[Hindi] कश्मीर, हिमाचल, उत्तराखंड, लद्दाख में मार्च के अंत तक वर्षा की संभावना; बढ़ सकती है लोगों की मुश्किलें

March 24, 2020 12:22 PM |

उत्तर भारत में साल 2020 का मार्च महीने बिलकुल अलग ही लग रहा है। इस महीने अब तक तीन-चार सक्रिय मौसमी सिस्टम आए हैं जिससे सभी पर्वतीय राज्यों में सामान्य से काफी अधिक वर्षा रिकॉर्ड की गई है।

इस समय भी एक सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ जम्मू कश्मीर के पास पहुंचा है। इसके चलते अगले 2 दिनों के दौरान पहाड़ों पर व्यापक बारिश की संभावना है।

इस बीच बीते 24 घंटों के दौरान जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में कुछ स्थानों पर बारिश हुई है। लद्दाख में भी एक-दो स्थानों पर वर्षा हुई है। अब बारिश की गतिविधियां तेज़ हो जाएंगी।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ जम्मू कश्मीर के पास पहुँच गया है। इसके चलते अगले दो दिन जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और लद्दाख में कुछ स्थानों पर बादलों की गर्जना के साथ बारिश हो सकती है।

English Version: Third active Western Disturbance to bring rain, snow in Jammu, Uttarakhand, Himachal, and Ladakh

इस दौरान पहाड़ों पर बर्फबारी की भी संभावना है। साथ ही कुछ इलाके ऐसे हो सकते हैं जहां भारी वर्षा की गतिविधियां भी देखने को मिल सकती हैं। बारिश की गतिविधियां आज से जम्मू कश्मीर और पश्चिमी हिमाचल प्रदेश में तेज़ होंगी। धीरे-धीरे लद्दाख, हिमाचल प्रदेश के बाकी हिस्सों और उत्तराखंड के बाकी भागों में भी बारिश बढ़ जाएगी।

मौसम विशेषज्ञों के अनुसार उत्तर भारत में 29-30 मार्च तक एक के बाद एक पश्चिमी विक्षोभ आते रहेंगे। इसके चलते उत्तर भारत के पहाड़ों पर बारिश और बर्फबारी का सिलसिला मार्च के आखिर तक जारी रहेगा। हालांकि इस बीच 26 मार्च को गतिविधियां कुछ कम होंगी लेकिन 27 मार्च को फिर से बारिश तेज़ हो जाएगी।

सामान्य से अधिक हो रही इस बेमौसम बरसात से उत्तर भारत के पहाड़ों पर सामान्य जन-जीवन प्रभावित हो सकता है।

Image credit: NDTV

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।

देश भर में मौसम का हाल जानने के लिए देखें वीडियो







For accurate weather forecast and updates, download Skymet Weather (Android App | iOS App) App.

Weather Forecast

Other Latest Stories





latest news

Skymet weather

Download the Skymet App

Our app is available for download so give it a try

×