[Hindi] विकसित हुआ लगातार 7वां निम्न दबाव का क्षेत्र, मॉनसून वर्षा फिर पहुंचेगी सामान्य से ऊपर

September 2, 2019 9:05 PM |

Monsoon arrived in Keral Irisholidays 1200

वर्ष 2019 में जुलाई और अगस्त महीनों में मॉनसून का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा है। यही दो महीने सबसे अधिक मॉनसून वर्षा के लिए जाने जाते हैं। यहाँ तक कि एक समय ऐसा भी आया जब मॉनसून वर्षा सामान्य से 49% ऊपर पहुँच गई थी। अगस्त में इस साल 116% बारिश हुई यानि सामान्य से 16% अधिक।

अच्छी बारिश के लिए बंगाल की खाड़ी में एक के बाद विकसित होने वाले मॉनसून सिस्टमों को जिम्मेदार माना जा सकता है। तथ्य यह कि आमतौर पर अगस्त में 2 या 3 बार निम्न दबाव का क्षेत्र बनता है लेकिन इस बार अगस्त में 6 बार निम्न विकसित हुए थे।

यह क्रम सितंबर में भी जारी है। अब 7वां निम्न दबाव का क्षेत्र बंगाल की खाड़ी में बना है। गौरतलब है कि सितंबर मॉनसून की वापसी का महीना है और इसकी शुरुआत भी बारिश के साथ हुई है।

Read English Version: 7TH CONSECUTIVE LOW PRESSURE AREA IN BAY TO ACCELERATE MONSOON SURPLUS AGAIN

मौसम विशेषज्ञों के अनुसार जो निम्न दबाव का क्षेत्र विकसित हुआ है वह पिछले सिस्टम से अधिक प्रभावशाली होगा। इस बीच पिछले कुछ दिनों के दौरान आए एक के बाद एक मौसमी सिस्टमों के बावजूद देश में कुल बारिश का आंकड़ा सामान्य से नीचे आ गया है।

लेकिन वर्तमान सिस्टम के अधिक प्रभावशाली होने के कारण हम उम्मीद कर सकते हैं कि अगले एक सप्ताह में सामान्य से अधिक मॉनसून वर्षा दर्ज की जाएगी।

देश भर के मौसम का हाल जानने के लिए देखें विडियो:

 

वर्तमान निम्न दबाव का प्रभाव तीन-चार दिनों तक बना रहेगा। यह सिस्टम भी पश्चिमी और उत्तर-पश्चिमी दिशा में जाएगा। यह सिस्टम पूर्वी भारत के भागों को कवर करेगा। उसके बाद मध्य भारत और उत्तर-पश्चिम भारत के भागों में भी बारिश देगा। यह सिस्टम आने वाले दिनों में कुछ स्थानों पर भारी बारिश देगा इसलिए मॉनसून वर्षा फिर से सामान्य से ऊपर पहुँच जाएगी। हमारा अनुमान है कि देश में बारिश 102% तक पहुँच जाएगी।

Image credit: Kerala Iris Holiday

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।

 







For accurate weather forecast and updates, download Skymet Weather (Android App | iOS App) App.

Weather Forecast

Other Latest Stories






latest news

Skymet weather

Download the Skymet App

Our app is available for download so give it a try

×