>  
[Hindi] कानपुर, लखनऊ, आगरा, मथुरा में बिगड़ा मौसम, बारिश के साथ चल सकती हैं तेज़ हवाएँ

[Hindi] कानपुर, लखनऊ, आगरा, मथुरा में बिगड़ा मौसम, बारिश के साथ चल सकती हैं तेज़ हवाएँ

12:11 PM

Rain in Agra, Lucknow The Hindu 600गर्मी से हलकान, परेशान लोग देश के लगभग सभी भागों में मॉनसून का बड़ी बेताबी से इंतज़ार कर रहे हैं। दक्षिण-पश्चिम मॉनसून उम्मीद और अपने सामान्य समय से लगभग एक सप्ताह पहले अंडमान व निकोबार द्वीपसमूह में पहुँच गया। अब यह अपेक्षित गति से आगे बढ़ रहा है। इस बीच भारत के कई इलाकों में तेज़ गर्मी पड़ रही है। इस गर्मी से प्री-मॉनसून वर्षा की गतिविधियां बीच-बीच में राहत राहत के झोंके के रूप में देखने को मिल रही हैं।

इस समय उत्तर प्रदेश के कुछ भागों में प्री-मॉनसून वर्षा होने के आसार हैं। पंजाब और इससे सटे हरियाणा पर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है। इस सिस्टम से एक ट्रफ रेखा पश्चिमी और मध्य उत्तर प्रदेश तक बनी हुई है। इन मौसमी सिस्टमों के चलते उत्तर प्रदेश के कुछ जिलों में मौसम सक्रिय हो गया है जिसके चलते अगले 2-3 दिनों तक बीच-बीच में प्री-मॉनसून वर्षा देखने को मिल सकती है।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार वर्तमान समय में मौसम सक्रिय है और अगले 2-4 घंटों के दौरान उत्तर प्रदेश के दक्षिण और पश्चिमी जिलों में कुछ स्थानों पर वर्षा के आसार हैं। उसके बाद मौसम साफ हो जाएगा। हालांकि शाम को फिर से बादल बन सकते हैं और एक-दो स्थानों पर शाम या रात के समय गरज और हवाओं के साथ वर्षा हो सकती है।

इसे भी पढ़ें: श्रीनगर, वैष्णो देवी, शिमला में हल्की बारिश, वीकेंड ट्रिप के लिए सुहाना मौसम

इस मौसमी बदलाव से मुख्यतः दक्षिणी और पश्चिमी ज़िले प्रभावित होंगे। अगले 2-4 घंटों के दौरान आगरा, मथुरा, अलीगढ़, कानपुर, बरेली, कासगंज, लखनऊ, बांदा, बुलंदशहर, हाथरस, जालौन, झाँसी, मैनपुरी, रायबरेली, शाहजहाँपुर, हमीरपुर, हरदोई, बाराबंकी, एटा, इटावा, फ़र्रुखाबाद, फ़तेहपुर, फ़िरोज़ाबाद कन्नौज, बदायूं, उन्नाव और औरैया में गरज और तेज़ हवाओं के साथ हल्की से मध्यम वर्षा हो सकती है।

Lightning and rain in Uttar Pradesh and Agra

इस दौरान इन भागों में कहीं-कहीं तूफानी हवाएँ भी चल सकती हैं। अगले 3-4 घंटों के बाद मौसम साफ हो जाएगा और शाम या रात में फिर से बादल बनेंगे और कहीं-कहीं मौसमी हलचल शुरू हो सकती है। मौसम का यही रुख अगले 2-3 दिनों तक बना रहेगा। आपको बता दें कि प्री-मॉनसून सीज़न में बारिश की गतिविधियां मुख्यतः सुबह के समय, दोपहर के बाद या शाम के समय होती हैं। मौसम की सक्रियता 21 मई तक बनी रह सकती है जिससे इस दौरान पारा भी नियंत्रण में बना रहेगा।

Image credit: The Hindu

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।