>  
[Hindi] ठंड की चपेट में चुरू, चित्तौड़गढ़, हिसार, आगरा, अमृतसर; पारा और जाएगा नीचे

[Hindi] ठंड की चपेट में चुरू, चित्तौड़गढ़, हिसार, आगरा, अमृतसर; पारा और जाएगा नीचे

04:14 PM

Cold wave in Rajasthan-letustravelaround 600

उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में तापमान में गिरावट का सिलसिला आज भी जारी रहा। उत्तर-पश्चिम भारत के ज़्यादातर शहरों में तापमान लगातार तीसरे दिन 5 डिग्री से नीचे रिकॉर्ड किया गया। मैदानी इलाकों में चुरू 0.7 डिग्री सेल्सियस तापमान के साथ सबसे सर्द शहर बना हुआ है। राजधानी दिल्ली में भी न्यूनतम तापमान 5.1 डिग्री दर्ज किया गया। इसके साथ ही कुछ और इलाके शीतलहर की चपेट में आ गए हैं।

उत्तर-पश्चिमी दिशा से लगातार आ रही ठंडी हवाओं के कारण तापमान में यह गिरावट हो रही है। हालांकि राहत की बात यह है कि हवा की रफ्तार 8-10 किलोमीटर के बीच बनी हुई है जिससे घना कोहरा अब तक देखना को नहीं मिला है। मौसम विशेषज्ञों के अनुसार जब तापमान 5 डिग्री से नीचे हो, हवा की औसत रफ्तार 5 किलोमीटर प्रतिघण्टे से कम हो और नमी अधिक हो तब घना कोहरा बनने की प्रबल संभावना होती है।

इस समय पंजाब, हरियाणा, उत्तरी राजस्थान, दिल्ली के अलावा पश्चिमी उत्तर प्रदेश के भी कुछ शहरों विशेषकर आगरा, मुजफ्फरनगर और आसपास के इलाकों में न्यूनतम तापमान 5 डिग्री सेल्सियस से नीचे रिकॉर्ड किया जा रहा है। देश के मैदानी क्षेत्रों में 10 सबसे ठंडे स्थानों की सूची नीचे दिए टेबल में देख सकते हैं।

coldest19.12

मौसम विशेषज्ञों का मानना है कि इस समय जम्मू कश्मीर के पास एक नया पश्चिमी विक्षोभ पहुंचा है। लेकिन यह कमजोर है जिससे उत्तर-पश्चिमी हवाएँ बाधित नहीं होंगी बल्कि इस सिस्टम के कारण कश्मीर में हो रही हल्की बर्फबारी का असर भी मैदानी इलाकों तक देखने को मिलेगा। अगले 2-3 दिनों के दौरान तापमान में हल्की गिरावट होगी जिससे सर्दी और निष्ठुर हो जाएगी।

राजस्थान में चुरू, भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़, पंजाब में अमृतसर और लुधियाना, हरियाणा में हिसार जैसे कई इलाकों में अगले 2-3 दिनों के दौरान पाला पड़ने के लिए मौसम अनुकूल है। इस दौरान कहीं-कहीं हल्के से मध्यम कोहरा भी छा सकता है। लेकिन घना कोहरा फिलहाल नहीं दिखेगा। दिल्ली में प्रदूषण से भी राहत बनी रहेगी।

Image credit: LetusTravel Around

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।