>  
[Hindi] पहाड़ों पर अच्छी बर्फबारी; वैष्णो देवी में होगी बारिश, सर्दी जल्द दिखेगी अपनी लय में

[Hindi] पहाड़ों पर अच्छी बर्फबारी; वैष्णो देवी में होगी बारिश, सर्दी जल्द दिखेगी अपनी लय में

05:00 PM

Rain-snow in Kashmir and Himachal_NDTV 600

उत्तर भारत के पहाड़ों पर लंबे समय बाद अच्छी बर्फबारी होने की संभावना बनी है। आमतौर पर नवंबर और दिसम्बर में कश्मीर, हिमाचल और उत्तराखंड में अच्छी बर्फबारी देखने को मिलती है लेकिन इस बार स्थितियाँ थोड़ी अलग रहीं। अब तक अनेक पश्चिमी विक्षोभ कश्मीर के पास से गुजरे लेकिन उम्मीद के अनुसार प्रदर्शन करने में नाकाम रहे क्योंकि इन सिस्टमों की क्षमता काफी कम रही।

इस समय जम्मू कश्मीर के पास एक प्रभावी पश्चिमी विक्षोभ बना हुआ है। इसके चलते जम्मू कश्मीर के साथ-साथ हिमाचल प्रदेश में पहले से शुरू हुई बारिश और बर्फबारी आज और बढ़ जाएगी। आज दोनों राज्यों में अच्छी गतिविधियां देखने को मिलेंगी। हालांकि उत्तराखंड के कुछ ही इलाके प्रभावित होंगे। राज्य के उत्तरी भागों में कुछ स्थानों पर बारिश और बर्फबारी होगी जबकि निचले इलाकों में मौसम शुष्क रहेगा।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार जम्मू कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में यह इस सीज़न का तीसरा अच्छा दौर होगा। इससे पहले नवंबर के शुरुआत में यानि 2 नवंबर को और उसके बाद 12 नवंबर को अच्छी बारिश और बर्फबारी रिकॉर्ड की गई थी। जबकि नवंबर का दूसरा पखवाड़ा सूखा रहा था। लेकिन एक बार फिर से स्थितियाँ अच्छी बर्फबारी के लिए अनुकूल बनी हैं।

श्रीनगर, गुलमर्ग, पहलगाम, लेह, काजीगुंड, धर्मशाला, मनाली, लाहौल स्पीति, रोहतांग पास सहित अन्य ऊंचे स्थानों पर अगले 24 घंटों तक अच्छी बर्फबारी होने की संभावना है। वैष्णो देवी, पटनीटॉप और शिमला सहित दोनों राज्यों के दक्षिणी भागों में बारिश की उम्मीद है। कल से यानि 11 दिसम्बर से बारिश और बर्फबारी कम हो जाएगी लेकिन कुछ स्थानों पर गतिविधियां जारी रहेंगी।

अनुमान है कि पश्चिमी विक्षोभ अगले 48 घंटों में जम्मू कश्मीर से आगे निकल जाएगा जिससे 12 दिसम्बर से पहाड़ों पर हलचल लगभग शांत हो जाएगी। बारिश बंद होने के बाद बर्फ की चादर में ढँकी वादियों से होकर उत्तर-पश्चिमी बर्फीली हवाएँ चलनी शुरू होंगी। इन हवाओं के कारण पहाड़ों से लेकर उत्तर भारत के मैदानी राज्यों और मध्य भारत तक कड़ाके की ठंड देखने को मिलेगी।

Image credit: NDTV

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।