में फिलहाल शीतलहर की विदाई

[Hindi] पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, चंडीगढ़, राजस्थान में फिलहाल शीतलहर की विदाई

05:54 PM

Chandigarh Weather_India 600बीते 3-4 दिनों से उत्तर भारत के मैदानी राज्यों में कोहरा तेज़ी से कम हुआ हुआ है। पंजाब, हरियाणा, उत्तरी राजस्थान, चंडीगढ़, दिल्ली और दक्षिण-पश्चिमी उत्तर प्रदेश में इस सप्ताह की शुरुआत से ही कोहरे में भारी कमी आई जिससे दृश्यता में सुधार हुआ। राजधानी दिल्ली में प्रदूषण में कमी देखने को मिली।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार उत्तर भारत के मैदानी राज्यों में मध्यम गति से उत्तर-पश्चिमी शुष्क हवाएँ प्रभावी हो गई हैं जिससे यह बदलाव देखने को मिला है।

आमतौर पर कम हवा, कम तापमान और अधिक नमी होने पर घना कोहरा होता है। इस समय तापमान कम है जबकि हवा तेज़ है और नमी कम हुई है। इसके चलते उत्तर-पश्चिम भारत से कोहरा कम हो गया है और दिन में अच्छी धूप देखने को मिल रही है। इस बीच इन भागों में 10 हज़ार फिट की ऊंचाई पर दक्षिण-पश्चिमी हवाएँ चल रही हैं जिससे शुक्रवार को ऊंचाई वाले बादल भी दिखाई दिये। कल भी ऐसे बादल दिख सकते हैं हालांकि यह मैदानी राज्यों के मौसम को प्रभावित नहीं करेंगे।

[yuzo_related

पिछले 24 घंटों से अधिकतर हिस्सों में न्यूनतम तापमान में वृद्धि शुरू हो गई है और शीतलहर से राहत मिल गई है। दिल्ली में बुधवार को जहां न्यूनतम तापमान 5.6 डिग्री था वहीं बृहस्पतिवार और शुक्रवार को यह बढ़कर 8 डिग्री पर पहुँच गया। इसी तरह से अमृतसर में 10 जनवरी को जहां 2.4 डिग्री तापमान था 12 जनवरी को बढ़कर 7.5 पर पहुँच गया। श्रीगंगानगर में 10 जनवरी को तापमान 1.3 डिग्री था जबकि 12 जनवरी को यह 6.2 डिग्री पर पहुँच गया। उत्तर भारत में गरज और वर्षा वाले बादलों की ताज़ा स्थिति जानने के लिए नीचे दिए गए मैप पर क्लिक करें।

North India Lightning

कोहरा साफ होने और तापमान बढ़ने से उत्तर भारत के सभी मैदानी इलाकों में शीतलहर से राहत मिल गई है। खिली धूप के चलते दिन के तापमान में भी बढ़ोत्तरी हुई है। इस बदलाव से दिन में जहां मौसम सहज होगा वहीं रात और सुबह के समय अभी भी सर्दी बनी रहेगी। हालांकि 14 जनवरी यानि मकर संक्रांति से पारा एक बार फिर से नीचे जाएगा जिससे सर्दी वापसी करेगी।

Image credit: India.com

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।