Skymet weather

[Hindi] तापमान में गिरावट के बावजूद, प्रयागराज में गर्म और उमस भरे मौसम से कोई राहत नहीं

June 2, 2019 4:43 PM |

Heat wave in Prayagraj

प्रयागराज, जिसे इलाहाबाद के रूप में भी जाना जाता है, पिछले कई दिनों से बेहद गर्म मौसम से जूझ रहा है। 30 मई को, अधिकतम तापमान 48.6 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया था, जो अभी तक का सबसे ज़्यादा अधिकतम तापमान है। इससे पहले 30 मई 1994 को 48.4 डिग्री सेल्सियस रेकॉर्ड किया गया था।

तब से शहर में भीषण गर्मी ने अपनी पकड़ और मजबूत कर ली है। शुक्रवार और शनिवार को प्रयागराज में अधिकतम तापमान में कम से कम चार डिग्री कि गिरावट देखी गयी। दिन का तापमान 44.5 डिग्री सेल्सियस पर रेकॉर्ड किया गया, जो कि फिर भी सामान्य से दो डिग्री अधिक रहा।

इस गिरावट के लिए को हवा की दिशा में बदलाव को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है। लेकिन राहत मिलने के बजाए स्थिति और भी खराब हो गयी है। स्काईमेट वेदर के अनुसार, गर्म और शुष्क उत्तरपश्चिमी हवाओं को नम पूर्वी हवाओं से बदल गई हैं। एक ट्रफ पंजाब से मणिपुर तक देखी जा सकती है जो कि मैदानी इलाकों से होकर गुज़र रही है।

इसके मद्देनजर, आर्द्रता के स्तर में उल्लेखनीय रूप से वृद्धि हुई है, जिसके कारण तापमान लगभग 48 ° C पर महसूस हो रहा है।

इस प्रकार, शहर के निवासियों को कम से कम अगले 2-3 दिनों तक चिलचिलाती गर्मी और उमस भरे मौसम से जूझना होगा। दोपहर के घंटे बहुत असहज होंगे। हालाँकि आस-पास के क्षेत्रों में धूल भरी आँधी की संभावना है, लेकिन प्रयागराज को कोई राहत नहीं मिलेगी।

राहत कि उम्मीद 4 या 5 जून के बाद देखी जा सकती है, जब परिस्थिति धूल भरी आंधी या बारिश के लिए अनुकूल हो सकती है। उस समय, हमें बेहद गर्म मौसम की स्थिति से कुछ राहत मिलेगी।

स्थानीय लोगों को सलाह दी जाती है कि वे सावधानी बरतें यानी खुद को हाइड्रेटेड रखें और धूप में बाहर ना निकलें। गर्मी में लू लगने का खतरा बना हुआ है।

 Image Credit: Pinterest

कृपया ध्यान देंस्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।







For accurate weather forecast and updates, download Skymet Weather (Android App | iOS App) App.

Weather Forecast

Other Latest Stories






latest news

Skymet weather

Download the Skymet App

Our app is available for download so give it a try

×