Skymet weather

[Hindi] मॉनसून 2019: अगस्त की तरह ही मॉनसून की वापसी महीने कहे जाने वाले सितंबर में भी देश के लिए अच्छा रहा मॉनसून का प्रदर्शन

September 19, 2019 9:55 AM |

जुलाई और अगस्त मॉनसून के दो मुख्य महीने होते हैं। जबकि, सितंबर मॉनसून के विदाई का महीना होता है। इस महीने में, मॉनसून की गतिविधियां आमतौर पर विराम ले लेती है। इस अवधि के दौरान, मानदंड और मौसमी गतिविधियां दोनों ही नीचे होती है।

हालांकि, इस सीजन में सितंबर के महीने में भी मॉनसून ने अच्छा प्रदर्शन किया है जो बहुत कम देखने को मिलता है। अगर अगस्त की बात करें तो, इस महीने में भी मॉनसून सक्रिय रहा है।

स्काइमेट के पास उपलब्ध बारिश के आंकड़ों के अनुसार, जून के महीने में बारिश की कमी 33% थी, जबकि जुलाई, अगस्त ने अच्छा प्रदर्शन किया और जुलाई में 105 प्रतिशत तथा अगस्त में 115 प्रतिशत अधिक वर्षा दर्ज हुई थी। सितंबर के महीने में भी कुछ इसी तरह की प्रवृत्ति देखी जा रही है और इस महीने की समाप्ति भी अधिक बारिश के साथ रहने की संभावना है।

Monsoon Performance in August and September, 2019

अगर हम अगस्त और सितंबर की पहले पखवाड़े की तुलना करें तो इन दोनों महीनों में मॉनसून का प्रदर्शन करीब करीब एक ही रहा है। अगस्त के पहले पखवाड़े में बारिश का प्रतिशत 38% था, जिसमें ज्यादातर दिनों में बारिश सामान्य से अधिक रिकॉर्ड की गयी थी।

अगस्त के महीने में भारी बारिश रिकॉर्ड हुई थी। जिसमें 7 से 9 अगस्त के बीच बैक टू बैक बारिश की गतिविधियां देखी गई थी। 8 अगस्त को, 8.7 मिमी की सामान्य बारिश के मुकाबले 19.3 मिमी बारिश दर्ज की गई थी।

देश भर के मौसम का हाल जानने के लिए देखें वीडियो:


सितंबर तक, सामान्य दैनिक वर्षा कम हो जाती है क्योंकि यह मॉनसून के वापसी का महीना होता है। इसलिए इस महीने की औसत बारिश कम है। हालांकि, सितंबर के पहले पखवाड़े में अच्छी बारिश हुई। 13 सितंबर को देश भर में 5.8 मिमी की सामान्य बारिश के मुकाबले 11.5 मिमी बारिश दर्ज की गई जो सामान्य से 98 प्रतिशत अधिक है। सितंबर के पखवाड़े में 36 प्रतिशत अधिक बारिश दर्ज हुई है।

Also, Read In English: Southwest Monsoon 2019: Like August, Monsoon in September also performs well for the country, competition neck to neck

इसके अलावा, जून के महीने में हुई 33 प्रतिशत वर्षा की कमी अगस्त के महीने में हुई अधिक बारिश द्वारा कवर की गई थी। 15 अगस्त तक, पैन इंडिया की बारिश एक प्रतिशत पर थी, लेकिन 15 सितंबर तक पैन इंडिया की बारिश का आंकड़ा चार प्रतिशत हो गया।

वर्षा के आंकड़े को देखते हुए हम कह सकते हैं कि, सक्रिय मानसून की स्थिति अभी भी बहुत स्पष्ट है। लगातार निम्न दबाव वाले क्षेत्र इस मौसम में भारी बारिश देने के लिए जिम्मेदार हैं और फिर भी एक और प्रणाली कतार में है। स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार, सितंबर के बाकी बचे दिनों में अच्छी बारिश होने की संभावना है।

Image credit:  SkymetWeather

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।







For accurate weather forecast and updates, download Skymet Weather (Android App | iOS App) App.

Weather Forecast

Other Latest Stories






latest news

Skymet weather

Download the Skymet App

Our app is available for download so give it a try

×