>  
[Hindi] गुजरात, विदर्भ, दक्षिणी राजस्थान और मध्य प्रदेश में जल्द लू जैसी गर्मी की संभावना

[Hindi] गुजरात, विदर्भ, दक्षिणी राजस्थान और मध्य प्रदेश में जल्द लू जैसी गर्मी की संभावना

01:36 PM

Heat wave in Rajasthanगुजरात, दक्षिणी राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र में शुष्क मौसम जारी है। मध्य भारत में कई स्थानों पर पारा 40 के पार पहुँच गया है। गुजरात में उत्तर और उत्तर-पश्चिमी हवाएँ चलेंगी। जबकि मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र में पश्चिमी और उत्तर-पश्चिमी शुष्क हवाएँ चलेंगी। इसके चलते इन भागों में तापमान सामान्य से ऊपर बना हुआ है। तापमान में वृद्धि का क्रम आगे भी जारी रहेगा।

इस मौसमी परिदृश्य के बीच पूर्वी गुजरात और विदर्भ जल्द ही लू की चपेट में आ सकते हैं। इसके अलावा दक्षिण-पूर्वी मध्य प्रदेश के भागों में भी एक-दो स्थानों पर लू का प्रकोप देखने को मिल सकता है। इस बीच बंगाल की खाड़ी से विदर्भ में कुछ स्थानों पर आर्द्रता पहुँच रही है। इसके चलते पूर्वी विदर्भ क्षेत्र में इस सप्ताह गरज वाले बादल बनने या गर्जना, धूलभरी आँधी और हल्की वर्षा की संभावना बनी रहेगी।

दूसरी ओर महाराष्ट्र के शेष इलाकों, मध्य प्रदेश और गुजरात सहित अन्य सभी भागों में इस सप्ताह मौसम पूरी तरह से साफ और शुष्क ही बना रहेगा। मुख्यतः शुष्क मौसम की संभावना को देखते हुए मौसम विशेषज्ञों की राय है कि मध्य भारत के ज़्यादातर इलाकों में दिन का तापमान बढ़ते हुए 42-43 डिग्री सेल्सियस से ऊपर पहुँच जाएगा। जिससे कुछ ज़िले जल्द ही लू की चपेट में आ जाएंगे।

इस समय महाराष्ट्र के चन्द्रपुर, गढ़चिरौली और ब्रह्मपुरी देश के सबसे गर्म स्थानों में से हैं क्योंकि इन स्थानों पर अधिकतम तापमान सामान्य से 4-5 डिग्री ऊपर चल रहा है। इससे प्रचंड गर्मी का प्रकोप पहले से ही शुरू हो चुका है। पिछले 24 घंटों के दौरान दिन का तापमान चन्द्रपुर में 44.5 डिग्री, अकोला में 43 डिग्री, परभणी में 42.9 डिग्री, नागपुर में 42 डिग्री और अमरेली में 42 डिग्री रिकॉर्ड किया गया।

Related Post

दूसरी ओर राजस्थान के कई इलाकों विशेषकर जयपुर, जोधपुर, कोटा, जैसलमर, बाड़मेर और बीकानेर में इस समय पारा सामान्य या सामान्य से नीचे बना हुआ है। लेकिन इन भागों में पहुँच रही शुष्क और बेहद गर्म पश्चिमी हवाओं के चलते जल्द ही तापमान में 2-3 डिग्री की बढ़ोत्तरी हो सकती है और लोगों को तेज़ गर्मी का सामान्य करना पड़ सकता है।

Image credit: Wall Street Journal

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।