[Hindi] मॉनसून 2020: पूर्वी उत्तर प्रदेश और पूर्वी मध्य प्रदेश में आगे बढ़ा मॉनसून, इंदौर, रायसेन, खजुराहो, फ़तेहपुर और बहराइच में मॉनसून की दस्तक

June 16, 2020 2:30 PM |

इस साल उम्मीद से अधिक रफ्तार से आगे बढ़ रहा है मॉनसून। 11 जून से हर दिन मॉनसून में प्रगति देखने को मिल रही है। पूर्वी उत्तर प्रदेश में 15 जून को मॉनसून ने दस्तक दी थी और 16 जून को आगे बढ़ते हुए बहराइच तक पहुँच गया। मॉनसून उत्तर प्रदेश में लखनऊ के काफी करीब आ गया है। मध्य प्रदेश में भी सागर, सतना, रीवा, छतरपुर, को पार कर गया है मॉनसून।

पूर्वी उत्तर प्रदेश में बढ़ी बारिश

मॉनसून के आगे बढ़ने के साथ-साथ उत्तर प्रदेश के पूर्वी हिस्सों में बारिश भी तेज़ हो गई है। पिछले 24 घंटों के दौरान उत्तर प्रदेश के पूर्वी हिस्सों में कुछ स्थानों पर भारी बारिश हुई है। गोरखपुर में सबसे ज़्यादा 95 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। बांदा में 29 मिमी, सुल्तानपुर में 20 मिमी और अयोध्या में 19 मिमी बारिश हुई। इसी दौरान वाराणसी, जौनपुर, आजमगढ़, प्रतापगढ़, मिर्ज़ापुर गाज़ीपुर समेत पूर्वी उत्तर प्रदेश के अन्य हिस्सों में भी बारिश हुई है। कानपुर और लखनऊ में हल्की वर्षा दर्ज की गई।

इसी तरह मध्य प्रदेश के पूर्वी तथा उत्तर-पूर्वी हिस्सों में भी मध्यम बारिश देखने को मिली। पंचमढ़ी में 41 मिमी, सिवनी में 31 मिमी, उमरिया में 23 मिमी, रीवा में 16 मिमी और  खजुराहो में 14 मिमी बारिश हुई है। मध्य प्रदेश के यह वो शहर हैं जहां पिछले 24 से 48 घंटों में मॉनसून ने दस्तक दी है।

स्काइमेट के अनुसार दक्षिण-पूर्वी उत्तर प्रदेश पर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है। यही सिस्टम मॉनसून को आगे ले जा रहा है और यही सिस्टम मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में अच्छी बारिश आगे भी देता रहेगा।

सामान्य समय से पहले पहुंचा है मॉनसून

इस वर्ष मॉनसून कई इलाकों में अपने सामान्य समय से पहले पहुंचा है। गुजरात, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के जिन भागों में मॉनसून का आगमन 20 से 25 जून के बीच होता है उन भागों में यह 15-16 जून को ही गया है। देश में खरीफ बुआई मॉनसून की प्रगति और मॉनसून के प्रदर्शन पर बहुत अधिक निर्भर है। ऐसे में मॉनसून का सामान्य समय से पहले आगे बढ़ना और अच्छी बारिश होना कृषि के संदर्भ में अच्छी खबर है।

कहाँ पहुंची एनएलएम

मॉनसून की उत्तरी सीमा 16 जून को कांडला, अहमदाबाद, इंदौर, रायसेन, खजुराहो, फ़तेहपुर और बहराइच तक पहुँच गई है।

1 से 15 जून के बीच देश में सामान्य से 29% अधिक वर्षा हुई है। हम उम्मीद कर रहे हैं कि आने वाले दिनों में मध्य प्रदेश के पूर्वी भागों और उत्तर प्रदेश के पूर्वी तथा मध्य हिस्सों में अच्छी मॉनसून वर्षा होने की संभावना है। पूर्वी मध्य प्रदेश में पिछले 15 दिनों में सामान्य से 201% ज़्यादा वर्षा हुई है। वहीं पूर्वी उत्तर प्रदेश में सामान्य से 14% अधिक वर्षा रिकॉर्ड की गई है। आने वाले दिनों में उत्तर प्रदेश के पूर्वी जिलों में अच्छी मॉनसून वर्षा के चलते हम उम्मीद कर रहे हैं कि आंकड़ों में तेज़ी से वृद्धि देखने को मिलेगी।

मध्य भारत में सबसे ज़्यादा मॉनसून वर्षा

मध्य भारत के राज्यों में इस साल पिछले 15 दिनों के दौरान बारिश काफी व्यापक हुई है। इस क्षेत्र में सामान्य से 90% अधिक बारिश हुई। महाराष्ट्र के विदर्भ में 63% अधिक, मराठवाड़ा में सामान्य से 82% ज़्यादा, मध्य महाराष्ट्र में 98% और कोंकण गोवा क्षेत्र में सामान्य से 60% अधिक वर्षा रिकॉर्ड की गई है। गुजरात के सौराष्ट्र और कच्छ क्षेत्र में 238% और गुजरात क्षेत्र में 139% अधिक बारिश देखने को मिली है।

Image Credit: Indian Express

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।







For accurate weather forecast and updates, download Skymet Weather (Android App | iOS App) App.

Weather Forecast

Other Latest Stories






latest news

Skymet weather

Download the Skymet App

Our app is available for download so give it a try

×