[Hindi] चक्रवात वायु हुआ कमजोर लेकिन गुजरात में अगले 24 घंटों तक देगा बारिश

June 18, 2019 4:50 PM |

Cyclone Vayu in Gujarat

Updated On June 18, 04:45 PM: चक्रवात वायु हुआ कमजोर लेकिन गुजरात में अगले 24 घंटों तक देगा बारिश

स्काइमेट द्वारा किये गए पूर्वानुमान के मुताबिक ही अरब सागर पर बना हुआ चक्रवात वायु मंगलवार को गुजरात के सौराष्ट्र तक पहुंचते-पहुंचते कमजोर हो गया। लेकिन इस सिस्टम के कारण सौराष्ट्र क्षेत्र पर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बन गया है।

मौसम विशेषज्ञों के अनुसार, इस सिस्टम के कारण अगले 24 घंटों तक राज्य के अधिकांश भागों में हल्की बारिश हो सकती है। वहीं तटीय भागों में 50-60 किमी/घंटे की हवाएं भी चल सकती हैं।

इसके अलावा दीव, अहमदाबाद, अमरेली, आनंद, अरावली, बनास कांठा, भरूच, भावनगर, बोटाड, देवभूमि द्वारका, दोहद, गांधीनगर, गिर सोमनाथ, जामनगर, जूनागढ़, कच्छ, खेड़ा, महेसाणा, महिसागर, महवी, मारवी, पंच महल, पाटन, पोरबंदर, राजकोट, साबरकांठा, राजकोट, सुरेंद्रनगर और वडोदरा में आज यानि 18 जून को बारिश होने की सभावना है।

वहीं कल यानि 19 जून को भी गुजरात के इलाकों में कम तीव्रता के साथ बारिश हो सकती है।

Updated on June 17, 05:05 PM: चक्रवात वायु के कमजोर होने की संभावना, उत्तरी गुजरात हो सकता है प्रभावित

अरब सागर पर बना हुआ चक्रवात वायु लगातार कमजोर हो रहा है। कल यानि 16 जून को रात में चक्रवात वायु कमजोर होकर डीप डिप्रेशन में बदल गया और इस समय यह सिस्टम पूर्वोत्तर अरब सागर और इससे सटे भागों पर बना हुआ है।

यह सिस्टम तेज़ी से पूर्वी-उत्तर पूर्वी दिशा में गुजरात के तटीय भागों की ओर बढ़ रहा है। यह सिस्टम देर शाम तक कमजोर होकर चिन्हित निम्न दबाव का क्षेत्र बन सकता है।

यह सिस्टम गुजरात के तटीय भाग के कच्छ क्षेत्र तक 17 जून को आधी रात में लैंडफॉल कर सकता है।

इस सिस्टम के लैंडफॉल होने के साथ ही सौराष्ट्र और कच्छ क्षेत्र के अधिकांश भागों में 17 और 18 जून को मध्यम बारिश के साथ एक-दो स्थानों पर भारी बारिश होने की उम्मीद है।

चक्रवात वायु के कारण महाराष्ट्र के मुंबई समेत तटीय भागों में बारिश हो रही है। आज यानि 17 और कल यानि 18 जून को महाराष्ट्र के तटीय भागों में अच्छी बारिश के आसार हैं।

अगले 24 से 48 घंटों तक गोंदिया, दहानू, महाबलेश्वर, रत्नागिरी, अलीबाग, सांता क्रूज़ और कोलाबा में गरज के साथ बारिश की गतिविधियां दर्ज की जा सकती हैं।

Updated on June 17, 10:00 AM: गुजरात में 17 जून को डिप्रेशन के रूप में दिखेगा चक्रवात वायु का प्रभाव, बारिश की उम्मीद

भीषण चक्रवाती तूफ़ान वायु के विपरीत मौसमी स्थिति की ओर बढ़ने के कारण उत्तर-पूर्वी और इससे सटे हुए उत्तर-पश्चिमी तथा मध्य अरब सागर पर बना चक्रवात धीरे-धीरे कमजोर होने लगा है। कल यानि 16 जून को रात तक चक्रवात वायु कमजोर होकर आज यानि सोमवार की सुबह तक यह डीप डिप्रेसन में बदल गया है।

यह सिस्टम इस समय 20.9°N अक्षांश तथा 65.1°E देशांतर पर पोरबंदर से करीब 460 किमी पश्चिमी-दक्षिण-पश्चिमी दिशा, द्वारका से 420 किमी पश्चिमी-दक्षिण-पश्चिमी और भुज से 530 किमी पश्चिमी-दक्षिण पश्चिम में स्थित है।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार, इस समय यह सिस्टम पश्चिम से उत्तर पश्चिमी दिशा की ओर बढ़ रहा है, लेकिन इसके उत्तर-पूर्वी दिशा की ओर मुड़ने और कमजोर होने की संभावना है। आज यानि 17 जून को रात के समय चक्रवात वायु गुजरात के उत्तरी तटीय भागों से डिप्रेशन के रूप में गुजरेगी। इसके प्रभाव से 17 और 18 जून को सौराष्ट्र और कच्छ समेत दक्षिणी राजस्थान के अधिकांश भागों में बारिश होने की उम्मीद है।

इसके अलावा आज यानि 17 जून को गुजरात के तटीय भागों पर समुद्र की स्थितियां उग्र बनी रहेंगी।

Updated on June 15, 1:40 PM: 17 जून के करीब एक बार फिर गुजरात के दक्षिण-पश्चिमी तटीय इलाकों में चक्रवात वायु देगा अच्छी बारिश

अगले 48 घंटों में, तीव्र चक्रवात वायु के तेजी से कमजोर होने की संभावना है क्योंकि यह पूर्वोत्तर अरब सागर पर एक डिप्रेशन या एक अच्छी तरह से चिह्नित निम्न दवाब क्षेत्र के रूप में फिर से सक्रीय हो सकता है।

पूर्वोत्तर अरब सागर के भागों में 100-110 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार के साथ तेज हवाएं जारी रहेगी। हवा की यह रफ़्तार 135 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने की संभावना है। जबकि तटीय गुजरात के भागों में 50-60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने के अनुमान हैं जो 80 किलोमीटर प्रति घंटे तक जा सकता है। इसके बाद यह प्रणाली धीरे-धीरे कमजोर हो जाएगा।

इस पुरे प्रक्रिया के दौरान, चक्रवात वायु धीरे-धीरे तटीय गुजरात की ओर बढ़ेगा और 17 जून तक वायु के प्रभाव से दक्षिण पश्चिम गुजरात के तटीय भागों जैसे पोरबंदर, द्वारका ओखा और जामनगर में अच्छी बारिश के आसार हैं।

Updated on June 14, 05:00 PM: छह घंटे के अंतराल में वेरावल में हुई 67 मिमी बारिश, चक्रवात वायु और बढ़ाएगा बारिश

आज यानि 14 जून की सुबह 8:30 बजे से दोपहर 2:30 बजे तक केवल छह घंटे के अंतराल में, वेरावल में 67 मिमी बारिश हुई। तटीय इलाकों पर समुद्र के उग्र रूप के साथ तेज हवाओं का प्रभाव रहा। वहीं, पोरबंदर और भावनगर में हल्की बारिश के साथ 4 मिमी बारिश दर्ज की गई।

ये बारिश कुछ और दिनों तक जारी रहने की उम्मीद है क्यूंकि कमजोर पड़ने से पहले चक्रवात थोड़ी देर के लिए अरब सागर में ही बना रहता है।

17 और 18 जून को बारिश की तीव्रता बढ़ने की उम्मीद है, क्योंकि वायु 48 घंटे के बाद उत्तर पश्चिम दिशा की ओर फिर से चलेगा, 18 जून को कच्छ पहुंचने के साथ इसके डिप्रेशन में बदलने की संभावना है।


Updated on June 14, 11:30 AM: गुजरात में बना हुआ है चक्रवात वायु का प्रभाव

पिछले 24 घंटों के दौरान, चक्रवात वायु के कारण दीव, जूनागढ़ और द्वारका के तटीय इलाकों में मध्यम बारिश रिकॉर्ड की गई। गुजरात के कई जगहों जैसे पोरबंदर, द्वारका, जूनागढ़ और दीव में 70-80 किमी प्रति घंटा की रफ़्तार से तेज हवाएं भी चलती रही।

चक्रवात वायु इस समय, पश्चिमी-उत्तर पश्चिमी दिशा में गुजरात से दूर जा रहा है। जिसके कारण, कल यानि 15 जून को बारिश की तीव्रता कम हो जाएगी।

स्काइमेट का अनुमान है कि, गुजरात के कई हिस्सों में बारिश के फिर से आगमन की उम्मीद है क्योंकि चक्रवात 16 जून के बाद धीरे-धीरे कमजोर होते हुए उत्तर पश्चिमी दिशा में फिर से सक्रिय हो जायेगा। यह प्रणाली 18 जून को डिप्रेशन या वेल-मार्कड निम्न दाब क्षेत्र के रूप में कच्छ के इलाकों में पहुंच जाएगी।

Updated on 13 June, 6:00 PM: गुजरात तट के बेहद करीब पंहुचा चक्रवात वायु, जूनागढ़, पोरबंदर, दीव और द्वारका में मूसलाधार बारिश की उम्मीद

गुजरात के सौराष्ट्र क्षेत्र से गुजरने के बाद चक्रवात वायु अब गुजरात के तट के करीब पहुंच गया है। जिसके बाद तटीय इलाकों में भारी बारिश शुरू हो गई है। जूनागढ़, पोरबंदर, सोमनाथ, दीव, राजकोट, जामनगर, और द्वारका के कुछ इलाकों में अगले कुछ घंटों के दौरान मूसलाधार बारिश की उम्मीद है, जिसके बाद यह बारिश के धीरे-धीरे अन्य भागों में फैलने के भी आसार हैं। यह बारिश 100 से 120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाओं के साथ होगी।

चूंकि, चक्रवात वायू उत्तर-पूर्व अरब सागर में आगे बढ़ रहा है। जिसके बाद यह विपरीत चक्रवात का सामना करेगा, जो चक्रवात वायु को आगे बढ़ने नहीं देगा। धीरे-धीरे यह कमजोर हो जाएगा और केवल समुद्र तक ही सीमित रह जायगा।

Updated on June 13, 12:42 AM: गुजरात में टला भीषण चक्रवात वायु का खतरा लेकिन जामनगर, जूनागढ़ और पोरबंदर में भारी बारिश की उम्मीद

स्काइमेट के पूर्वानुमान के मुताबिक ही, भीषण चक्रवात वायु अब केवल गुजरात के सौराष्ट्र के तटीय भागों से गुजरने वाला है। लेकिन, वायु अभी भी श्रेणी 2 में बना हुआ है जिसकी वजह से गुजरात में भारी से अति भारी बारिश की संभावना अभी भी बनी हुई है।

गुजरात में अभी भी रेड अलर्ट जारी है। चक्रवात वायु इस समय अक्षांश 20.3 ° N और देशांतर 69.5 ° E पर पूर्वोत्तर और उससे सटे पूर्व-मध्य अरब सागर पर बना हुआ है। यह दीव से लगभग 130 किमी दक्षिण- दक्षिण पश्चिम में, वेरावल से 90 किमी दक्षिण-पश्चिम में और पोरबंदर से लगभग 130 किमी दक्षिण दिशा में है।

गुजरात के अमरेली, गिर सोमनाथ, दीव, जूनागढ़, पोरबंदर, राजकोट, जामनगर, और द्वारका में नुकसानदेह हवाओं के साथ भारी से बहुत भारी बारिश होने की संभावना है। कुछ जगहों पर भयंकर तेज हवाएं भी देखने को मिलेगी। इसके अलावा, निचले इलाकों में बाढ़ जैसे हालात भी देखे जा सकते हैं।गुजरात क्षेत्र के अन्य हिस्सों जैसे अहमदाबाद, गांधीनगर और सुरेंद्रनगर में कुछ जगहों पर भारी बारिश के साथ अलग-अलग जगहों पर अच्छी बारिश की उम्मीद है।

Updated on June 13, 9:30 AM:  गुजरात के तटीय इलाकों से टला वायु का खतरा, कमजोर हुआ चक्रवात

अत्यंत भीषण चक्रवाती तूफ़ान वायु, जो गुजरात में तबाही मचने के लिए पूरी तरह से तैयार था। अब उसका खतरा कम होता नज़र आ रहा है। गुजरात में अभी भी भारी बारिश होगी, लेकिन जैसे-जैसे चक्रवात तटीय इलाकों से गुजरेगा, नुकसान दायक क्षमता ज्यादा नहीं होगी। हालांकि, 175 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली हवाएं तटीय भागों के लिए खतरा पैदा कर सकती हैं।

चक्रवात वायु के सिर्फ पोरबंदर के पास और द्वारका या ओखा तट के आसपास गुजरात के तटीय भागों से गुजरने की संभावना है। जिसके बाद तूफान के श्रेणी 1 में कमजोर होने की संभावना है। ऐसा भी हो सकता है कि वायु समुद्र में सिर्फ लैंडफॉल बनाये और जमीनी भाग के लिए खतरा न हो।

Updated on June 13, 7:51 PM: गुजरात को हिट नहीं कर सकता है चक्रवात, पोरबंदर के तटीय इलाकों से गुजर सकता है वायु

चक्रवात वायु की प्रगति में एक नए मोड़ सामने आया है। संभावनाएं हैं कि यह अति गंभीर चक्रवात सौराष्ट्र तट से दूर जा सकता है। स्काइमेट के अनुसार, वायू उत्तर-उत्तर पश्चिमी दिशा की ओर ट्रैकिंग कर रहा है। मौसम के मॉडल के मुताबिक, संभावना है कि वायु गुजरात के तटीय इलाके जैसे पोरबंदर तथा द्वारका या ओखा तट के करीब से गुजर सकता है।

यह सिस्टम पानी में यात्रा करना जारी रखेगा लेकिन तटीय इलाकों को हीट करने की संभावनाएं कमजोर होती नज़र आ रही है। भीषण गंभीर चक्रवात वायु इस समय श्रेणी 2 तूफान में बना है लेकिन श्रेणी 1 के तूफान में प्रवेश के साथ कमजोर हो सकता है। हालांकि, इस सिस्टम के कारण 135 से 145 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी जो कि 175 किमी प्रति तक पहुंच सकती है। तूफानी हवाओं के कारण नुक्सान की संभावनाएं बनी हुई है।

मौसम विशेषज्ञों के अनुसार, कमजोर स्टीयरिंग वातावरण चक्रवात वायु के ट्रैक में बदलाव देखने को मिल रहा है।

Updated on 12 June, 8:00 PM: गुजरात के करीब आया भीषण चक्रवात वायु, सौराष्ट्र में कभी भी शुरू हो सकती है बारिश

चक्रवात वायु ने पिछले 12 घंटों के दौरान एक बहुत ही गंभीर चक्रवाती तूफान की ताकत को बनाये हुए है। यह तूफान उत्तर-उत्तरपश्चिम दिशा में ट्रैकिंग कर रहा है और इससमय अक्षांश 19 ° N और देशांतर 69.9 ° E पर केंद्रित है। जो मुंबई से लगभग 280 किमी पश्चिम और पोरबंदर से दक्षिणी दिशा में 340 किमी दुरी पर है।

स्काईमेट के अनुसार, अब तक के हिसाब से चक्रवात वायु लगभग 15 किमी प्रति घंटे की तेजी से आगे बढ़ रहा है। इसके साथ, गुजरात के सौराष्ट्र में पहले से ही बादल छा गए हैं। कई स्थानों पर तेज हवाएं चलनी शुरू हो गयी है। उम्मीद है कि अब कभी भी बारिश शुरू हो जाएगी। शुरुवात में, बारिश हल्की होगी लेकिन अंत तक यानि आधी रात तक गति पकड़ लेगी।

Updated on 12 June, 9:30 AM: चक्रवात वायु के कारण जारी किया गया रेड अलर्ट , 3 लाख लोगों को निकाला गया

चक्रवात वायु के भीषण रूप को देखते हुए सर्कार ने रेड अलर्ट जारी किया गया है। जिसके 13 जून को गुजरात तट से टकराने की संभावना है।

सरकारी सुरक्षा एजेंसियां द्वारा ​​गुजरात और दीव के तीन लाख से अधिक लोगों को अति गंभीर चक्रवात वायु के कारण दूसरे जगह पर भेजा गया है।

गुजरात के तटीय क्षेत्रों जैसे कच्छ, देवभूमि द्वारका, पोरबंदर, राजकोट, जूनागढ़, दीव, गिर सोमनाथ, अमरेली और भावनगर में चक्रवात के कारण नुकसान होने की आशंका है।

गुजरात और दीव में लगभग 39 एनडीआरएफ टीमों को तैनात किया जा रहा है, जबकि सेना की 34 टीमों को स्टैंडबाय पर रखा गया है। इसके अलावा, भारतीय वायुसेना द्वारा हवाई निगरानी की जा रही है।

Updated on 12 June, 7:00 AM: विकराल रूप लिया चक्रवात वायु

वायू, जो कि कल यानि 11 जून की रात एक गंभीर चक्रवात बन गया था। बुधवार की सुबह के दौरान एक अति भीषण चक्रवाती तूफान में बदल गया। यह तूफान वर्तमान में पूर्वी मध्य अरब सागर में अक्षांश 17.1 ° N और देशांतर 70.6 ° E के पास है और गोवा के 420 किमी WNW, मुंबई के 320 किमी SSW पर है।

पिछले छह घंटों में, तूफान ने 18 किमी प्रति घंटे की गति से काफी तेज हो गयी है। वायु के गुजरात में वेरावल के आसपास सौराष्ट्र तट को पार करने की उम्मीद है।

Updated on 11 June, 11:23 PM: भीषण रूप लिया चक्रवाती तूफ़ान वायु

चक्रवाती तूफ़ान वायु इस समय गंभीर रूप ले लिया है और अक्षांश 16.1 °N और देशांतर 70.6 °E के करीब है। यह तूफान पूर्वी-मध्य अरब सागर में गोवा के डब्ल्यू एन डब्ल्यू, से 350 किमी तथा मुंबई के एस एस डब्ल्यू से 410 किमी दुरी पर है। 13 जून के आसपास चक्रवाती तूफ़ान वायु के पोरबंदर और महुवा के बीच गुजरात के तटीय भागों को पार करने की संभावना है।

इसके कारण तटीय गुजरात के अधिकांश हिस्सों में भारी से अति भारी बारिश होने की उम्मीद है। समुद्र की स्थिति भी उबड़-खाबड़ रहेगी और तेज हवाओं के साथ बारिश होगी।

Updated on June11, 8:20 PM: गृह मंत्रालय ने गुजरात और दीव के लिए जारी किया अलर्ट

चक्रवात वायु पर केंद्रीय गृह मंत्री द्वारा ली गई उच्च-स्तरीय समीक्षा बैठक के बाद, गृह मंत्रालय ने गुजरात और दीव के लिए विस्तृत सलाह जारी की है, जिसमें सभी एहतियाती उपाय करने का अनुरोध किया गया है ताकि इससे कोई मानव जीवन का हानि न हो। इसके अलावा गृह मंत्रालय ने यह भी कहा है की महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे को कम से कम नुकसान पहुंचे और चक्रवात भूस्खलन के बाद सभी आवश्यक सेवाओं को जल्द सुनिश्चित किया जाये। राज्य / केंद्रशासित प्रदेश की सरकार ने निचले इलाकों और कमजोर क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को समय पर निकासी के लिए भी सलाह दी है।

गुजरात और दीव प्रशासन ने 12 जून, 2019 की सुबह से शुरू होने वाले पहचाने गए संवेदनशील क्षेत्रों से लगभग 3 लाख लोगों को निकालने की योजना बनाई है। खाली किए गए लोगों को लगभग 700 चक्रवात राहत आश्रयों में स्थानांतरित कर दिया जाएगा। राज्य प्रशासन के विचार से, 39 NDRF टीमों कोइस काम में मदद करने के लिए पहल से ही तैनात किया जा रहा है। इसके अलावा, सेना की 34 टीमों को भी स्टैंड पर रखा गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, केंद्रीय गृह मंत्री नियमित रूप से स्थिति की समीक्षा कर रहे हैं और केंद्रीय गृह सचिव 12 जून को केंद्रीय मंत्रालयों / एजेंसियों और गुजरात के मुख्य सचिव / सलाहकार और दीव के साथ समीक्षा बैठक में भी लेंगे।

Updated on June 11, 6:10 PM: मुंबई में मॉनसून का लंबा इंतजार बहुत जल्द होगा खत्म, चक्रवात वायु लाएगा मॉनसून

ऐसा लगता है कि मुंबई में मॉनसून का लंबा इंतजार बहुत जल्द खत्म होने वाला है। पूर्व-मध्य अरब सागर के ऊपर चक्रवात वायु की वजह से यह संभावनाएं बनी हुई है । स्काइमेट के अनुसार, मुंबई में मॉनसून की शुरुआत के लिए धीरे-धीरे मौसम की स्थिति अनुकूल हो रही है, जिसके सप्ताहांत तक दस्तक देने की अधिक संभावना है। यह लगभग एक सप्ताह की देरी होगी क्योंकि मॉनसून के आगमन की सामान्य तिथि 10 जून है।

चक्रवात वायु के आने से मुंबई में प्री-मॉनसून वर्षा भी हुई है। सोमवार यानी 10 जून की शाम को पहली भारी प्री-मॉनसून बारिश हुई। चक्रवाती तूफ़ान इस समय मुंबई के आमने-सामने है। आज भी बारिश के लिए स्थितियां अनुकूल है।

Updated on June 11, 4:30 PM: मुंबई में जारी रहेगी बारिश, उत्तर-उत्तर पश्चिमी दिशा में आगे बढ़ रहा चक्रवात वायु

मुंबई की बारिश आज से कुछ जगहों पर शुरू हो गई है। कुछ क्षेत्रों में तो बिजली और गरज के साथ बौछारें पड़ रही हैं। यह बारिश चक्रवात वायु के प्रभाव से हो रही है, जो इस समय मुंबई तट के करीब स्थित है और यह उत्तर-उत्तर पश्चिमी दिशा में आगे बढ़ रही है।

मुंबई में कल यानि 12 जून को भी तेज वर्षा जारी रहने की उम्मीद है।

Updated on June 11, 2:00 PM: अलर्ट जारी, 13 जून के बाद पाकिस्तान में दिख सकता है चक्रवात वायु का असर

चक्रवात वायु के नज़दीक आने से मामूली राहत की उम्मीद है। यह चक्रवात पूर्वी-मध्य अरब सागर के भागों पर बना हुआ है जो कि धीरे-धीरे उत्तर-उत्तर पश्चिमी दिशा में गुजरात के तटीय भागों की तरफ आगे बढ़ रहा है। 11 जून यानि आज शाम तक यह चक्रवाती तूफ़ान भीषण रूप ले सकता है।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि, 13 जून तक सिंध के अलग-अलग स्थानों पर हल्की बारिश देखने को मिलेगी। जबकि 14 से 16 जून के बीच बारिश की तीव्रता बढ़ जाएगी, जिसके बाद मध्यम से भारी बारिश की संभावना है। सिंध के अधिकांश भाग खासकर कराची, बादिन, हैदराबाद, छोर में मध्यम से भारी बारिश देखने को मिलेगी।

Updated on June 11, 11:26 AM: अरब सागर में बना चक्रवात वायु, आज शाम तक ले सकता है भीषण रूप

पूर्व-मध्य और उसके आसपास के दक्षिण-पूर्वी अरब सागर के भागों पर बना डीप डिप्रेशन मंगलवार यानि 11 जून को चक्रवात वायु में बदल गया है। इस समय यह सिस्टम मुंबई से 650 किलोमीटर दूर दक्षिण-पश्चिम में लगभग 12.5 ° N और 70.9 ° E पर स्थित है और वेरावल से इसकी दुरी दक्षिण-पूर्वी दिशा में 850 किमी है।

मौसम जानकारों के अनुसार, इस समय विंड बैंड्स और व्यवस्थित हो रहे हैं। यहां तक कि, संभावित ट्रॉपिकल तूफान भी अनुकूल स्थिति से अत्यधिक अनुकूल मौसम स्थितियों की तरफ बढ़ रहा है। जिसके कारण, 11 जून को शाम के दौरान 'वायु' के गंभीर चक्रवाती तूफान बनने की संभावना है।

Image Credit:Business Insider India

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें ।


For accurate weather forecast and updates, download Skymet Weather (Android App | iOS App) App.

Weather Forecast

Other Latest Stories

Weather on Twitter
18 अक्तूबर से 20 अक्तूबर के बीच पश्चिमी पंजाब में खासकर अमृतसर, तरण तारण, फ़िरोज़पुर, फ़रीदकोट, फाजिल्का, श्री मुक्… t.co/dH6mDZ7JWV
Tuesday, October 15 15:30Reply
In the absence of a cyclonic storm, we are likely to see the onset of Northeast #Monsoon2019 early this time, which… t.co/fXrtl7ghqi
Tuesday, October 15 15:27Reply
नैऋत्य मॉन्सूनप्रमाणेच ईशान्य मॉन्सूनच्या आगमनास एक निकष आहे. तामिळनाडू, आंध्र प्रदेशचा किनारी भाग, रायलसीमा, दक्षि… t.co/BGuZKZkHVC
Tuesday, October 15 15:00Reply
Our meteorologists have predicted that #rains are going to reappear around October 19. On October 20 and 21, there… t.co/RnepA6m87Y
Tuesday, October 15 14:40Reply
Although Southwest #Monsoon has withdrawn, #rains are not yet over and done with #Mumbai. The weather models are su… t.co/AG5Yd01n5Y
Tuesday, October 15 14:26Reply
According to our experts, a feeble Low-Pressure Area may develop in the Bay of Bengal off #TamilNadu coast around O… t.co/3H07lV5EfT
Tuesday, October 15 14:23Reply
Already as a precursor to the Northeast #Monsoon, the #TamilNadu coast is witnessing good amount of rain. In a span… t.co/L86rw74kxC
Tuesday, October 15 14:00Reply
The withdrawal of Southwest #Monsoon is nearly complete and the conditions are favourable for the arrival of Northe… t.co/OQ6RKfprsB
Tuesday, October 15 13:48Reply
Check out the day and night temperatures for major cities of India on October 15. #WeatheringWithYout.co/RQLXrDuVsg
Tuesday, October 15 12:53Reply
Isolated #rains are likely in #Telangana, South #Konkan, and #Goa, #Odisha, South #Chhattisgarh as well as Northeas… t.co/Iz5gjDGV84
Tuesday, October 15 11:30Reply

latest news

Skymet weather

Download the Skymet App

Our app is available for download so give it a try