[Hindi] उदयपुर, कोटा, जालोर, बाड़मेर, टोंक और भिलवाड़ा में भारी बारिश के आसार

June 19, 2019 2:12 PM |

Rain In Rajasthanb

राजस्थान के दक्षिणी जिलों में बीते 24 घंटों के दौरान मौसम की पूरी मेहरबानी देखने को मिली। गुजरात के रास्ते दक्षिण-पूर्वी राजस्थान पर पहुंचे चक्रवात वायु के कारण कई स्थानों पर भारी बारिश दर्ज की गई है। चक्रवात वायु कमजोर होकर निम्न दबाव का क्षेत्र बन गया था लेकिन इसका व्यापक असर राजस्थान के कुछ हिस्सों पर देखने को मिला है।

जालोर, बाड़मेर, सिरोही, उदयपुर और दुर्गापुर में चक्रवात वायु के कारण मूसलाधार बारिश हुई है। स्काइमेट के पास उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक कल यानि मंगलवार सुबह 08:30 बजे से बीते 24 घंटों में चित्तौड़गढ़ में 195 मिमी, उदयपुर में 140 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी है। इसके अलावा कोटा में भी 51 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी।

राजस्थान में इस समय कोटा, जालोर, सिरोही और उदयपुर समेत अधिकांश इलाकों में बारिश के कारण तापमान में कमी बनी हुई है। राज्य में दिन के तापमान में 3-4 डिग्री की गिरावट के साथ मौसम सुहावना बना हुआ है।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक, राजस्थान में आज यानि 19 जून को भी गरज के साथ तेज़ बारिश हो सकती है। इसके अलावा जालोर, बाड़मेर, सिरोही, उदयपुर, दुर्गापुर, बांसवाड़ा, पाली, भिलवाड़ा, चित्तौरगढ़, कोटा, बूंदी, टोंक और अजमेर में भी हल्की से मध्यम बारिश होने के आसार हैं। वहीं राज्य के उत्तरी और पश्चिमी भागों में एक-दो स्थानों पर तेज़ हवाओं के साथ गरज और बारिश होने के आसार हैं।

Also Read In English: Intense rain likely in Udaipur, Kota, Jalore, Barmer, Sirohi, Tonk, Pali and Bhilwara today

मौसम विशेषज्ञों के अनुसार, कल यानि 20 जून को इन मौसमी गतिविधियों में कमी देखने को मिलेगी। हालांकि राज्य के दक्षिणी जिलों में 21 जून तक बारिश जारी रह सकती है। उसके बाद राजस्थान के ज़्यादातर हिस्सों में मौसम शुष्क हो जायेगा। उसके कुछ दिनों के अंतराल के बाद तापमान में बढ़ोत्तरी के साथ लू का प्रकोप दिखने की संभावना है।

Image Credit: Scroll.In

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें ।







For accurate weather forecast and updates, download Skymet Weather (Android App | iOS App) App.

Weather Forecast

Other Latest Stories





latest news

Skymet weather

Download the Skymet App

Our app is available for download so give it a try

×