[Hindi] पश्चिमी विक्षोभ के कारण दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर भारत में बारिश, चेन्नई में भी प्री-मॉनसून वर्षा की उम्मीद, मध्य और पूर्वी राज्यों में आँधी-बारिश की संभावना- जतिन सिंह, एमडी, स्काइमेट

May 12, 2020 11:30 AM |

पिछले सप्ताह की प्रमुख मौसमी घटनाएँ रहीं गुजरात, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में हीटवेव। चूरू, कोटा और फलोदी में 9 मई, 2020 को सीज़न में पहली बार तापमान 45-डिग्री के स्तर से ऊपर पहुंचा। पश्चिम बंगाल और बिहार में काल बैसाखी का असर दिखा। केरल और कर्नाटक में प्री-मॉनसून वर्षा की गतिविधियां व्यापक रूप में दिखीं। उत्तर-पश्चिम भारत में राजस्थान और हरियाणा को छोड़कर अन्य हिस्सों में तापमान उम्मीद से कम रहा।

भारत में लॉकडाउन 3.0 का यह आखिरी सप्ताह है। 50 दिनों के लॉक डाउन को अब खत्म करने का समय आ गया है। भारत में महज़ 6 दिनों में कोरोना के मामले 40,000 से बढ़कर 60,000 हो गए। देश में मरने वालों की संख्या 2000 से पार पहुँच गई है। इस समय हम नहीं जानते कि भारत में सबसे खराब स्थिति बीत चुकी है या आने वाली है। पिछले सप्ताह किसी 24 घंटों की अवधि में सबसे अधिक मरीजों का आंकड़ा 2900 था। इसमें मुंबई में स्थितियाँ सबसे भयावह हो गईं।

हम उम्मीद कर सकते हैं कि महामारी जल्द ख़त्म होगी लेकिन यह वायरस पूरी तरह से जल्द समाप्त हो जाएगा ऐसा लगता नहीं। संभवतः हमें इस वीषाणु के साथ रहना होगा और इसके धीरे-धीरे विलुप्त होने की प्रतीक्षा करनी होगी। लॉकडाउन अब समाप्त किया जाना चाहिए ताकि वायरस से अधिक नुकसान इस बंदी के कारण ना उठाना पड़े।

जीवन और आजीविका दोनों महत्वपूर्ण

इस समय इस विषय पर चर्चा सबसे अधिक हो रही है कि जीवन बचना महत्वपूर्ण या आजीविका बचाना। दोनों ही समान रूप से महत्वपूर्ण हैं। बंदी के कारण कारोबार रसातल में जा रहे हैं। नकदी का प्रवाह बंद हो गया है। प्रवासी मजदूरों को सहूलियत भरी ज़िंदगी देना इस समय एक बड़ी चुनौती है। शिथिल हो चुका परिवहन क्षेत्र और संघर्षपूर्ण स्थिति का सामना कर रहे स्वास्थ्य को अपेक्षित सेवा योग्य बनाए रखना भी चुनौती से कम नहीं है।

कृषि एकमात्र ऐसा क्षेत्र है लॉकडाउन का जिस पर कम से कम प्रभाव पड़ा है। गेहूं की फसल लगभग पूरी हो चुकी है। गेहूं की 21 मिलियन टन खरीद हो चुकी है। सरकार की कोशिश है कि 40 मिलियन टन के खरीद लक्ष्य को पूरा कर लिया जाए। 30 जून तक खरीद जारी रहेगी और जरूरत पड़ने पर इसे और बढ़ाया जाएगा। दक्षिण भारत में धान की खरीद जारी है। तेलंगाना और आंध्र प्रदेश प्रमुख आपूर्ति वाले राज्य हैं।

ग्रीष्मकालीन फसल की बुआई पिछले वर्ष की तुलना में 38% अधिक क्षेत्र हुई है। जल भंडारण की स्थिति अच्छी है जो प्री-मॉनसून बुआई के लिए बेहतर मानी जाती है। हमारा आधा से अधिक कृषि क्षेत्र पूरी तरह से वर्षा पर निर्भर करते है। सामान्य मॉनसून की संभावनाओं के बीच आगामी खरीफ फसल के बेहतर होने के आसार हैं। इस साल कृषि क्षेत्र संभवतः 3% की दर से वृद्धि करते हुए देश की अर्थव्यवस्था को मदद करेगा।

साल 2020 का पहला चक्रवाती तूफान बंगाल की खाड़ी में बनते-बनते रह गया है। संभवतः इस सप्ताह तूफान विकसित हो लेकिन अनुमान है कि यह भारत के तटीय भागों पर तबाही ना मचाए।

उत्तर भारत

इस सप्ताह के दौरान भी अधिकांश भागों में प्रचंड गर्मी से राहत बरकरार रहने की संभावना है। पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, दिल्ली और पश्चिम उत्तर प्रदेश में 11 से 14 मई के बीच धूल भरी आंधी और तेज हवाओं के साथ बारिश और गरज के साथ बौछारें गिरने की संभावना है। इस दौरान पहाड़ी राज्यों में मध्यम बारिश होगी। सप्ताह के आखिरी दिनों में राजस्थान और पड़ोसी राज्य हरियाणा तथा पंजाब के कई जिलों में तापमान में 40 डिग्री से ऊपर पहुँच जाएगा।

मध्य भारत

पिछले हफ्ते की तरह इस सप्ताह भी गुजरात में कोई विशेष मौसमी हलचल नहीं होगी जिससे कुछ हिस्सों में हीटवेव की स्थिति रहेगी। ओडिशा, छत्तीसगढ़, पूर्वी मध्य प्रदेश, विदर्भ और मराठवाड़ा में सप्ताह के मध्य तक रुक-रुक कर कुछ हिस्सों में गरज के साथ बारिश होने की संभावना है। जबकि सप्ताह के आखिरी दिनों में समूचे मध्य भारत में मौसम साफ रहेगा और तापमान बढ़ेगा।

पूर्व और उत्तर-पूर्व भारत

पूर्वी भागों और पूर्वोत्तर भारत में बंगाल की खाड़ी से आर्द्र हवाओं का जारी रहने वाला है। इसके चलते बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल और पूर्वोत्तर भारत में तेज हवाओं और बिजली कड़कने के साथ काफी जगहों पर व्यापक बारिश इस सप्ताह भी देखने को मिल सकती है। सप्ताह के आखिर में बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल में तापमान बढ़ेगा।

दक्षिण भारत

यह सप्ताह भी दक्षिण भारत के लिए पिछले सप्ताह की पुनरावृत्ति होगा। बंगलुरु सहित केरल और कर्नाटक में प्री-मॉनसून बारिश जारी रहेगी। सप्ताह के उत्तरार्ध में बारिश की गतिविधियां अधिक तेज़ हो सकती हैं। आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और तमिलनाडु में हल्की बारिश की उम्मीद कर सकते हैं। सलेम, करूर, कोयम्बटूर, इरोड और तिरुपुर जैसे तमिलनाडु के आंतरिक हिस्सों में 16 और 17 मई को गरज के साथ बारिश होने की संभावना है।

दिल्ली-एनसीआर

पिछले हफ्ते के आखिर में दिल्ली में मौसम काफी गर्म हो गया था। सफदरजंग में 9 मई को सीजन का उच्चतम अधिकतम तापमान 40.9 डिग्री दर्ज किया। इस सप्ताह पूर्वार्ध में गरज और धूलभरी आँधी के साथ तेज हवाएँ चलेंगी। गर्जना के साथ बौछारें भी गिर सकती हैं। सप्ताह के आखिरी दिनों में मौसम शुष्क और गर्म होगा क्योंकि तापमान बढ़ता रहेगा।

चेन्नई

तमिलनाडु के राजधानी शहर में पूरे सप्ताह गर्म और आर्द्र मौसम बना रहेगा। अधिकतम तापमान 35 डिग्री से अधिक और न्यूनतम तापमन 25 डिग्री से ऊपर रहेगा। इस सप्ताह के दौरान भी कोई विशेष बारिश होने की उम्मीद नहीं है।

Image credit: Times of India

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।







For accurate weather forecast and updates, download Skymet Weather (Android App | iOS App) App.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Weather Forecast

Other Latest Stories





latest news

Skymet weather

Download the Skymet App

Our app is available for download so give it a try

×