[Hindi] पंजाब के किसान ने धान की पराली खेतों में निपटाने की दिखाई राह

March 6, 2017 1:51 PM |

Punjab Fodder burningसर्दी के मौसम की शुरुआत होते ही दिल्ली सहित उत्तर भारत में प्रदूषण खतरनाक स्तर तक पहुँच जाता है। इस दौरान वातावरण में नमी बढ़ने लगती है जिससे हानिकारक गैसें, धुआँ, धूल इत्यादि प्रदूषण फैलाने वाले कण हवा में नीचे ही बने रहते हैं और प्रदूषण के रूप में बुरी तरह से प्रभावित करते हैं। राजधानी दिल्ली सहित उत्तर भारत के मैदानी राज्यों में लोगों का सांस लेना दूभर हो जाता है। इस दौरान हरियाणा और पंजाब में धान की कटाई और मड़ाई शुरू होती है। उत्तर-पश्चिम भारत में स्थित इन दोनों कृषि प्रधान राज्यों में किसान धान के अवशेष को निपटान के लिए आग के हवाले कर देते हैं। इनसे उठने वाला धुआँ समूचे उत्तर भारत में काले बादल की तरह आसमान पर छा जाता है।

समस्या की गंभीरता को देखते हुए ना सिर्फ राष्ट्रीय हरित अधिकरण और केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय सहित सभी संबद्ध एजेंसियां हरकत में आ जाती हैं बल्कि देश की सर्वोच्च अदालत भी मामले का स्वतः संज्ञान लेकर या जनहित याचिकाओं पर दोनों राज्यों की सरकारों को मामले में सख्त कदम उठाने के निर्देश देते हैं। लेकिन हास्यास्पद तथ्य यह है कि ना तो राज्य सरकारें इसको लेकर गंभीर होती हैं और ना ही पंजाब व हरियाणा के किसानों को इससे कोई फर्क पड़ता है। परिणामस्वरूप यह कवायद मौसम चक्र की तरह की एक निश्चित प्रक्रिया बन गई है। हर वर्ष किसान पिराली के अवशेष जलाते हैं और एजेंसियां सवाल उठती हैं लेकिन होता वही है ढाख के तीन पात।

इस बीच एक प्रेरक खबर पंजाब के जालंधर से आई है। जहां के किसान भूपिंदर सिंह ने 8 साल से पिराली को जलाने की बजाए इसको खेतों में ही निपटना शुरू किया है। इसके दोहरे लाभ से वो उत्साहित हैं। भूपिंदर सिंह का कहना है कि उन्होंने इसके निपटान के लिए एक चॉपर कम स्लाइडर मशीन बनाई है जिसकी मदद से पिराली को खेतों में ही निपटते हैं। यह पिराली सड़कर बाद में जैविक खाद के रूप में फसल के लिए सबसे बेहतर और प्रकृति उर्वरक बन जाती है।

उनके इस प्रयास और नई शुरुआत को पर्यावरण के लिए काफी प्रेरणादायक माना जा रहा है। ज़रूरत है सभी किसानों में इस तरह की कार्यशैली विकसित करने की, जिससे ना सिर्फ पर्यावरण को होने वाले बड़े नुकसान से बचाया जा सके बल्कि जैविक खाद की मदद से कृषि उत्पादों की गुणवत्ता को और बेहतर किया जा सके। किसान भूपिंदर सिंह के अनुसार वह पहले जहां एक एकड़ में 7 बोरी उर्वरक डालते थे वही अब 4 बोरी उर्वरक से अच्छा उत्पादन मिल रहा है।

गौरतलब है कि इस चॉपर कम स्लाइडर मशीन को तैयार करने में 2.5 लाख का खर्च आया है जिसमें 1 लाख की सब्सिडी सरकार की तरफ से मिली है। मीडिया में आई खबरों के अनुसार किसान भूपिंदर सिंह अन्य किसानों को भी ऐसी मशीन के निर्माण और उसके इस्तेमाल के लिए प्रेरित कर रहे हैं।

Image credit: Tribune India

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।

 

 






For accurate weather forecast and updates, download Skymet Weather (Android App | iOS App) App.

Weather Forecast

Other Latest Stories




Weather on Twitter
Tuesday, November 19 20:45Reply
The adjoining cities of #Lucknow, #Chandigarh and many parts of North India also saw some tremors of #earthquake. t.co/0KpzJKzunu
Tuesday, November 19 20:31Reply
The #earthquake occurred at 7:01 p.m. and tremors felt over not only the #Delhi but also over #Noida, #Gurugram,… t.co/ZEgZ3S5A9k
Tuesday, November 19 20:29Reply
The #earthquake has not been intense enough to cause severe damage but only affects a few weak structures. #Delhi a… t.co/zigZAKEskt
Tuesday, November 19 20:28Reply
The #earthquake had epicenter 25 km east northeast of Dipayal in #Nepal, close to the Indo Nepal border, 300 km fro… t.co/SedgYzOFi7
Tuesday, November 19 20:27Reply
An #earthquake of magnitude 5.3 on the Richter scale has hit the Nepal region. Due to this, northern parts of the c… t.co/oVzxNS459l
Tuesday, November 19 20:26Reply
#marathi #WeatherForecast: हवामान अंदाज 20 नोव्हेंबर: जम्मू आणि काश्मीर मध्ये पाऊस, महाराष्ट्रात हवामान कोरडेच t.co/NtZ2PYLsVw
Tuesday, November 19 20:15Reply
बताया जा रहा है कि इस भूकंप का केंद्र नेपाल के दीपयाल से 25 किमी पूर्व-उत्तर पूर्व दिशा में था। #earthquake #Nepalt.co/Tmmjq7Huzh
Tuesday, November 19 20:07Reply
भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 5.0 मापी गई. #earthquake #Delhi #DelhiNCR #DelhiEarthquake t.co/PlvoGTnEyq
Tuesday, November 19 20:06Reply
लखनऊ, चंडीगढ़, नोएडा, गुरुग्राम समेत उत्तर भारत के अन्य कई शहरों में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं #earthquaket.co/095QZPpuhs
Tuesday, November 19 19:46Reply

latest news

Skymet weather

Download the Skymet App

Our app is available for download so give it a try