Skymet weather

[Hindi] बर्फबारी के बाद काँपा उत्तर भारत, श्रीनगर, शिमला, कुल्लू, मसूरी, नैनीताल शीतलहर की गिरफ्त में

December 15, 2019 11:58 AM |

जम्मू कश्मीर सहित उत्तर भारत में बारिश और बर्फबारी देने वाला पश्चिमी विक्षोभ जम्मू कश्मीर के पूर्वी भागों से अब आगे निकल रहा है। इसके आगे बढ़ने के साथ उत्तर भारत के पर्वतीय राज्यों में अब बारिश और बर्फबारी की गतिविधियों में और कमी आ जाएगी, जो पहले से ही काफी कम हो गई थी। बीते 24 घंटों के दौरान जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले क्षेत्रों और उत्तराखंड में कहीं-कहीं पर हल्की बर्फबारी दर्ज की गई।

हालांकि बीते दो-तीन दिनों की भारी बारिश और बर्फबारी के चलते पहाड़ों पर तापमान में भारी गिरावट हुई है। सर्दी जबरदस्त ढंग से बढ़ गई है और घना कोहरा भी छाने लगा है। स्काईमेट के मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक इस सिस्टम के आगे निकलते ही पश्चिमी हिमालयी भागों में मौसम में बनी हलचल कम हो जाएगी। पहाड़ों पर बारिश भी कम हो जाएगी। बर्फबारी की गतिविधियां पहले ही बंद हो गयी हैं।

English Version: Winter intensifies in Kashmir, Himachal and Uttarakhand, another WD to bring heavy rain and snow around Dec 18

अधिकांश इलाकों में अब मौसम साफ हो जाएगा। दिन में धूप खिलेगी जिसके चलते अधिकतम तापमान में अगले कुछ दिनों के दौरान बढ़ोतरी देखने को मिल सकती है। लेकिन न्यूनतम तापमान में बढ़ोतरी जैसी किसी तरह की राहत की संभावना नजर नहीं आ रही है। जिससे स्थानीय लोगों और पर्यटकों को भीषण सर्दी का सामना पर्वतीय राज्यों में करना पड़ेगा।

18 दिसम्बर से फिर गिरेगी बर्फ

इस बीच आपको बता दें कि 18 दिसंबर से एक नया पश्चिमी विक्षोभ पश्चिमी हिमालयी भागों के पास फिर से आ सकता है, जिसके कारण उत्तर के पर्वतीय क्षेत्रों में बर्फबारी और बारिश का एक नया दौर देखने को मिल सकता है।

हालांकि आगामी सिस्टम पिछले पश्चिमी विक्षोभ जितना प्रभावी नहीं होगा। पिछले सिस्टम के चलते शुक्रवार और शनिवार को जैसी बारिश और भारी बर्फबारी पहाड़ों पर देखने को मिली है वैसे गतिविधियां नहीं दिखेंगी। इस सप्ताह के आखिर में जो बर्फबारी हुई है उसके चलते जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग सहित कई सड़कों पर आवागमन अवरुद्ध हो गया है।

बारिश और बर्फबारी इस समय भले ही बंद हो गई है लेकिन हिमस्खलन और भूस्खलन की आशंका अगले दो दिनों तक बनी रहेगी, इसलिए पर्यटकों और स्थानीय लोगों को सुझाव है कि बेहद सावधानी बरतें और ऊंचाई वाले इलाकों में जहां पर बड़ी मात्रा में बर्फ गिरी है उन क्षेत्रों में सतर्क रहें।

Image credit: Elets Technomedia

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।







For accurate weather forecast and updates, download Skymet Weather (Android App | iOS App) App.

Weather Forecast

Other Latest Stories






latest news

Skymet weather

Download the Skymet App

Our app is available for download so give it a try

×