>  
[Hindi] अर्ध कुम्भ 2019: मौनी अमावस्या पर शीतलहर और कोहरे के बीच लगभग 4 करोड़ श्रद्धालुओं ने लगाई डुबकी

[Hindi] अर्ध कुम्भ 2019: मौनी अमावस्या पर शीतलहर और कोहरे के बीच लगभग 4 करोड़ श्रद्धालुओं ने लगाई डुबकी

12:45 PM

Ardh Kumbh 2019 Mauni Amavasya 600

Updated on Feb 04: अर्ध कुम्भ 2019: मौनी अमावस्या पर शीतलहर और कोहरे के बीच लगभग 4 करोड़ श्रद्धालुओं ने लगाई डुबकी

प्रयागराज, आज सुबह ठंडी उत्तर-पश्चिमी हवाओं की गिरफ़्त में रहा। अर्ध कुम्भ मेला क्षेत्र पर मध्यम से घने कोहरे की सफ़ेद चादर भी तनी दिखी। इस मौसम के बीच भी अर्ध कुम्भ में मौसनी अमावस्या स्नान के लिए आए स्नानार्थियों में श्रद्धा, उल्लास और उमंग जमकर देखने को मिला। कुम्भ मेला प्रशासन के हवाले से मीडिया में आ रही खबरों के अनुसार सुबह 11 बजे तक लगभग 4 करोड़ से अधिक भक्तों ने पवित्र गंगा में डुबकी लगाई।

स्नान रविवार देर रात से ही शुरू हो गया था, जो आज शाम तक जारी रहेगा। बताया जा रहा है कि आज शाम तक मौनी अमावस्या यानि अर्ध कुम्भ मेले के दूसरे शाही स्नान पर कुल 7 करोड़ तक श्रद्धालु स्नान कर लेंगे। संभावित भीड़ को देखते हुए मेला प्रशासन ने सुरक्षा और संरक्षा के व्यापक प्रबंध किए हैं।

स्काइमेट ने अनुमान लगाया था कि मौनी अमावस्या पर घने बादल छाने या बारिश होने की संभावना नहीं है। हालांकि मौसम विशेषज्ञों ने बताया था कि मध्यम से घना कोहरा छाया रहेगा और उत्तर-पश्चिमी दिशा से मध्यम रफ़्तार से ठंडी हवाएँ चलती रहेंगी। इसके चलते श्रद्धालुओं को शीतलहर जैसी स्थिति का सामना करना पड़ सकता है। इस बीच आज सुबह न्यूनतम तापमान 10.2 डिग्री तापमान रिकॉर्ड किया गया जो सामान्य के आसपास है।

आज दिन में धूप दिखेगी जिससे दिन में आने वाले भक्तों के लिए मौसम अच्छा हो जाएगा। दिन में तापमान 25 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना है। मौसम विशेषज्ञों के अनुसार अगले 2 दिन मौसम साफ रहेगा। दिन और रात के तापमान में वृद्धि होगी जिससे सर्दी कम होगी और मौसम सुहावना हो जाएगा। हालांकि 5 फरवरी को मध्यम से घना कोहरा बना रह सकता है। उसके बाद 7 और 8 फरवरी को प्रयागराज में बारिश होने के आसार हैं।

Updated on Jan 29, 2019: कुम्भ मेला 2019: शुष्क और सुहावने मौसम के साथ होगा मौनी अमावस्या का शाही स्नान 

प्रयागराज में इस समय कड़ाके की ठंड पड़ रही है। मंगलवार को न्यूनतम तापमान गिरकर सामान्य से 4 डिग्री नीचे 6.5 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। अधिकतम तापमान भी बीते 24 घंटों के दौरान 4 डिग्री नीचे 21 डिग्री सेल्सियस पर बना रहा। इस समय प्रयागराज सहित आसपास के इलाकों में ठंडी हवाएँ चल रही हैं। अनुमान है कि अगले 2-3 दिनों के दौरान मौसम इसी तरह ठंडा बना रहेगा।

स्काइमेट का आंकलन है कि 1 फरवरी से हवा के रुख में परिवर्तन होगा। हवा का रुख बदलेगा जिससे तापमान में धीरे-धीरे वृद्धि दर्ज की जाएगी और कड़ाके की ठंड से राहत मिलेगी। इस सप्ताह बारिश की संभावना नहीं है। लेकिन 31 जनवरी से ऊंचाई वाले हल्के बादल कहीं-कहीं दिख सकते हैं। इससे दिन में तेज़ धूप में कुछ बाधा आएगी।

अर्ध कुम्भ 2019 का दूसरा शाही स्नान यानि मौनी अमावस्या पर्व का स्नान 4 फरवरी को होगा। मौनी अमावस्या ही अर्ध कुम्भ या कुम्भ मेले का मुख्य शाही स्नान माना जाता है। मौनी अमावस्या के दिन न्यूनतम तापमान 10 डिग्री और अधिकतम तापमान 25 डिग्री के आसपास रहने के आसार हैं। आंशिक तौर पर बादल भी छा सकते हैं, लेकिन बारिश की उम्मीद नहीं है।

वर्तमान मौसमी परिदृश्य के आधार पर कहा जा सकता है कि मौनी अमावस्या के दिन प्रयागराज में मौसम सुहावना बना रहेगा और कड़ाके की ठंड का सामना श्रद्धालुओं को नहीं करना होगा। लेकिन तड़के स्नान करने वालों को सर्दी के बीच ही गंगा के पवित्र जल में उतरना होगा।

Updated on Jan 28, 2019: कुम्भ मेला 2019: शीतलहर से श्रद्धालु परेशान; 5 फरवरी को हो सकती है बारिश

प्रयागराज सहित कुम्भ मेला क्षेत्र में दिन और रात के तापमान में गिरावट हो रही है। पिछले 24 घंटों के दौरान अधिकतम तापमान 22.2 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया, जो सामान्य से 3 डिग्री कम है। इसी तरह न्यूनतम तापमान भी सामान्य से 2 डिग्री नीचे 8 डिग्री दर्ज किया गया। सुबह और रात में शीतलहर जैसे हालात बन सकते हैं क्योंकि न्यूनतम तापमान में कुछ और गिरावट की संभावना है।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार इस समय प्रयागराज सहित पूर्वी उत्तर प्रदेश में ठंडी उत्तर-पश्चिमी हवाएँ चल रही हैं। इन हवाओं के साथ पहाड़ों पर हुई बर्फबारी की सर्दी भी आ रही है। इसके चलते अगले दो-तीन दिनों तक तापमान में हल्की कमी सिलसिला जारी रहेगा। अनुमान है कि प्रयागराज में खासकर अर्ध कुम्भ मेला क्षेत्र में 29 और 30 जनवरी को न्यूनतम तापमान 6 डिग्री के आसपास पहुँच जाएगा जिससे कड़ाके की सर्दी का सामना श्रद्धालुओं को करना पड़ेगा।

इस दौरान मध्यम गति से चलने वाली हवाओं के कारण कोहरा छाने की संभावना नहीं है। 31 जनवरी से हवाओं की रफ़्तार में कमी आएगी जिससे उसके बाद हल्के से मध्यम कोहरा और धुंध छा सकता है।

4 फरवरी, मौनी अमावस्या पर मौसम

अर्ध कुम्भ मेला 2019 के अगले शाही स्नान, मौनी अमावस्या पर 4 फरवरी को अनुमान है कि आंशिक बादल प्रयागराज और आसपास के हिस्सों में छा सकते हैं। हालांकि बारिश की संभावना 4 फरवरी के बाद 5 और 6 फरवरी को है। मौनी अमावस्या पर बारिश की और सटीक जानकारी हम अपनी वेबसाइट पर अपडेट करते रहेंगे। इसलिए बारिश की सटीक जानकारी के लिए आप लॉग ऑन करते रहिए skaimetweather.com पर।

Updated on Jan 27, 2019: कुम्भ मेला 2019: अगले 24 घंटों में हल्की बारिश; बन सकते हैं शीतलहर जैसे हालात

पूर्वी उत्तर प्रदेश का पवित्र नगर प्रयागराज इस समय भक्ति भाव के मानचित्र पर पूरी दुनिया में चर्चा का केंद्र बना हुआ है। ऐसा इसलिए है क्योंकि प्रयागराज में अर्ध कुम्भ मेला चल रहा है। इस बार वाराणसी में प्रवासी भारतीय दिवस आयोजित किया गया जिसमें दुनियाभर से आए अनिवासी भारतीयों को 24 जनवरी को प्रयागराज जाने का सुअवसर मिला। साथ ही इस वर्ष के प्रवासी भारतीय दिवस के मुख्य अतिथि मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविन्द कुमार जग्नौथ भी प्रवासी भारतीयों के साथ कुम्भ मेला क्षेत्र प्रयागराज पहुंचे।

प्रयागराज में पिछले कई दिनों से रुक कर बारिश हो रही थी। 25 जनवरी को भारी बारिश के साथ ओलावृष्टि देखने को मिली, जिसके बारे में स्काइमेट ने पहले ही अपने पूर्वानुमान में जानकारी दी थी। अब गतिविधियां कम हो गई हैं। लेकिन उत्तर प्रदेश के मध्य भागों से मध्य प्रदेश तक एक ट्रफ बनी हुई है। यह सिस्टम बहुत प्रभावी नहीं है, इसके बावजूद पूर्वी उत्तर प्रदेश में कुछ बारिश दे सकता है।

अनुमान है कि प्रयागराज में अगले 24 घंटों के दौरान गर्जना के साथ बूँदाबाँदी या हल्की बारिश देखने को मिलेगी। इस मौसमी परिदृश्य के बीच प्रयागराज में पिछले 24 घंटों के दौरान अधिकतम तापमान सामान्य से 7 डिग्री कम 18 डिग्री सेल्सियस रहा। इसमें आज विशेष बदलाव नहीं दिखेगा।

रविवार को न्यूनतम तापमान सामान्य से 2 डिग्री ऊपर 12 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया, न्यूनतम तापमान में वृद्धि के साथ मेला क्षेत्र में लोगों को कड़ाके की ठंडी का सामना करना पड़ रहा है, ऐसा इसलिए है क्योंकि बारिश और बादलों के अलावा अब ठंडी उत्तर-पश्चिमी हवाएँ भी चलने लगी हैं। बर्फीली हवाओं के कारण अगले 2-3 दिनों तक रात का तापमान गिरकर 6-7 डिग्री तक पहुँच जाएगा और शीतलहर जैसे हालात बन जाएंगे।

Updated on Jan 22, 2019: कुम्भ मेला 2019: प्रयाग में बरसे बादल; 25-26 जनवरी को तेज़ वर्षा और ओलावृष्टि के आसार

अनुमान के अनुसार बादल प्रयागराज में ना सिर्फ पहुँच गए हैं बल्कि बीते 24 घंटों के दौरान इन बादलों ने बारिश भी दी है। आज सुबह 8:30 बजे तक रिकॉर्ड आंकड़ों के मुताबिक 2.1 मिमी वर्षा दर्ज की गई। हालांकि अब तक इस बारिश का असर तापमान पर नहीं दिख रहा है। पिछले 24 घंटों में अधिकतम तापमान सामान्य से 3 डिग्री अधिक 26.3 डिग्री और न्यूनतम तापमान सामान्य से 6 डिग्री ऊपर 15.3 डिग्री दर्ज किया गया।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार अगले 3-4 दिनों तक प्रयागराज सहित पूर्वी उत्तर प्रदेश में बारिश जारी रहने की संभावना है। अनुमान है कि 23 और 24 जनवरी को कुछ स्थानों पर हल्की वर्षा हो सकती है। धीरे-धीरे बारिश बढ़ेगी और 25 व 26 जनवरी को कई जगहों पर वर्षा होने के संकेत मिल रहे हैं। बारिश के साथ बादलों की गर्जना और ओलावृष्टि की आशंका से भी है।

बारिश बढ़ने से अर्ध कुम्भ मेला क्षेत्र में 25 और 26 जनवरी को श्रद्धालुओं और प्रशासन के लिए परेशानी बढ़ सकती है। उन दिनों में एक-दो स्थानों पर भारी वर्षा की भी संभावना है। इसके चलते तापमान में गिरावट होगी। अनुमान है कि दिन में पारा 22 डिग्री या उससे भी नीचे पहुँच जाएगा।

बारिश की गतिविधियां 27 जनवरी से कम हो जाएंगी। हालांकि हल्के बादल बने रहेंगे लेकिन बारिश की उम्मीद कम है। इसलिए माना जा रहा है कि 27 जनवरी से अर्ध कुम्भ मेला नगरी प्रयागराज में जनवरी के आखिर में मौसम काफी अच्छा हो जाएगा। अगले प्रमुख स्नान पर्व मौनी अमावस्या (मुख्य शाही स्नान, दूसरा शाही स्नान) तक मौसम साफ और सुहावना होने की संभावना है।

Kumbh Mela 2019-News Nation 600

Image Credit: NewsNation

Updated on Jan 22, 2019: कुम्भ मेला 2019: प्रयागराज में आज शाम से बारिश; दिन में गिरेगा पारा

प्रयागराज में पिछले दो दिनों से अधिकतम और न्यूनतम तापमान काफी बढ़ गया है। सर्दी कम हो गई है। बदले हुए मौसम के बीच कल यानि 21 जनवरी को दूसरे स्नान पर्व पौष पूर्णिमा पर लाखों लोगों ने पवित्र गंगा और यमुना के संगम पर डुबकी लगाई। सोमवार की तरह ही मंगलवार को भी प्रयागराज में सुबह का तापमान काफी ऊपर रहा। न्यूनतम तापमान सामान्य से 4 डिग्री अधिक 13 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। इसके अलावा दिन में पारा 5 डिग्री ऊपर 28.8 डिग्री दर्ज किया गया।

इस समय कुम्भ मेला क्षेत्र में दिन में आपको गर्मी लगेगी क्योंकि पुरवाई हवा चल रही है जिसमें उमस और गर्मी है। साथ ही उत्तर भारत में आए पश्चिमी विक्षोभ और इसके प्रभाव से पंजाब पर बने चक्रवाती क्षेत्र के कारण बादल भी दिखाई देने लगे हैं। बादलों का प्रभाव धीरे-धीरे बढ़ेगा और आज शाम व रात में हल्की बूँदाबाँदी भी देखने को मिल सकती है।

अनुमान है कि 23 जनवरी को हल्की वर्षा होगी जबकि 24 से गतिविधियां बढ़ेंगी। माना जा रहा है कि 25 जनवरी को कुम्भ मेला क्षेत्र सहित समूचे प्रयागराज में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। बारिश के साथ गर्जना होने, बिजली कड़कने, हवाएँ चलने और ओलावृष्टि होने की भी संभावना उस दौरान है।

Published on Jan 21, 2019: कुम्भ मेला 2019: प्रयागराज में 22 से बारिश; दिन में बढ़ेगी सर्दी

प्रयागराज में 21 जनवरी को पौष पूर्णिमा के दूसरे स्नान पर्व पर भी देश और दुनिया से लाखों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। पिछले दो दिनों से प्रयागराज में पुरवाई चल रही है जिसके चलते दिन में पारा बढ़ा है। तापमान बढ़ने से निश्चित तौर पर ठंडे पानी में डुबकी लगाने वाले श्रद्धालुओं को राहत मिली होगी। रविवार को प्रयागराज में अधिकतम तापमान सामान्य से 6 डिग्री अधिक 28.8 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। न्यूनतम तापमान औसत के आसपास 8.8 डिग्री पर बना रहा।

बात बारिश की करें तो प्रयागराज में 1 जनवरी से 20 जनवरी तक औसतन 9 मिलीमीटर बारिश होती है। यानि हर साल प्रयागराज में लगने वाले माघ मेले में श्रद्धालुओं को बारिश से निपटना होता है। लेकिन इस बार इस महीने के शुरुआती 20 दिनों में बारिश ना के बराबर हुई है। इस बीच अगले 24 घंटों में मौसम बदलने वाला है। अनुमान है कि प्रयागराज में 22 जनवरी से बादल छाएंगे और शाम से बादलों की गर्जना के साथ हल्की से मध्यम बारिश देखने को मिलेगी।

कुम्भ मेला क्षत्र में बारिश की गतिविधियां रुक-रुक कर अगले 4-5 दिनों तक जारी रहेंगी। जिसके चलते मेले में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए मुश्किलें आ सकती हैं। हालांकि मेला प्रशासन के लिए राहत की बात यह है कि 21 जनवरी के बाद अगला स्नान पर्व 4 फरवरी को है जिससे बारिश के दौरान भारी भीड़ को संभालने की चुनौती फिलहाल नहीं होगी। बारिश के साथ ओलावृष्टि की संभावना से भी इंकार नहीं किया जा सकता है।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार 22 से 27 जनवरी के बीच 5 दिनों की अवधि में बादल छाए रहने और रुक-रुक बारिश होने के कारण दिन के तापमान में 4-5 डिग्री की भारी गिरावट आएगी। पारा गिरने से दिन में सर्दी बढ़ सकती है। हालांकि इस दौरान रात के तापमान में कमी की आशंका फिलहाल नहीं है। इस बीच पिछले दिनों से छाया प्रदूषण बारिश के चलते साफ हो सकता है।

अर्ध कुम्भ स्नान 2019 की प्रमुख तिथियों :

1-     15 जनवरी 2019: मकर संक्रांति (पहला शाही स्नान)

(मौसम-कड़ाके की ठंड होगी। सुबह कोहरा छा सकता है लेकिन बारिश की उम्मीद नहीं है।)

2-     21 जनवरी 2019: पौष पूर्णिमा

(मौसम- सर्दी जारी रहेगी। तापमान 24/11 के आसपास रहेगा। हल्की बारिश होने की संभावना है।)

3-     04 फरवरी 2019: मौनी अमावस्या (मुख्य शाही स्नान, दूसरा शाही स्नान)

(मौसम- सर्दी की वापसी शुरू हो जाएगी। हालांकि सुबह और रात में ठंडी बनी रहेगी।)

4-     10 फरवरी 2019: बसंत पंचमी (तीसरा शाही स्नान)

(मौसम- मौसम श्रद्धालुओं को और राहत देगा। दोपहर में गर्मी की दस्तक भी हो सकती है।)

5-     19 फरवरी 2019: माघी पूर्णिमा

(मौसम- सुबह औररात मेंसुहावनी ठंडक होगी। कड़ाके की सर्दी क्रमशः कम हो जाएगी।

6-     04 मार्च 2019: महा शिवरात्री

(मौसम- प्रयागराज में मार्च की शुरुआत से गर्मी अपना आसार दिखाना शुरू कर देती है और ऐसे में कुम्भ से विदा होते समय आपको गंगा में डुबकी लगाने में सर्दी का डर नहीं होगा बल्कि शीतलता का आनंद होगा।)

Image credit: UP Government

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।

 

 

We do not rent, share, or exchange our customers name, locations, email addresses with anyone. We keep it in our database in case we need to contact you for confirming the weather at your location.