>  
[Hindi] वैष्णो देवी में बारिश ही बारिश; दिन में भी पड़ रही है कड़ाके की सर्दी

[Hindi] वैष्णो देवी में बारिश ही बारिश; दिन में भी पड़ रही है कड़ाके की सर्दी

06:29 PM

 

Rain in Vaishno_Devi_Indian Express 600

जम्मू कश्मीर में आए पश्चिमी विक्षोभ के चलते पहाड़ों से लेकर मैदानी राज्यों तक मौसम में हलचल देखने को मिल रही है। वैष्णो देवी में बीते 2-3 दिनों के दौरान अच्छी बारिश हुई है। कटरा में पिछले 24 घंटों के दौरान 18 मिमी की मध्यम वर्षा दर्ज की गई। पवित्र वैष्णो देवी भवन पर भी बारिश और बर्फबारी जारी रही। गौरतलब है कि 2018-19 की सर्दी में देश में सबसे ज़्यादा बारिश जम्मू कश्मीर में हो रही है। अकेले जनवरी महीने में राज्य में लगभग 110 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई है। जो सामान्य से 83% अधिक है।

मीडिया में आ रही खबरों के अनुसार भवन और आसपास के भागों पर लगभग छह इंच बर्फ गिरी है। इसी तरह सांझी छत पर (जहां तक हेलीकाप्टर सेवा मिलती है) छह इंच, भैरो घाटी में तीन इंच और त्रिकुटा पर्वत पर डेढ़ फुट के करीब बर्फबारी हुई है। बर्फबारी से भवन पर चढ़ाई में मुश्किलें आ रही हैं। शीतलहर भी चल रही है। श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने हेलीकॉप्टर व केबल कार सेवा को फिलहाल बंद कर दिया है। अधिकारियों ने बताया है कि मौसम साफ होने पर यह सेवाएँ फिर से शुरू की जाएंगी। इतनी बाधाओं के बाद भी भक्त यात्रा कर रहे हैं। प्रशासन ने आपदा प्रबंधन कर्मी भी तैनात कर रखे हैं ताकि भक्तों को किसी प्रकार की मुश्किल का सामना ना करना पड़े।

वैष्णो देवी के मौसम पर विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

दिन भर बादल छाए रहने और बारिश होने के कारण अधिकतम तापमान सामान्य से नीचे बना हुआ है। कटरा में जहां दिन का तापमान 10 डिग्री के आसपास रिकॉर्ड किया गया वहीं भवन पर अधिकतम तापमान 5 डिग्री के आसपास रहा। वैष्णो देवी भवन पर न्यूनतम तापमान 1 डिग्री के करीब रिकॉर्ड किया जा रहा है।

कटरा सहित वैष्णो देवी में पिछले दो दिनों में अच्छी बारिश और बर्फबारी हुई जिससे आने वाले दिनों में न्यूनतम तापमान में और गिरावट होने की संभावना है। इस बीच पश्चिमी विक्षोभ अब पूर्वी दिशा में निकल रहा है जिसके चलते गतिविधियां काफी कम हो जाएंगी। हालांकि अगले 48 घंटों तक यानि 24-25 जनवरी तक बादल छाए रहने और रुक-रुक कर गर्जना के साथ हल्की वर्षा होने के आसार बने हुए हैं।

वैष्णो देवी सहित आसपास के हिस्सों में 26 जनवरी से मौसम में हलचल काफी कम हो जाएगी। उसके बाद दिन में धूप निकलेगी और अधिकतम तापमान बढ़ेगा लेकिन न्यूनतम तापमान में सुधार की  बजाए इस महीने के आखिर में और गिरावट की संभावना है। इसके चलते श्रद्धालुओं को अगले कुछ दिनों तक भीषण सर्दी का सामना करना पड़ेगा। हालांकि अगर आप देवी के दर्शन के लिए निकलने की तैयारी में हैं सर्दी को छोडकर मौसम की और कोई बाधा आपका रास्ता शायद ही रोके।

Image credit: Indian express

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।