Skymet weather

[Hindi] दिल्ली में प्रदूषण हर बार की तरह फिर से बना हॉट टॉपिक

October 15, 2018 4:12 PM |

Delhi Pollution_The statesman 600

दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण हर वर्ष की सर्दियों में चरम पर होता है। मॉनसून ख़त्म होते ही रात के तापमान में गिरावट का सिलसिला शुरू होता है और दिल्ली गैस चेम्बर में तब्दील हो जाती है। सर्दियों में यह प्रदूषण दिल्ली-एनसीआर के लिए किसी काल से कम नहीं होता है।

प्रदूषण के दो बड़े कारण हैं। पहला वातावरण में नमी का बढ़ना और दूसरा हरियाणा व पंजाब में जलाये जाने वाली फसलों से उठता धुआँ। जब तापमान में कमी आने लगती है तब हवा में नमी बढ़ जाती है और नीचे ही बनी रहती है। हवा तेज़ ना चलने की स्थिति में प्रदूषण के कण साफ नहीं हो पाते बल्कि हवा में निचले स्तर पर ही बने रहते हैं।

प्रदूषण में सोने पे सुहागा का काम करता है पंजाब और हरियाणा में जलायी जाने वाली फसलों से उठने वाला धुआँ। यह धुआँ उत्तर-पश्चिमी हवाओं के साथ दिल्ली-एनसीआर की ओर आता है और दिल्ली वालों की मुश्किलें बढ़ती जाती जाती हैं। अमरीकी अन्तरिक्ष एजेंसी नासा द्वारा जारी किए गए चित्रों में हरियाणा और पंजाब में धान की पिराली जलाए जाने का खुलासा हुआ है। जबकि उत्तर भारत के सभी राज्यों में जलाए जाने पर प्रतिबंध है।

Crop Burning Oct 1 and 7 1
Image Credit: NASA

दिल्ली,नोएडा, गुरुग्राम, गाज़ियाबाद और फ़रीदाबाद में आमतौर पर अक्टूबर के आखिर से दिसंबर तक प्रदूषण चरम पर होता है। इस बार भी सितंबर के आखिर से ही दिल्ली-एनसीआर में हवा की गुणवत्ता में गिरावट शुरू हो गई है।

वाहनों से निकला प्रदूषण,निर्माण स्थलों से उड़ने वाली धूल और कार्बन डाइऑक्साइड सहित अन्य प्रदूषक तत्व अब हवा में नीचे बने रहेंगे। जिससे दिल्ली-एनसीआर में पीएम 2.5 और पीएम 10 का स्तर बढ़ता रहेगा और हवा की गुणवत्ता कम होती रहेगी। दिल्ली के द्वारका, पंजाबी बाग, आनंद विहार, दिल्ली विश्वविद्यालय के अलावा गाज़ियाबाद में इस समय पीएम 10 का स्तर सबसे अधिक बना हुआ है।

अगले तीन महीनों तक गंदी हवा में सांस लेने के लिए मजबूर दिल्ली-एनसीआर के लोग इस प्रदूषण को हल्के में ना लें बल्कि एहतियात बरतें। इससे राहत तेज़ उत्तर-पश्चिमी हवाएँ या फिर बारिश ही दिला पाएगी। और मौसम विशेषज्ञों के अनुसार कम से कम अगले एक सप्ताह तक अच्छी बारिश होने की संभावना फिलहाल नहीं है और ना ही तेज़ हवाएँ चलने की संभावना है क्योंकि जम्मू कश्मीर के पास से एक के बाद एक पश्चिमी विक्षोभ आ रहे हैं।

इस समय भी दिल्ली और आसपास की फिजाओं में नमी बरकरार है। ऐसे में जब भी हवा की रफ्तार कम होती है या दक्षिण-पूर्व से हवाएँ आती हैं,तब प्रदूषण घना हो जाता है और सुबह शाम के समय धुंध के रूप में दिखाई देने लगता है। इससे विजिबिलिटी काफी कम हो जाती है।

Image credit: The Statesman

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।

 

 


For accurate weather forecast and updates, download Skymet Weather (Android App | iOS App) App.

Weather Forecast

Other Latest Stories

Weather on Twitter
We expect moderate #rains with one or two heavy spells to continue over Rayalseema and adjoining South Coastal… t.co/KcwxPZDEky
Wednesday, August 21 09:05Reply
#MadhyaPradesh (2/2): #Rain over Khargone, Mandla, Mandsaur,Narsimhapur, Neemuch, Panna, Raisen, Rajgarh, Ratlam, R… t.co/xdh4kG8I5K
Tuesday, August 20 22:28Reply
#Madhya Pradesh (1/2): #Rain over Agar Malwa, Alirajpur, Anuppur, Balaghat, Barwani, Betul, #Bhopal, Burhanpur, Chh… t.co/py1trXvVgR
Tuesday, August 20 22:23Reply
Check out the #Monsoon forecast for your city here: t.co/XiVWKiGS9H
Tuesday, August 20 22:16Reply
RT @SkymetHindi: बिलासपुर, रायपुर सहित छत्तीसगढ़ और ओडिशा के कई जिलों में बारिश की संभावना है। रांची तथा जमशेदपुर में भी गिर सकती हैं मॉनसू…
Tuesday, August 20 22:14Reply
RT @SkymetHindi: भोपाल, इंदौर, गुना, सागर और उज्जैन जैसे मध्य प्रदेश के पश्चिमी जिलों में भारी बारिश के आसार है। लगभग समूचे मध्य प्रदेश में…
Tuesday, August 20 22:14Reply
#HimachalRains: 63 people have lost their lives in #HimachalPradesh this #Monsoon, out of which 23 were killed in h… t.co/4tBmzjdqb2
Tuesday, August 20 19:38Reply
Over one lakh cusecs of water released from Hathini Kund barrage today #Haryana #HaryanaFloods t.co/TdGh3CvF5O
Tuesday, August 20 19:34Reply
Widespread #rainfall with isolated heavy to very heavy spells are likely over East #MadhyaPradesh and isolated heav… t.co/AjBRF4stl4
Tuesday, August 20 19:29Reply

latest news

Skymet weather

Download the Skymet App

Our app is available for download so give it a try