>  
[Hindi] दिल्ली में शीतलहर जैसे हालात; अगले दो दिनों तक नहीं मिलेगी राहत

[Hindi] दिल्ली में शीतलहर जैसे हालात; अगले दो दिनों तक नहीं मिलेगी राहत

04:05 PM

Delhi weather--Dainiknow 600

दिल्ली सहित एनसीआर के शहर फिर से शीतलहर की चपेट में हैं। दिन और रात के तापमान में व्यापक गिरावट हुई है। उत्तर भारत के पहाड़ों से आने वाली ठंडी हवाओं के कारण दिल्ली में सोमवार को न्यूनतम तापमान गिरकर 5 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। दिन में पारा नीचे चल रहा है। पिछले 24 घंटों के दौरान दिन का तापमान 18.8 डिग्री था जो सामान्य से 4 डिग्री कम है।

उत्तर-पश्चिमी ठंडी हवाएँ मध्यम गति से अगले दो दिनों तक चलती रहेंगी जिसके कारण रात का तापमान गिरकर एक बार फिर से 4 डिग्री पर पहुँच सकता है। अधिकतम तापमान भी 18-19 डिग्री के आसपास ही बना रहेगा। इसके चलते दिन में खिली धूप के बीच भी दिल्ली-एनसीआर के लोगों को अच्छी सर्दी का सामना करना होगा। इसे विदाई से पहले सर्दी की धमक कहा जा सकता है।

दिल्ली की सर्दी पूरे भारत में मशहूर है। इस बार की सर्दी देर से आई लेकिन कह सकते हैं कि दुरुस्त आई है। शीतलहर की शुरुआत 20 दिसम्बर से हुई और अब तक छोटे-छोटे अंतराल पर राहत के बीच शीतलहर का सिलसिला जारी है। इस दौरान सबसे ठंडा दिन 29 दिसम्बर को जब जब न्यूनतम तापमान 2.6 डिग्री रिकॉर्ड किया गया। अब तापमान के इस स्तर पर जाने की संभावना नहीं है लेकिन शीतलहर जैसे हालात बने रहेंगे।

इस बार सर्दियों में दिल्ली में बारिश बहुत कम हुई है। हालांकि जनवरी में कहानी पूरी तरह अलग रही क्योंकि 1 जनवरी से 27 जनवरी के बीच लगभग 50 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई जो सामान्य से लगभग डेढ़ सौ प्रतिशत अधिक है। अगले दो दिन मौसम साफ रहेगा लेकिन 31 जनवरी को हल्की बारिश के संकेत हैं। हालांकि इस बारे में तस्वीर कल तक साफ होगी।

दिल्ली प्रदूषण की बात करें तो आज इसमें बढ़ोत्तरी देखने को मिली। 22 जनवरी को हुई भारी बारिश के बाद इसमें काफी कमी थी। आज सुबह के समय दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक 300 के आसपास यानि बेहद ख़राब श्रेणी में पहुँच गया। धीरे-धीरे हवा की रफ्तार में कमी आएगी। जिससे अनुमान है कि 30 जनवरी तक प्रदूषण एक बार फिर से और ख़राब स्थिति में पहुँच सकता है।

Image credit: DainikNow

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।