>  
[Hindi] रांची, पटना, गया, भागलपुर, जमशेदपुर में अच्छी वर्षा; इलाहाबाद, वाराणसी में बूँदाबाँदी

[Hindi] रांची, पटना, गया, भागलपुर, जमशेदपुर में अच्छी वर्षा; इलाहाबाद, वाराणसी में बूँदाबाँदी

02:14 PM

Rain in Jharkhand and Biharबंगाल की खाड़ी में एक गहरे निम्न दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। यह सिस्टम जल्द ही और सशक्त होते हुए डिप्रेशन बन सकता है। इसके प्रभाव से बिहार, झारखंड सहित पूर्वी और पूर्वोत्तर भारत में बारिश की गतिविधियां बढ़ने वाली हैं। पूर्वी तटीय भागों में भी इस सिस्टम के प्रभाव से अच्छी बारिश होने के आसार हैं। निम्न दबाव का क्षेत्र बंगाल की खाड़ी के मध्य पश्चिम में है और उत्तर तथा उत्तर-पश्चिमी दिशा में बढ़ रहा है।

निम्न दबाव का क्षेत्र अगले 24 घंटों के दौरान ओड़ीशा के तटीय से ज़मीनी हिस्सों पर पहुंचेगा उसके पश्चात इसकी दिशा में परिवर्तन होने का अनुमान है। ओड़ीशा पहुँच कर यह उत्तर-पूर्व का रुख कर सकता है और झारखंड, बिहार, पश्चिम बंगाल को प्रभावित कर सकता है। स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार डिप्रेशन अगले 24 घंटों में डिप्रेशन बनने के बाद भले ही कमजोर हो जाएगा लेकिन इसके प्रभाव से झारखंड के लगभग सभी भागों, बिहार और इससे सटे पूर्वी उत्तर प्रदेश में 19-20 अक्तूबर को अच्छी बारिश हो सकती है।

Related Post

झारखंड में आज शाम से बादल बढ़ जाएंगे। रात में कुछ स्थानों पर हल्की वर्षा शुरू हो सकती है। रांची, जमशेदपुर, डाल्टनगंज, गुमला, बोकारो सहित लगभग सभी भागों में दीपावली के दिन तेज़ हवाओं और गरज के साथ हल्की से मध्यम बारिश दर्ज किए जाने की संभावना है। राज्य में 20 अक्तूबर को हवाएँ कम हो सकती हैं लेकिन बारिश बढ़ने के आसार हैं।

बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश पर गरज और वर्षा वाले बादलों की ताज़ा स्थिति जानने के लिए नीचे दिए गए मैप पर क्लिक करें:

Lightning and rain UP Bihar and Jharkhand

बिहार के पूर्वी भागों में 19 अक्तूबर को गरज और हवाओं के साथ हल्की बारिश हो सकती है। 20 अक्तूबर को भागलपुर, पुर्णिया, गया, पटना सहित पूर्वी और उत्तरी जिलों में हल्की से मध्यम वर्षा होने के आसार हैं। पूर्वी उत्तर प्रदेश में इस सिस्टम का विशेष प्रभाव नहीं रहेगा। हालांकि बादल छाए रहेंगे और मिर्ज़ापुर, इलाहाबाद, वाराणसी तथा आसपास के भागों में गरज के साथ हल्की वर्षा देखने को मिल सकती है।

Image credit: The Indian Express

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।