>  
[Hindi] दिल्ली, अमृतसर, जयपुर, लखनऊ में जल्द होगी सर्दी की पहली अच्छी बारिश

[Hindi] दिल्ली, अमृतसर, जयपुर, लखनऊ में जल्द होगी सर्दी की पहली अच्छी बारिश

10:40 AM

Delhi rains

सर्दियों में ठंड पहले ही उत्तर भारत में स्थापित है, हालांकि सर्दियों का मौसम, जो आम तौर पर दिसंबर के महीने में महसूस होता हैं, अभी तक प्रतीक्षा में हैं। जबकि दिल्ली और एनसीआर के लोग लगभग हर दिन सुबह धुन्ध का सामना कर रहे हैं।पंजाब और हरियाणा के भी लोग सुबह के घंटों के दौरान धुंध का सामना कर रहे है।

दिल्ली और एनसीआर में प्रदूषण का स्तर जो स्थानीय लोगों को परेशान कर रहा था, कम हुआ है क्योंकि राजधानी में धूप रही। हालांकि मौसम संबंधी सिद्धांत के मुताबिक, जब तक कुछ तेज तीव्रता से वर्षा नहीं होती तब तक प्रदूषण का स्तर पूरी तरह से नहीं कम होगा।

Related Post

हालांकि, अच्छी खबर यह है कि कई मौसम प्रणालियों का आगमन हो रहा है। इन सिस्टमो के कारण उत्तर-पश्चिमी मैदानी इलाकों में बारिश में आने की संभावना है।

स्काइमेट मौसम में मौसमवाणी के अनुसार एक सक्रिय पश्चिमी अशांति 10 दिसंबर और 11 दिसंबर के आसपास पश्चिमी हिमालय क्षेत्र में पहुंचने की संभावना है। इस मौसम प्रणाली ने हरियाणा पर एक चक्रवात परिसंचरण को प्रेरित करेगा। इसके अलावा हरियाणा से पूर्वी उत्तर प्रदेश तक एक ट्रफ रेखा बनने की उम्मीद है।

इन सभी मौसम प्रणालियों के चलते उत्तर भारत के मैदानों पर अच्छी बारिश होने की संभावना है।उत्तर पश्चिमी राजस्थान, पश्चिमी और उत्तर मध्य प्रदेश, दिल्ली और एनसीआर, पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में 11 और 12 दिसंबर को बारिश की संभावना हैं। ये सर्दी के मौसम की पहले व्यापक बारिश होगी।

दिल्ली में गरज और वर्षा वाले बादलों की ताज़ा स्थिति जानने के लिए नीचे दिए गए मैप पर क्लिक करें।Lightning in Delhi and NCR 600

आम तौर पर, घने कोहरे के निर्माण के साथ ही सर्दियों को चिह्नित किया जाता है, जो अभी तक अनुपस्थित रहा। पंजाब और हरियाणा के कुछ हिस्सों ने सिर्फ धुंध देखी है। हालांकि, इन बारिश के साथ, उत्तर भारत के मैदानों में अब तक अनुपस्थित कोहरा छाने लगेगा।

इसके अलावा, उमस के स्तर भी उच्च होंगे। इसके अलावा, तापमान भी गिरावट आ जाएगी, और धीमी हवाएँ चलेंगी। इन सभी मौसम की घटनाएं कोहरे का गठन करेंगी। यह बारिश ठंड को और बढ़ा देंगी।

Image credit: wikipedia

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।