>  
[Hindi] दिल्ली एनसीआर में लू प्रचंड; अगले कुछ दिनों में पारा बना सकता है नए रिकॉर्ड

[Hindi] दिल्ली एनसीआर में लू प्रचंड; अगले कुछ दिनों में पारा बना सकता है नए रिकॉर्ड

12:40 PM

Delhi heat wave 

राजधानी दिल्ली में कल इस सीजन का सबसे अधिक तापमान रिकॉर्ड किया गया। पालम मौसम केंद्र पर तापमान 46.0 डिग्री सेल्सियस के रिकॉर्ड स्तर पर पहुँचा, जो सामान्य से 6 डिग्री अधिक है। इसी तरह सफदरजंग में भी पारा सामान्य से 4 डिग्री ऊपर 44 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। शुष्क मौसम और सामान्य से अधिक तापमान के बीच कल मंगलवार से दिल्ली इस सीज़न में पहली बार लू की गिरफ्त में आई।

आपको बता दें कि दिल्ली और इससे सटे शहरों में इस भीषण गर्मी से अगले 4-5 दिनों तक राहत मिलने की संभावना नहीं है। अधिकांश इलाके लू की चपेट में रहेंगे क्योंकि इस दौरान उत्तर भारत के पर्वतीय राज्यों में ना तो प्रभावी पश्चिमी विक्षोभ आ रहा है और ना ही मैदानी इलाकों में कोई प्रभावी मौसमी सिस्टम विकसित हो रहा है।

इस स्थिति को देखते हुए स्काइमेट के वरिष्ठ मौसम विशेषज्ञ एवीएम जीपी शर्मा का कहना है कि अगले 4-5 दिनों के दौरान दिल्ली और आसपास के भागों में तापमान नए कीर्तिमान बना सकता है। संभावना है कि इस दौरान पालम में 47-48 डिग्री तक पारा रिकॉर्ड किया जा सकता है। इसके अलावा सफदरजंग सहित दिल्ली के अन्य भागों और नोएडा, गाज़ियाबाद, फ़रीदाबाद तथा गुरुग्राम में भी तापमान 45 डिग्री को पार कर सकता है।

Related Post

हवा उत्तर-पश्चिम दिशा से आ रही है जो शुष्क और गर्म है। इसके चलते जल्द किसी मौसमी हलचल की संभावना नहीं है। हालांकि मौसम विशेषज्ञों का यह भी मानना है कि हवा की दिशा बीच-बीच में बदल रही है जिससे अधिक तापमान को हवा में ज़रा सी भी नमी मिलते ही गरज वाले बादल एक-दो जगहों पर बन सकते हैं जिनसे छिटपुट गर्जना जैसी हलचल की संभावना से इंकार नहीं कर सकते हैं। हालांकि इसके आसार कम ही हैं।

शुष्क मौसम के साथ प्रचंड गर्मी का मौसम दिल्ली सहित उत्तर-पश्चिम भारत में 28-29 मई तक जारी रहेगा। उसके बाद हवाओं का रुख और मौसम का मिजाज़ दोनों बदलेंगे, प्री-मॉनसून हलचल होगी जिससे तेज़ गर्मी से राहत मिलेगी। फिलहाल दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के लिए राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली सहित एनसीआर को अभी लंबा इंतेजार करना है। इसलिए गर्मी से बचने का स्थायी उपाय आप ज़रूर करें।

Image credit: Daily Hunt

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।