>  
[Hindi] घने कोहरे के बीच लखनऊ, कानपुर, गोरखपुर, पटना, गया में ठंड बरपा रही कहर

[Hindi] घने कोहरे के बीच लखनऊ, कानपुर, गोरखपुर, पटना, गया में ठंड बरपा रही कहर

12:00 PM

Cold wave in Lucknowबिहार और इससे सटे पूर्वी उत्तर प्रदेश के अधिकांश इलाके घने कोहरे की चपेट में हैं। उत्तर प्रदेश के तराई क्षेत्रों में भी घना कोहरा राहत देने को तैयार नहीं है। पिछले 2-3 दिनों के दौरान उत्तर-पश्चिमी हवाएँ चलने से उत्तर प्रदेश के दक्षिणी जिलों में कोहरे में कमी आई है लेकिन तराई क्षेत्रों में नमी अधिक होने और हवा कम होने के चलते कोहरा बादल बनकर छाया हुआ है।

घने कोहरे के चलते धूप गायब है और कई स्थानों पर अधिकतम तापमान सामान्य से 10 डिग्री नीचे रिकॉर्ड क्या जा रहा है। उत्तर प्रदेश में बरेली, नजीबाबाद, रामपुर, शाहजहाँपुर, हरदोई, गोरखपुर, बहराइच, लखनऊ जबकि बिहार में छपरा, सुपौल, सितामढ़ी, मुजफ्फरपुर, बेतिया और पटना में अधिकतम तापमान 10 से 15 डिग्री सेल्सियस के बीच रिकॉर्ड किया जा रहा है जो सामान्य से 10 डिग्री तक कम है। कम तापमान के चलते दिन में शीतलहर चल रही है।

Related Post

उत्तर प्रदेश में कई इलाके रात के समय भी कड़ाके की ठंड की चपेट में हैं। अधिकांश हिस्सों में न्यूनतम तापमान 5 डिग्री से भी नीचे चल रहा है। फुर्सतगंज, लखनऊ, कानपुर, हरदोई और मेरठ में जैसे कई स्थानों पर रात का तापमान 5 डिग्री से कम रहा। आज उत्तर प्रदेश में बहराइच सबसे सर्द स्थान। यहाँ सुबह पारा 5 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। अधिकतम और न्यूनतम तापमान में भारी कमी को देखते हुए कह सकते हैं कि समूचे मैदानी भारत में सबसे अधिक ठंडी इस समय उत्तर प्रदेश और बिहार में ही पड़ रही है।

आने वाले दिनों में भी दोनों राज्यों में जल्द विशेष राहत मिलने की संभावना दिखाई नहीं दे रही है। कोहरा तेज़ी से तभी साफ होगा जब अच्छी बारिश हो या तेज़ उत्तर-पश्चिमी शुष्क हवाएँ चलें। फिलहाल दोनों राज्यों में हवाएँ तो बढ़ेंगी लेकिन बारिश के जल्द कोई आसार नहीं हैं। फिलहाल उत्तर प्रदेश के तराई क्षेत्रों और पूर्वी भागों तथा बिहार में अगले 48 घंटों तक घना कोहरा जारी रहेगा, जो रफ्तार पर ब्रेक लगाकर रखेगा। इस दौरान घने कोहरे के चलते मेरठ और बरेली से लेकर अररिया, सुपौल तक कड़ाके की ठंड का प्रकोप बना रहेगा।

Image credit: LiveMint

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।