>  
[Hindi] पहाड़ों पर थमी बर्फबारी, 13-14 मार्च को फिर होगा हिमपात, हिमस्खलन की भी है आशंका

[Hindi] पहाड़ों पर थमी बर्फबारी, 13-14 मार्च को फिर होगा हिमपात, हिमस्खलन की भी है आशंका

08:00 PM

Shimla Snowfall_Indiatoday 600

 

उत्तर भारत में एक के बाद एक पश्चिमी विक्षोभ के आने का सिलसिला जारी है। पहाड़ों पर 12 मार्च को मौसम शुष्क रहा। लेकिन 13 मार्च को एक नया पश्चिमी विक्षोभ आएगा जिसके प्रभाव से 13 मार्च को जम्मू कश्मीर में बारिश शुरू होगी। हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में 14 मार्च को बारिश और बर्फबारी होने की संभावना है। जम्मू कश्मीर और हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले इलाकों में एक-दो स्थानों पर भारी वर्षा और हिमपात हो सकता है। इससे तापमान में व्यापक गिरावट होगी।

भारी हिमपात के कारण जम्मू-श्रीनगर हाईवे भी बंद हो सकता है। पहलगाम, जम्मू, शिमला, धर्मशाला, कुल्लू, केदारनाथ जैसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों पर अच्छी वर्षा व हिमपात का नजारा देखने को मिल सकता है।

Also read in English: Heavy rain and snow to lash Kashmir, Himachal and Uttarakhand in next 48 hours 

अनुमान है कि 13 मार्च को आने वाला पश्चिमी विक्षोभ अधिक सक्रिय होगा जिससे पहाड़ों पर कई जगह बारिश व हिमपात होगा। माना जा रहा है कि यह सिस्टम अधिक समय तक उत्तर भारत के करीब रहेगा जिससे दो-तीन दिनों तक राज्य में वर्षा और हिमपात देखने को मिलेगा। शुरुआत 13 मार्च की शाम को होगी और 15 मार्च की सुबह तक बारिश और बर्फबारी जारी रहेगी।

15 मार्च की दोपहर से पहाड़ों पर मौसम साफ हो जाएगा। लेकिन 13 से 15 के बीच कई जगहों पर भारी बारिश और हिमपात के कारण, अनेक स्थानों पर हिमस्खलन और भूस्खलन की भी आशंका रहेगी। इससे अनेक रास्ते बंद हो सकते हैं। इसलिए मारा सुझाव है कि पर्यटन के लिए अगले कुछ दिनों तक उत्तर भारत के पर्वतीय राज्यों का रुख करना ठीक नहीं होगा।

उत्तराखंड के ऊंचाई वाले इलाकों, जिनमें गंगोत्री, यमुनोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ जैसे इलाकों में 15 मार्च की शाम तक वर्षा व बर्फबारी जारी रहने की संभावना है। उसके बाद 16 मार्च से जब पश्चिमी विक्षोभ काफी आगे निकल चुका होगा, उत्तराखंड के साथ-साथ हिमाचल और जम्मू कश्मीर के लगभग सभी इलाकों में मौसम साफ और शुष्क हो जाएगा।

Image credit: India Today

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।

 

We do not rent, share, or exchange our customers name, locations, email addresses with anyone. We keep it in our database in case we need to contact you for confirming the weather at your location.