Skymet weather

[Hindi] जबलपुर, सागर, सतना, रीवा, बिलासपुर में अगले 24 घंटों तक बारिश जारी रहने के आसार

December 15, 2019 12:16 PM |

उत्तर भारत में आए मौसम में बदलाव की तरह ही मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में भी बारिश की गतिविधियां देखने को मिली हैं। मध्य भारत के इन दोनों राज्यों में कुछ स्थानों पर गरज के साथ बारिश दर्ज की गई। अलग-अलग शहरों की अगर बात करें तो जबलपुर, सागर, सतना, उमरिया, बिलासपुर, पेंड्रा रोड और आसपास के भागों में वर्षा हुई है।

स्काईमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार इस समय अरब सागर से आने वाली आर्द्र हवाओं और उत्तर भारत से आ रही शुष्क हवाओं के मध्य भारत पर एक साथ मिलने के कारण मध्य भारत के भागों पर मौसम सक्रिय हुआ है और कुछ स्थानों पर बारिश देखने को मिल रही है। इन क्षेत्रों में बीते 2 दिनों से मौसम ने करवट ली है जिससे कई शहरों में बारिश दर्ज की गई है।

English Version: Rains to continue in Jabalpur, Sagar and Bilaspur for another 24 hrs

मध्य भारत के इन दोनों राज्यों में पिछले 24 घंटों के दौरान न सिर्फ बारिश हुई है बल्कि सुबह के समय बारिश के साथ-साथ कई इलाकों में घना कोहरा भी छाया है। स्काईमेट के मौसम विशेषज्ञों की मानें तो इन दोनों राज्यों पर कम से कम अगले 24 घंटों तक ऐसी ही स्थितियां बरकरार रहेंगी, जिसकी वजह से पूर्वी मध्य प्रदेश और दक्षिणी छत्तीसगढ़ में कुछ स्थानों पर बादलों की गर्जना के साथ हल्की बारिश रिकॉर्ड की जा सकती है।

बिलासपुर, पेंड्रा रोड, सतना, सागर, पन्ना, उमरिया, जबलपुर, मंडला, बालाघाट, खजुराहो और आसपास के इलाके बारिश से प्रभावित हो सकते हैं। इस समय बारिश होने से दिन के तापमान में गिरावट आती है और सर्दी बढ़ जाती है, और यही हालात देखने को फिलहाल मिल रहे हैं। हालांकि पश्चिमी मध्य प्रदेश और दक्षिणी छत्तीसगढ़ में मौसम मुख्यतः शुष्क बना रहेगा।

पूर्वी मध्य प्रदेश और उत्तरी छत्तीसगढ़ में अधिकांश स्थानों पर दिन के तापमान में 3 से 5 डिग्री सेल्सियस की गिरावट आई है। अगले 24 घंटों तक इसमें बढ़ोतरी नहीं होगी, उसके बाद बारिश का प्रभाव कम होते ही तापमान फिर से बढ़ सकता है। लेकिन बारिश बंद होने के बाद न्यूनतम तापमान में गिरावट देखने को मिलेगी, क्योंकि उत्तर पश्चिमी हवाएं मध्य भारत के भागों तक पहुंचनी शुरू हो जाएंगी, जिससे पहाड़ों पर हुई बर्फबारी का असर मध्य भारत में भी तापमान में गिरावट और बढ़ती सर्दी के रूप में देखने को मिलेगा।

Image credit:  Patrika News

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।







For accurate weather forecast and updates, download Skymet Weather (Android App | iOS App) App.

Weather Forecast

Other Latest Stories






latest news

Skymet weather

Download the Skymet App

Our app is available for download so give it a try

×