[Hindi] बिहार में 54 बच्चों के मौत की वजह बना चिलचिलाती धुप, उमस और लीची

June 14, 2019 10:53 PM |

Bihar

बिहार के मुजफ्फरपुर में संदिग्ध एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) यानी चमकी बुखार के कारण मरने वाले बच्चों की संख्या बढ़कर 54 हो गई है। मुजफ्फरपुर जिले के श्रीकृष्णा मेडिकल कॉलेज ऐंड हॉस्पिटल में अभी तक 46 बच्चों की मौत हो चुकी है। वहीं केजरीवाल मातृ सदन (केएमएस) में 8 बच्चों की मौत हो चुकी है। गुरुवार तक कुल मिलाकर यह आंकड़ा 54 तक पहुंच गया।

इस साल जनवरी से कुल 179 संदिग्ध एईएस मामले सामने आए हैं। इस बीच यह भी सवाल उठने लगे हैं कि कहीं इन बच्चों की मौत के पीछे लीची तो वजह नहीं है?

क्या है मामला

दरअसल बात यह है कि, गर्मियों के दौरान इस इलाके के गरीब परिवारों से संबंधित बच्चों को आमतौर पर नाश्ते के लिए सुबह से ही लीची खाने को दी जाती है। लीची के बारे में ऐसा कहा जाता है कि, यह फल बच्चों में घातक मेटाबॉलिक बीमारी पैदा करता है, जिसे हाइपोग्लाइसीमिया इंसेफेलोपैथी कहा जाता है।

यह भी पढ़ें: बिहार में भीषण गर्मी और लू की स्थिति, जून के शुरुआती दौर में मिल सकती है थोड़ी राहत

क्या कहते हैं डॉक्टर

मीडिया में आयी खबरों के मुताबिक, मौतों के कारणों की जांच के लिए स्वास्थ्य विशेषज्ञों की सात सदस्यीय केंद्र सरकार की टीम मुजफ्फपुर में है। बिहार के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने दावा किया है कि अधिकांश मौतें हाइपोग्लाइसीमिया (शरीर में अचानक शुगर की कमी) के कारण हुई हैं।

मौसम बना जानलेवा

मीडिया में आयी खबरों के मुताबिक, डॉक्टरो का कहना है कि, इसके पीछे का कारण इस इलाके में चिलचिलाती गर्मी, नमी और बारिश का न होना है। पहले की रिपोर्टों में कुछ स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने एईएस के कारण हो रही इन मौतों के पीछे लीची का होना बताया था। कहा जा रहा था कि मुजफ्फरपुर के आस-पास उगाई जाने वाली लीची में कुछ जहरीले तत्व हैं, जो इस बीमारी और मौतों का कारण हैं।

यह भी पढ़ें: बिहार के पटना, पूर्णिया, भागलपुर, मुजफ्फरपुर, दरभंगा और सुपौल में जारी प्री-मॉनसून बारिश

सुबह नाश्ते में लीची खा रहे हैं कुछ लोग

गर्मियों के दौरान इस इलाके के गरीब परिवारों से संबंधित बच्चों को आमतौर पर नाश्ते के लिए सुबह से ही लीची खाने को दी जाती है। ऐसा माना जाता है कि यह फल बच्चों में घातक मेटाबॉलिक बीमारी पैदा करता है, जिसे हाइपोग्लाइसीमिया इंसेफेलोपैथी कहा जाता है। लीची में मिथाइल साइक्लोप्रोपाइल-ग्लाइसिन (MCPG), नाम का एक केमिकल भी पाया जाता है।

बिहार के स्वास्थ्य अधिकारियों ने माता-पिता को सलाह दी है कि वह अपने बच्चों को खाली पेट लीची न खिलाएं और आधा पका हुआ या बिना लीची वाला भोजन ही करें।

Image Credit: Foodie Baniya

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें ।


For accurate weather forecast and updates, download Skymet Weather (Android App | iOS App) App.

Weather Forecast

Other Latest Stories

Weather on Twitter
स्कायमेटने वर्तविलेल्या अचूक अंदाजानुसार, गेल्या आठवड्यात मध्य प्रदेशात मुसळधार व गुजरात आणि पूर्व राजस्थानात देखील… t.co/GDwHssHHws
Monday, September 16 21:00Reply
#Rainfall activities are likely throughout the week over both the region. During the first half of the week, #rainst.co/IShQuXDLAT
Monday, September 16 20:30Reply
17 सितंबर मॉनसून पूर्वानुमान: पूर्वी और मध्य उत्तर प्रदेश में अच्छी बारिश की उम्मीदI #Hindi #Monsoon #UttarPradesh t.co/Sfx5pKmULH
Monday, September 16 20:15Reply
There are chances of scattered rains over West #UttarPradesh but these rains would not be seen all over the places. t.co/zzscn5yqYr
Monday, September 16 20:00Reply
#Marathi मुंबईसह संपूर्ण महाराष्ट्रात पावसाचा जोर वाढणे अपेक्षित #Mumbai #MumbaiRains t.co/eXeyK2LOFd
Monday, September 16 19:45Reply
मॉनसून जाने से पहले एक बार फिर से मध्य प्रदेश सहित मध्य भारत के कुछ भागों बारिश देने वाला है। #Hindi #Monsoont.co/wuk1uyFUGk
Monday, September 16 19:30Reply
#Monsoon Forecast Sep 17: #UttarPradesh, #Bihar, #Jharkhand, #Assam to see active Monsoon conditions. #Monsoon2019 t.co/tEFKtrlcKy
Monday, September 16 19:15Reply
Monday, September 16 19:00Reply
लखनऊ, वाराणसी, प्रयागराज, जोनपुर गोरखपुर कानपुर व ,अमेठी सहित बिहार के पटना,गया ,मगलपुर,भागलपुर सहित किशनगंज,'पूर्… t.co/E9805ZutTO
Monday, September 16 18:45Reply
We expect #MumbaiRains to go light but some localised moderate spells cannot be ruled out during the next 24 hours.… t.co/PhiTbnI9a3
Monday, September 16 18:33Reply

latest news

Skymet weather

Download the Skymet App

Our app is available for download so give it a try