Skymet weather

Mumbai Rains: मुंबई सहित पश्चिमी तट पर भारी बारिश की आशंका

भारत के पश्चिमी तट पर अगले कुछ दिनों में भारी से बहुत भारी बारिश होने की संभावना है। बता दें, पश्चिमी तट में ही मुंबई शामिल है। ऐसा तब होने जा रहा है जब यह क्षेत्र पिछले सप्ताह ही मध्यम से भारी बारिश झेल चुका है।

आने वाले दिनों की भारी बारिश कई कारकों के संयोजन के कारण होगी। जैसे दक्षिण गुजरात से लेकर केरल तट तक सक्रिय एक तटीय गर्त नमी को खींच रहा है और भारी बारिश का कारण बन रहा है। बता दें, पिछले दो दिनों में दक्षिणी गुजरात, कोंकण और गोवा, तटीय कर्नाटक, और केरल में मध्यम से भारी बारिश हो रही है।

बारिश की स्थिति अगले 2-3 दिनों में तीव्र होने की उम्मीद है, खासकर गोवा और महाराष्ट्र के तट पर भारी बारिश की भविष्यवाणी की गई है। स्काईमेट ने भी मुंबई में 15 जुलाई से 17 जुलाई के बीच भारी से बहुत भारी बारिश की भविष्यवाणी की है।

तटीय गर्त के अलावा, एक और मौसम प्रणाली भी भारी बारिश की संभावना को बढ़ा रही है। पूर्व-मध्य अरब सागर के ऊपर, तटीय महाराष्ट्र के पास एक चक्रवाती परिसंचरण बन गया है। साथ ही, पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक निम्न दबाव क्षेत्र विकसित हो रहा है। इन प्रणालियों के बीच फैली एक गर्त के साथ, महाराष्ट्र, तेलंगाना, तटीय आंध्र प्रदेश, और मराठवाड़ा में बारिश के लिए अनुकूल परिस्थितियाँ बनेंगी।

सबसे भारी बारिश मुंबई, सिंधुदुर्ग, रत्नागिरी, गोवा और तटीय कर्नाटक के हिस्सों में होने की उम्मीद है। यहां जहां बारिश की मात्रा तीन अंकों (मिलीमीटर में) तक पहुंच सकती है। सांगली, सतारा, और कोल्हापुर जिलों में भी भारी बारिश के आसार हैं।

मौसम का पैटर्न 16 और 17 जुलाई तक बदलने की उम्मीद है, जिसमें सबसे भारी बारिश उत्तरी कोंकण, गोवा, और दक्षिण गुजरात के हिस्सों में केंद्रित होगी।

भारी बारिश के पूर्वानुमान के कारण दक्षिण गुजरात, कोंकण, और गोवा में बाढ़ का महत्वपूर्ण खतरा है। अधिकारियों को संभावित नुकसान को कम करने और सार्वजनिक सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक एहतियात बरतने की सलाह दी जाती है। इन क्षेत्रों के निवासियों से अनुरोध है कि वे मौसम के अपडेट के बारे में सूचित रहें और स्थानीय अधिकारियों द्वारा जारी सभी सलाहों का पालन करें।

[Hindi] सम्पूर्ण भारत का जुलाई 14, 2024 का मौसम पूर्वानुमान

देश भर में मौसम प्रणाली:

समुद्र तल पर मानसून मानसून की अक्षय रेखा अमृतसर, चंडीगढ़, मेरठ, शाहजहांपुर, बाराबंकी, मुजफ्फरपुर, आसनसोल, कृष्णानगर और फिर पूर्व दक्षिण-पूर्व की ओर बंगाल की खाड़ी के उत्तर-पूर्व की ओर से गुजर रहा है।

उत्तर-पूर्व असम और उसके आसपास के इलाकों में एक चक्रवाती परिसंचरण बना हुआ है।

एक द्रोणिका पूर्वोत्तर असम से लेकर उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी तक समुद्र तल से 0.9 किलोमीटर ऊपर फैली हुई है।

एक चक्रवाती परिसंचरण उत्तरी गुजरात और उसके आसपास के इलाकों में समुद्र तल से 3.1 किलोमीटर ऊपर बना हुआ है।

एक द्रोणिका दक्षिण गुजरात तट से उत्तरी केरल तट तक फैली हुई है।

पिछले 24 घंटों के दौरान देश भर में हुई मौसमी हलचल

पिछले 24 घंटों के दौरान, कोंकण और गोवा, केरल और तटीय कर्नाटक में मध्यम से भारी बारिश हुई।

छत्तीसगढ़, तटीय आंध्र प्रदेश, मध्य प्रदेश और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ भारी बारिश हुई।

उत्तराखंड और अरुणाचल प्रदेश में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक या दो बार भारी बारिश हुई।

राजस्थान, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर, पंजाब के कुछ हिस्सों, पूर्वोत्तर भारत, सिक्किम, पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड, ओडिशा के कुछ हिस्सों, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और लक्षद्वीप में हल्की से मध्यम बारिश हुई।

आंतरिक कर्नाटक, विदर्भ और मराठवाड़ा में हल्की बारिश हुई।

अगले 24 घंटों के दौरान मौसम की संभावित गतिविधि

अगले 24 घंटों के दौरान, कोंकण और गोवा, कोंकण और गोवा, तटीय कर्नाटक और केरल में मध्यम से भारी बारिश संभव है।

उत्तराखंड, असम, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, मध्य महाराष्ट्र, दक्षिण गुजरात, विदर्भ, तेलंगाना के कुछ हिस्सों और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है।

लक्षद्वीप, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, मराठवाड़ा, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और लक्षद्वीप में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।

लद्दाख, जम्मू कश्मीर, पश्चिम बंगाल के गंगीय क्षेत्र, सौराष्ट्र और कच्छ, रायलसीमा, आंतरिक कर्नाटक, तमिलनाडु, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, राजस्थान और दिल्ली में हल्की बारिश संभव है।

किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।

Heavy to Very Heavy Rain Expected to Lash West Coast, Including Mumbai:

The West Coast of India, including Mumbai, is bracing for heavy to very heavy rainfall over the next few days. This comes after the region has already experienced moderate to heavy rain since last week.

The upcoming downpour will be due the combination of factors. Such as an active offshore trough stretches from South Gujarat to the Kerala coast, which has been channelling moisture and causing widespread showers. Southern districts of Gujarat, Konkan and Goa, coastal Karnataka, and Kerala have all seen moderate to heavy rainfall over the past two days.

The situation is expected to intensify over the next 2-3 days, with particularly heavy rain forecast for Goa and the Maharashtra coast. Mumbai itself is likely to be hit hard, with the skymet predicting heavy to very heavy rain between July 15th and 17th.

Beyond the offshore trough, another weather system is adding to the potential for heavy rain. A cyclonic circulation has formed over the east-central Arabian Sea, near coastal Maharashtra. Additionally, a low-pressure area is developing over the West Central Bay of Bengal. These systems, combined with a trough extending between them, will create favourable conditions for significant rainfall across Maharashtra, Telangana, coastal Andhra Pradesh, and Marathwada.

The heaviest rainfall is expected over Mumbai, Sindhudurg, Ratnagiri, Goa, and parts of coastal Karnataka, where rainfall amounts could reach three digits (in millimeters). Heavy rain is also forecast for Sangli, Satara, and Kolhapur districts in Maharashtra.

The weather pattern is expected to shift by July 16th and 17th, with the heaviest rainfall concentrating over North Konkan, Goa, and parts of South Gujarat.

Given the intensity of the predicted rainfall, there is a significant risk of flooding in South Gujarat, Konkan, and Goa. Authorities are advised to take necessary precautions to minimize potential damage and ensure public safety. Residents in these areas are urged to stay informed about weather updates and follow any advisories issued by local authorities.

Image Credit: www.livemint.com

Wait Gets Longer For La Nina; IOD-ENSO Remain Neutral

The ocean temperatures along the central and equatorial Pacific are cooling off and ENSO neutral conditions are establishing all along the Nino regions in the Pacific Ocean. However, residual effect of the exiting El Nino on global temperatures still remains.  Nino 3.4 region, the principal indicator of Oceanic Nino Index (ONI) continue to be reasonably warm. The index, once absolute neutral  with zero-zero , regained the ocean warmth  and stays positive neutral at +0.3°C. The SST anomalies all along the Nino region necessarily need to drop below zero for establishing the much awaited La Nina.

ENSO: The rate and extent of cooling, both at the surface and at depth has slowed during June. There is no broad agreement amongst the models about the timelines for La Nina. At best, 50% of these suggest that from August, SST’s are likely to remain at neutral ENSO levels and the rest half go in with the possibility of reaching La Nina level (below -0.5°C) in September. La Nina watch remains ‘on’ but that is no guarantee for La Nina development at some fixed timelines. As per Australian Bureau’s ENSO outlook, central tropical Pacific is likely to cool for at least the next two months.

There has been an irregular rise and fall in the anomalies across the equatorial Pacific Ocean. The most volatile being Nino 3.4 and Nino 1+2 region. Understandably, Nino 1+2 region being proximus to the coast is more vulnerable to churning and consequently the variations. However, Nino 3.4 region has mysteriously adopted an undulating pattern. For the last three weeks, the anomaly is holding steady between 0.3-0.4°C. It ranks amongst one of the longest episode of ENSO transition from El Nino to neutral and further to La Nina.

IOD: The IOD events are frequently observed to co-occur with the ENSO conditions in the tropical Pacific. Specifically, positive IOD events are typically accompanied by El Nino events, while negative IOD events are commonly linked to La Nina events. It remains a contentious issue whether ENSO conditions can drive climate anomalies that extend beyond the tropical Pacific, affecting global climate through atmosphere and ocean teleconnections. Some of the researchers have opined and considered ENSO as an important external forcing for the IOD sea surface temperature variability. Some earlier studies argued that the IOD might be an external mode and unlikely to get influenced by ENSO conditions. With such conflicting views, the IOD dynamics have remained open to debate.

The IOD is currently neutral. The latest weekly IOD index for the week ending 07thJuly 2024 was -0.19°C. The climate models suggest that the IOD will remain neutral until at least autumn beyond which IOD predictability is low. It may be construed that IOD may remain silent and could play only intrinsic role during monsoon.

MJO: The MJO is weak to moderate in strength. It is likely to remain weak  for the next fortnight or so. The MJO pulse is likely to meander over eastern Indian Ocean  with limited amplitude. It may further transition  to the Maritime Continent in Phase 4 & 5. It may not help trigger any uptick in the weather activity over Indian seas.

After going through a vigorous phase, the southwest monsoon has lessened its fury. Yet, active monsoon conditions will prevail over the central parts of the country. Rains may even be dragged to Gujarat. The state may experience heavy spell of the monsoon covering most parts.

Weather update and forecast for July 14 across India

The weather system over the country:

The monsoon at mean Sea level continues to pass through Amritsar, Chandigarh, Meerut, ShahJahanpur, Barabanki, Muzaffarpur, Asansol, Krishnanagar, and thence east southeastwards to the northeast Bay of Bengal.

A cyclonic circulation is over northeast Assam and adjoining areas.

A trough extends from the cyclonic circulation over Northeast Assam to northwest Bay of Bengal at 0.9 Km above mean Sea level.

A cyclonic circulation is over north Gujarat and adjoining areas at 3.1 Km above mean Sea level.

A trough extends from the south Gujarat coast to the north Kerala coast.

Weather Activity in the last 24 hours:

During the last 24 hours, Moderate to heavy rain occurred over Konkan and Goa, Kerala, and coastal Karnataka.

Light to moderate rain with a few heavy spells occurred over parts of Chhattisgarh, coastal Andhra Pradesh, Madhya Pradesh, and Andaman and Nicobar Islands.

Light to moderate rain with one or two heavy spells occurred over Uttarakhand and Arunachal Pradesh.

Light to moderate rain occurred over Rajasthan, Himachal Pradesh Jammu Kashmir parts of Punjab, northeast India, Sikkim, West Bengal, Bihar, Jharkhand, parts of Odisha, Uttar Pradesh, Madhya Pradesh, Telangana, Andhra Pradesh, Tamil Nadu, and Lakshadweep.

Light rain occurred over the interior Karnataka, Vidarbha, and Marathwada.

Weather Activity in the next 24 hours:

During the next 24 hours, Moderate to heavy rain is possible over Konkan and Goa, Konkan and Goa, coastal Karnataka, and Kerala.

Light to moderate rain with a few heavy spells may occur over Uttarakhand, Assam, Meghalaya, Arunachal Pradesh, Madhya Pradesh, Madhya Maharashtra, south Gujarat, Vidarbha, parts of Telangana, and Andaman and Nicobar Islands.

Light to moderate rain may occur over Lakshadweep, Himachal Pradesh, Haryana, Punjab, Uttar Pradesh, Bihar, Jharkhand, Marathwada, West Bengal, Odisha, Andhra Pradesh, Tamil Nadu, and Lakshadweep.

Light rain is possible over Ladakh, Jammu Kashmir, Gangetic West Bengal, Saurashtra and Kutch, Rayalaseema, interior Karnataka, Tamil Nadu, Manipur, Mizoram, Tripura, Rajasthan, and Delhi.

Any information picked from here must be attributed to Skymet Weather

छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र में भारी बारिश, इस दिन से होगी शुरूआत

देश के मध्य भागों में भारी बारिश का लंबा दौर शुरू होने वाला है। बारिश पूर्व से पश्चिम की ओर बढ़ेगी और ओडिशा, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र तक फैल कर पूरे हिस्से को कवर कर सकती है। बारिश का फैलाव (बारिश बेल्ट) गुजरात और राजस्थान के हिस्सों में भी पहुंचेगा। इन राज्यों में बारिश का फैलाव ज्यादा होगा और इसकी तीव्रता मध्यम से भारी तक हो सकती है।

मध्य भागों में मानसून सक्रिय: 14 जुलाई को उत्तर पश्चिमी बंगाल की खाड़ी (बीओबी) और ओडिशा के तटीय भागों पर चक्रवाती परिसंचरण से पहले एक कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है। उससे पहले इसी क्षेत्र पर एक व्यापक चक्रवाती परिसंचरण बनेगा और लगभग 48 घंटों तक सक्रिय रहेगा। यहां हवाओं का संगम, कतरनी(शीयर जोन) क्षेत्र का निर्माण और हवाओं के तेज मोड़ से भंवर में बढ़ जाएगा। इन सभी विशेषताओं के एक साथ असर से देश के मध्य भागों में क्रमबद्ध( एक के बाद दूसरा) तरीके से सक्रिय मानसून की स्थिति होने की संभावना है।

इन दिन होगी बारिश शुरू: सबसे पहले ओडिशा के अंदरूनी हिस्सों, छत्तीसगढ़ के दक्षिणी भाग और पूर्वी मध्य प्रदेश में 12 से 14 जुलाई के बीच भारी बारिश होगी। कम दबाव का क्षेत्र बनने के बाद 16 से 17 जुलाई के बीच लगभग 20°N अक्षांश के आसपास एक लम्बा पूर्व-पश्चिम शियर ज़ोन बनेगा।  इसके अलावा बंगाल की खाड़ी से पूर्वी हवाओं और अरब सागर से आने वाली पश्चिमी हवाओं के बीच हवाओं का संगम कतरनी क्षेत्र(शीयर जोन) के दोनों ओर बनेगा।

राजस्थान और गुजरात में भी बारिश: इसके बाद 18 जुलाई को उत्तरी बीओबी पर एक और चक्रवाती परिसंचरण बनने की संभावना है। जो म्यांमार के पूर्वी तट से लेकर उत्तरी ओडिशा के तटीय भागों तक फैलेगा। इसके बाद चक्रवाती परिसंचरण ओडिशा, छत्तीसगढ़ और विदर्भ के कुछ हिस्सों में संगठित होकर प्रवेश करेगा। मौसम प्रणाली की यह विशेषता लगभग तीन दिनों तक इन क्षेत्रों में घूमती रहेगी। 12 से 20 जुलाई के बीच ओडिशा, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र में सक्रिय से जोरदार मानसून गतिविधि की उम्मीद है। इस अवधि के आखिरी दो दिनों(19 और 20 जुलाई) के दौरान राजस्थान और गुजरात के कुछ हिस्सों में मध्यम बारिश होने की संभावना है।

जल्द बनेगा निम्न दबाव क्षेत्र, मध्य भारत में मानसून होगा तेज

पिछले लगभग एक हफ्ते से मौसमी मानसून ट्रफ के कारण मानसून गतिविधि (बारिश, आँधी) जारी रही है। बंगाल की खाड़ी से आने वाले अधिक शक्तिशाली ट्रिगर दबे हुए हैं। अब, बंगाल की खाड़ी में जल्द ही निम्न दबाव क्षेत्र बनने की प्रबल संभावना है। पिछले कुछ दिनों से दैनिक मानसून वर्षा सामान्य से काफी नीचे चली गई है, लेकिन बारिश फिर से बढ़ जाएगी। मानसून फैलाव में कमी के कारण मौसमी वर्षा 102% LPA से शून्य-शून्य पर आ गई है और आज -1% तक गिर सकती है। इससे नकुसान से भरपाई होने की संभावना है। और अगले सप्ताह किसी समय फिर से सीमा से ऊपर जा सकती है।

इन राज्यों से होकर गुजरेगी वर्षा बेल्ट: तप पर निम्न दबाव क्षेत्र के पूर्व संकेत के रूप में 12 जुलाई को ओडिशा तट के पास एक गहरा ट्रफ बनने की संभावना है। यह 13 जुलाई को एक परिसंचरण में बदल जाएगा। अनुकूल परिस्थितियों के कारण जुलाई का पहला निम्न दबाव क्षेत्र 14-15 जुलाई के बीच उत्तर पश्चिम बंगाल की खाड़ी में कभी भी उभरने की संभावनाएँ बढ़ जाएगी। इसके बाद, मौसम प्रणाली देश के मध्य भागों में जाएगी। ताकि मानसून की धारा को मानसून वर्षा क्षेत्र के कोर पर ले जाया जा सके। वर्षा बेल्ट ओडिशा, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश से होकर गुजरेगी।

इन राज्यों दोबारा सक्रिया होगा मानसून: मध्यप्रदेश में, अरब सागर से आने वाली मानसून की पश्चिमी धारा भी गति पकड़ेगी। जिससे महाराष्ट्र, कोंकण, गुजरात और राजस्थान के कुछ हिस्सों में भूमि-लॉक उप-विभाजनों पर मानसून गतिविधि बढ़ जाएगी। मुंबई और दक्षिण गुजरात को अगले सप्ताह के मध्य के आसपास बाढ़ का खतरा हो सकता है। मानसून गतिविधि के विस्तार के रूप में  देश के उत्तरी हिस्सों के साथ  राजस्थान, पंजाब और हरियाणा में भी अगले सप्ताह फिर से सक्रिय हो सकता है।

Heavy Rains Over Chhattisgarh, Madhya Pradesh, Maharashtra

Heavy Rains in Central parts of the country, Image: Reuters

Central parts of the country are poised for long spell of heavy rains.  Rains will travel from east to west and may cover the entire stretch extending from Odisha, Chhattisgarh, Madhya Pradesh and Maharashtra. Peripherals of the rain belt will encroach parts of Gujarat and Rajasthan as well. Spread of rains will be large in the respective states and intensity varying from moderate to heavy.

A low pressure area, preceded by a cyclonic circulation is likely to form over Northwest Bay of Bengal (BoB) and coastal parts of Odisha on 14thJuly. Prior to that, a broad cyclonic circulation will form over the same area and remain in the process of organization for nearly 48 hours. There will be confluence of winds,  generation of shear zone and sharp turning of winds increasing vorticity. Under the combined influence of these features, active monsoon conditions are likely over the central parts of the country in a staggered manner.

To start with, interiors of Odisha, southern half of Chhattisgarh and East Madhya Pradesh will fall prey to these heavy rains between 12th and 14thJuly. After formation of a low pressure area, an elongated east-west shear zone will form, roughly along 20°N between 16th and 17th July. Additionally, the confluence of winds between turning easterlies from BoB and westerlies from the Arabian Sea will form on either side of the shear zone.

Subsequently, there is likelihood of another cyclonic circulation coming up over North BoB stretching from the eastern coast of Myanmar to coastal parts of North Odisha on 18thJuly. This will consolidate and move inland over parts of Odisha, Chhattisgarh and Vidarbha. This feature will, by and large meander over this area for nearly three days.  Active to vigorous monsoon activity is expected over Odisha, Chhattisgarh, Madhya Pradesh, Maharashtra between 12th and 20thJuly. Moderate rains are likely to reach some parts of Rajasthan and Gujarat during last two days of  this period.

Image Credit: Reuters

Mumbai Rains: Monsoon Mayhem In Mumbai, Long Spell Of Heavy Rains Likely

Heavy rain in Mumbai, Image: The Indian Express

Mumbaikars woke up today to witness heavy downpour, flooding roads and railway lines. Air traffic getting disrupted with congestions and delays. Low lying areas and streets getting inundated.  Downpour intensified in the early morning hours resulting traffic snarls for the commuters. Santacruz observatory amassed 116mm rainfall till 8:30 am, the third three digit rainfall in 24 hours during first half of July. The rains continue unabated  and may become heavier through the day.

As predicted, the heavy rainfall was expected to commence early on the weekend and go on for next 5-6 days. Intermittent to continuous heavy rains are likely  with short breaks only. Situation may compound further with high tide in the afternoon around 4 p.m.  Water will not find any easy exit during the tide and rather reverse flow will worsen the situation. Saturated surfaces may not absorb any further inflow of water and deepen the waterlogged and stagnated pools.

The intensity and spread of rains will increase further and the wet spell will carry on till mid-week next. There could be slight breather, wherein the rain intensity may reduce marginally on 17th and 18thJuly. However, after this short breather, rains will become forceful and damaging, once again, after 19thJuly. An update on the likely conditions will be more reliable after 48 hours. In all probabilities, Mumbai will catch up with its normal monthly rainfall during the current spell itself.

Image Credit: The Indian Express

मुंबई में मानसून का कहर, लंबे समय तक भारी बारिश की संभावना

मुंबईकरों की आज नींद खुली तो उन्होंने भारी बारिश से सड़कों और रेलवे लाइनों पर पानी भर जाने का नजारा देखा। सुबह-सुबह हुई बारिश तेज से यात्रियों को यातायात में परेशानी हुई। क्योंकि भारी बारिश के कारण हवाई यातायात बाधित हो गया और भीड़भाड़ बढ़ गई। बारिश के पानी से निचले इलाकों और सड़कों पर जलभराव हो गया है। सांताक्रूज़ वेधशाला में सुबह 8.30 बजे तक 116 मिमी बारिश हुई, जो जुलाई की पहली पखवाड़े में 24 घंटों में तीसरी तीन अंकों की बारिश है। अभी भी बारिश लगातार जारी है।

भारी बारिश से होगा जलजमाव: जैसा कि पूर्वानुमान लगाया गया था, मुंबई में भारी बारिश सप्ताहांत की शुरुआत में होने की उम्मीद थी, जिसके अगले 5-6 दिनों तक जारी रहने की उम्मीद थी। हां, पूरे दिन थोड़े-थोड़े ब्रेक के साथ लगातार भारी बारिश जारी रहने की संभावन है। दोपहर 4 बजे के आसपास उच्च ज्वार के कारण स्थिति और भी जटिल हो सकती है। ज्वार के दौरान पानी को कोई आसान निकास नहीं मिलेगा और उल्टा प्रवाह स्थिति को और खराब कर देगा। संतृप्त सतहें पानी के किसी भी अन्य प्रवाह को अवशोषित नहीं कर सकती हैं। जिससे जलभराव तालाबों और ठहरे हुए पानी के गड्ढे गहरे हो जाएंगे।

मासिक सामान्य स्तर हो सकता है पूरा: बारिश की तीव्रता और फैलाव बढ़ जाएगा और बारिश का दौर अगले सप्ताह के मध्य तक जारी रहेगा। हालांकि,17 और 18 जुलाई को बारिश की तीव्रता थोड़ी कम हो सकती है। हालाँकि, इस छोटी राहत के बाद 19 जुलाई के बाद एक बार फिर से बारिश जोरदार और नुकसानदायक हो जाएगी। मुंबई में मौसम की संभावित स्थितियों पर अपडेट 48 घंटों के बाद अधिक विश्वसनीय होगा। पूरी संभावना है कि मुंबई वर्तमान में चल रहे बारिश के दौरान ही अपने सामान्य मासिक वर्षा स्तर को हासिल कर लेगी।

Mumbai Rains: मुंबई में आने वाला है बरसाती सप्ताह, इस दिन से शुरू होगी बारिश

मुंबई में 07 और 08 जुलाई को लगातार दो दिनों हुई भारी बारिश थी। अब मुंबई में मानसून का प्रकोप कुछ हद तक कम हो गया है। सांताक्रूज़ में पिछले 48 घंटों में 23 मिमी बारिश दर्ज की गई है। वहीं, कोलाबा में पिछले 24 घंटों के दौरान 59 मिमी बारिश हुई है। बता दें, मुंबई शहर अब मानसून के मौसम के लय में आने की तैयारी कर रहा है।  मुंबई और आसपास के क्षेत्रों में एक और बारिश का लंबा दौरा आने वाला है। लगातार और बार-बार होने वाली बारिश एक बार फिर मुंबईकरों की मुसीबतें बढ़ाएगी, खासकर सार्वजनिक परिवहन से आने-जाने वाले कामकाजी लोगों की परेशानियां बढ़ जाएंगी।

तेज बारिश और परेशानियाँ: जुलाई, वैसे भी मुंबई के लिए सबसे अधिक बारिश वाला महीना है। इस महीने में सामान्य तौर पर 840.7 मिमी बारिश होती है, जो दिल्ली की चार महीने की मानसूनी बारिश से अधिक है। यहां तक ​​कि मुंबई के लिए चार अंक 1000 मिमी से अधिक वर्षा भी बहुत दुर्लभ नहीं है। बारिश से थोड़ी सी राहत केवल सीज़न के दूसरे हिस्से में मिलती है, वह भी कुछ मौकों पर जो निश्चित नहीं होती है। मुंबई शहर हर बार मानसून सीजन में खतरनाक मौसम की स्थिति से जूझना पड़ता है। जो सामान्य जीवन और नियमित गतिविधियों में असुविधा पैदा करती है।

मुंबई में अधिक बारिश का कारण: कोंकण से केरल तक फैली तटवर्ती गर्त (ऑफशोर ट्रफ) के सक्रिय होने की संभावना है। यह ट्रफ कोंकण क्षेत्र में मानसून गतिविधि को संचालित करने वाली मुख्य विशेषता है। बता दें, मुंबई एक ऐसे स्थान पर स्थित है, जहां पर अधिक और तीव्र मानसूनी बौछारों होती हैं। विशेष रूप से मुंबई की भौगोलिक स्थिति इसे मानसून के दौरान भारी और तीव्र बारिश के लिए आदर्श बनाती है। मुंबई कोंकण तट पर स्थित है, जो अरब सागर के बहुत करीब है। जब तटवर्ती गर्त (ऑफ शोर ट्रफ) सक्रिय होती है, तो समुद्र से आने वाली नम हवाएँ मुंबई की ओर खींची जाती हैं। समुद्र तट के पास होने के कारण ज्वार, उफान और उबड़-खाबड़ समुद्र तट मुंबई में खतरे का स्तर बढ़ा देते हैं।

मानसून गतिविधि में तेजी/ मौसम प्रणाली: मानसून गतिविधि में तेजी का कारण बंगाल की खाड़ी (बीओबी) में एक सिस्टम का बनना है। यह सिस्टम कोंकण तट पर मानसून की धारा को बढ़ाने के लिए मुख्य कारण हैं। इस सप्ताह के आखिर में  बीओबी (BoB) पर एक चक्रवाती परिसंचरण बनने की संभावना है। शुरूआती संकेतक के रूप में 12 जुलाई को ओडिशा तट पर एक ट्रफ रेखा विकसित होगी, जो 13 जुलाई को परिसंचरण का प्रारंभिक आकार लेगी। यह 14 जुलाई को और मजबूत होकर एक बंद और सघन संगठित परिसंचरण बन जाएगा, जो कम दबाव वाले क्षेत्र में बदलने के लिए पूरी तरह से तैयार हो जाएगा। अगले दिन 15 जुलाई को सिस्टम आंशिक रूप से भूमि पर आगे बढ़ेगा। इसके बाद 16 और 17 जुलाई को पूर्व-पश्चिम अक्ष को मजबूत करते हुए, यह सुविधा मजबूत हो जाएगी।18 जुलाई को पवनों के मिलन और कतरन क्षेत्र (शियर ज़ोन) के भाग मध्य महाराष्ट्र और कोंकण क्षेत्र तक पहुंचेंगे।

मुंबई में अगले सप्ताह बारिश: उपरोक्त घटनाओं की यह श्रृंखला धीरे-धीरे अरब सागर से मानसून धारा को मजबूत करने के लिए अनुकूल स्थिति बनाएगी। मुंबई और उपनगरों में मानसून गतिविधि में एक सप्ताह तक बढ़ोतरी की उम्मीद है। अगले सप्ताह के पहला भाग में आने वाले सप्ताह के आखिर दिनों से ज्यादा मौसमी गतिविधियाँ हो सकती हैं। मुंबई शहर इस सप्ताह भर होने वाली मौसमी गतिविधि के दौरान मासिक बारिश लक्ष्य को जल्दी पूरा कर सकता है।

Low Pressure Area To Form Soon, Monsoon To Become Vigorous Over Central India

Monsoon activity has been driven largely by the seasonal monsoon trough for the last about one week. The more forceful triggers from Bay of Bengal remained subdued. Now, there is strong likelihood of monsoon low pressure area developing over the Bay of Bengal, very soon. The daily monsoon rainfall, which has dipped much below the daily normal for the last few days will catch up again. The reduction of monsoon spread has led to the seasonal rainfall of 102% of LPA dropping to zero-zero and may further dip to -1% today. It is likely to make up for the loss and may go above the threshold mark, sometime next week.

As precursor to the low pressure area, a deep trough is likely to form off Odisha coast on 12thJuly. This will become marked in to a circulation on 13thJuly. Favourable conditions will increase the chances of first low pressure area of July emerging anytime between 14-15 July, over northwest Bay of Bengal. Subsequently, the weather system will track along the central parts of the country to carry the monsoon stream over the core area of monsoon rainfed zone. The rainfall belt will travel along Odisha, Chhattisgarh and Madhya Pradesh.

While over Madhya Pradesh, the westerly stream from the Arabian Sea will also gather pace to accentuate monsoon activity over land locked sub-divisions of Maharashtra, Konkan, Gujrat and some parts of Rajasthan. Mumbai and South Gujarat will have the risk of getting a deluge, sometime around mid-week next. As an extension to the monsoon activity, the northern parts of the country comprising Rajasthan, Punjab and Haryana may also find revival of monsoon during second half of next week.







latest news