Skymet weather

[Hindi] नॉर्थईस्ट मॉनसून अपडेट: तमिलनाडु और केरल में बारिश शुरू होने के आसार

December 12, 2019 5:44 PM |

Northeast Monsoon 2019 Live Update

Updated on December 12, 2019, 06:35 PM: तमिलनाडु और केरल में बारिश शुरू होने के आसार

उत्तर पूर्वी मॉनसून अभी भी कमजोर बना हुआ है। हालांकि एक ट्रफ बंगाल की खाड़ी में बन रहा है जिसके चलते तमिलनाडु तथा केरल में कुछ स्थानों पर हल्की बारिश शुरू हो सकती है। बाकी सभी इलाकों में मौसम सुष्क ही बना रहेगा।

इस साल उत्तर-पूर्वी मॉनसून बहुत अधिक सक्रिय नहीं रहा है। दक्षिण भारत के कई राज्य हैं जहां उत्तर-पूर्वी मॉनसून ही बारिश का मुख्य श्रोत है। वहीं कुछ ऐसे इलाके भी हैं जहां बारिश सामान्य काफी अधिक हुई है। अधिक वर्षा में हैं कर्नाटक, तेलंगाना और केरल।

कर्नाटक में 73 प्रतिशत अधिक वर्षा, तेलंगाना में 43 प्रतिशत अधिक बारिश, केरल में 28 फीसदी जबकि तमिलनाडु में 5% ज़्यादा बरसात हुई है। आंध्र प्रदेश पीछे रहा है। यहाँ सामान्य से 6% कम वर्षा हुई है।

Updated on December 11, 2019, 05:00 PM: उत्तर पूर्वी मॉनसून रहेगा कमजोर, महज़ केरल और तमिलनाडु के कुछ हिस्सों में दिखेगी हल्की बारिश

दक्षिण भारत के जिन भागों में उत्तर-पूर्वी मॉनसून के चलते बारिश होती है, वहाँ तकरीबन एक हफ्ते से बहुत कम बारिश हो रही है। उत्तर-पूर्वी मॉनसून आमतौर पर तमलिनडु, केरल, दक्षिणी आंतरिक कर्नाटक, रायलसीमा और तटीय आंध्र प्रदेश में बारिश देता है। इन भागों में काफी समय से मौसम मुख्यतः शुष्क बना हुआ है। कुछ हलचल तमिलनाडु के तटीय हिस्सों और केरल में होने की संभावना है। लेकिन बीते 48 घंटों से इन दोनों राज्यों समेत सभी भागों में मौसम शुष्क बना हुआ है।

आने वाले दिनों में भी उत्तर-पूर्वी मॉनसून में कुछ विशेष सुधार नहीं दिखाई दे रहा है। दोनों तटीय भागों पर यानि अरब सागर और बंगाल की खाड़ी पर कोई सिस्टम जल्द विकसित नहीं हो रहा है जिसके चलते दक्षिणी राज्यों पर मिनी मॉनसून कोई बड़ा बदलाव नहीं लाएगा।

हालांकि 13 से 15 दिसम्बर के बीच स्थितियाँ कुछ अनुकूल बनेंगी जिसके चलते दक्षिणी किनारों पर खासकर दक्षिणी तमिलनाडु और दक्षिणी केरल में कुछ स्थानों पर हल्की बारिश देखने को मिल सकती है।

Updated on December 5, 2019, 17:00 PM: उत्तर पूर्वी मॉनसून पड़ेगा कमजोर, दक्षिणी भारत में मौसम शुष्क होने के आसार

तमिलनाडु में पिछले दिनों भारी बारिश की गतिविधियाँ होने के बाद से ही राज्य में अब मौसम बदल रहा है। अधिकांश इलाकों में मौसम शुष्क हो जाएगा। तमिलनाडु में केवल हल्की वर्षा देखने को मिल रही है, ऐसा ही हाल केरल में भी देखा जा रहा है।

उत्तर-पूर्वी मॉनसून तमिलनाडु के साथ-साथ दक्षिणी भारत के भी अधिकांश हिस्सों में कमजोर हो गया है। अगले चार से पांच दिनों के दौरान चेन्नई तमिलनाडु और केरल में किसी विशेष मौसमी हलचल की उम्मीद नहीं है।

हालांकि, आने वाले दिनों में तमिलनाडु के दक्षिणी जिलों और केरल में कुछ हल्की गतिविधियों का अनुमान लगाया जा रहा है।जबकि कर्नाटक, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में मौसम लगभग शुष्क ही बना रहेगा।
देश भर के मौसम का हाल जानने के लिए देखें वीडियो:

Updated on December 4, 2019, 17:03 PM: संभावित चक्रवात अंफान के कारण, उत्तर पूर्वी मॉनसून पड़ेगा कमजोर

अरब सागर के मध्य-पूर्वी भागों पर एक डीप डिप्रेशन बन गया है जो कि पिछले 06 घंटों के दौरान 32 किमी प्रति घंटे की गति के साथ उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर चला गया है और आज  08:30 बजे, मध्य-पूर्वी अरब सागर पर केंद्रित है। यह अगले 12 घंटों के बाद एक चक्रवाती तूफान बदल सकता है।

इस प्रणाली के कारण, दक्षिणी भारत में बारिश की गतिविधियां कम हो गई हैं। अब हम यह उम्मीद करते हैं कि केरल, कर्नाटक,तमिलनाडु और दक्षिण आंध्र प्रदेश में केवल हल्की बारिश होगी।

अनुमान है कि तेलंगाना और उत्तर आंध्र प्रदेश का मौसम शुष्क ही बना रहेगा। जबकि चेन्नई और बेंगलुरु में अलग-अलग स्थानो में बारिश हो सकती है।

Updated on December 2, 2019, 15:32 PM: तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, लक्षद्वीप के कुछ हिस्सों में दिखा बारिश का कहर

उत्तर पूर्वी मॉनसून दक्षिण भारत के राज्यों पर मेहरबान बना हुआ है। बीते 24 घंटों के दौरान दक्षिण भारत में भारी से बहुत भारी बारिश दर्ज हुई है। तमिलनाडु में पिछले 2-3 दिनों से जारी बारिश के कारण कई जिलों में बाढ़ जैसी स्थितियाँ पैदा हो गई हैं।

कोयंबटूर के एक गांव में सोमवार सुबह दीवार गिरने से 17 लोगों की मौत हो गई। लगातार हो रही बारिश के चलते बचाव अभियान में बाधा आ रही है।

अधिक भारी बारिश के कारण चेन्नई, तूतीकोरिन, तिरुवल्लूर और कांचीपुरम में स्कूल और कॉलेज बंद कर दिये गए हैं।

केरल, दक्षिणी आंतरिक कर्नाटक और दक्षिणी आंध्र प्रदेश में भी कुछ स्थानों पर मध्यम से भारी बारिश रिकॉर्ड की गई। साथ ही, लक्षद्वीप में भी भारी से बहुत भारी बारिश दर्ज की गई। मिनिकॉय में 213 मिमी बारिश दर्ज हुई है। अरब सागर पर बने निम्न दबाव के क्षेत्र के चलते दक्षिण के राज्यों पर मूसलाधार वर्षा हो रही है।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार दक्षिणी तमिलनाडु, केरल, दक्षिणी कर्नाटक और लक्षद्वीप के कुछ हिस्सों में मध्यम से भारी बारिश जारी रहेगी। चेन्नई सहित उत्तरी तमिलनाडु में बारिश में कमी आने की संभावना है।

Updated on December 1, 2019, 17:46 PM: चेन्नई सहित तमिलनाडु पर मेहरबान मिनी मॉनसून

उत्तर पूर्वी मॉनसून दक्षिण भारत के भागों में सक्रिय है। अनुमान है कि अगले कुछ दिनों तक दक्षिणी राज्यों में बारिश की गतिविधियां जारी रहेंगी। इस समय कोमोरिन और आसपास के भागों पर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है। इसके अलावा दक्षिण-पूर्वी अरब सागर पर एक गहरे निम्न दबाव का क्षेत्र भी विकसित हो गया है।

इन सिस्टमों के चलते तमिलनाडु में अगले 24 से 36 घंटों तक मध्यम से भारी बारिश होने की संभावना है। उम्मीद है कि इस दौरान चेन्नई, वेल्लोर, मदुरै, कोयंबटूर, सलेम, कोडईकनाल, धरमपुरी, रामेश्वरम और पंबन में अच्छी बारिश होगी।

2 दिसम्बर की रात से बारिश में कमी आएगी। जबकि केरल में 3 दिसम्बर तक हल्की से मध्यम बारिश जारी रहेगी। इस दौरान कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में भी रुक-रुक कर बारिश के आसार हैं।

यह बारिश दक्षिण भारत के राज्यों के लिए लाभकारी होगी। खासकर नारियल, मूँगफली, धान, गन्ना की फसलों को बारिश से फायदा होगा। साथ ही चेन्नई समेत तमिलनाडु के तमाम शहरों में नीचे जा रहे भू-जल स्तर की चिंता से भी लोगों को कुछ राहत मिलेगी।

Updated on November 30, 2019, 14:46 PM: केरल और तमिलनाडु में निम्न दबाव क्षेत्र के चलते होगी भारी बारिश 

उत्तर पूर्वी मॉनसून एक बार फिर पूरी तरह से दक्षिण भारत को प्रभावित करने के लिए तैयार है, क्योंकि दक्षिण-पूर्वी अरब सागर और हिंद महासागर के आसपास के सटे क्षेत्रों में एक नया निम्न दबाव का क्षेत्र बना हुआ है, जिससे दक्षिण भारत में बारिश हो रही है।

पिछले 24 घंटों में केरल और तमिलनाडु में हल्की से मध्यम बारिश दर्ज हुई है। साथ ही कुछ क्षेत्रों में भारी वर्षा भी देखी गई है।

स्काइमेट के विशेषज्ञों के अनुसार, केरल में आज से मौसम की गतिविधियां बढ़ेंगी। मुख्य रूप से हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है और कुछ स्थानों में भारी बारिश भी देखी जा सकती है।

यह मॉनसून एक बार फिर बारिश का लंबा समय लेकर आएगा जो 2 दिसंबर तक जारी रहेगा। 2 दिसंबर की रात तक, यह निम्न दबाव का क्षेत्र लक्षद्वीप से दूर चला जाएगा। जिससे केरल और दक्षिण भारत के अन्य हिस्सों में बारिश की गतिविधियां कम हो जाएंगी।

Updated on November 28, 2019, 15:46 PM: उत्तर पूर्वी मॉनसून हुआ सक्रिय, दक्षिण भारत में हो रही अच्छी बारिश 

उत्तर-पूर्वी मॉनसून दक्षिण भारत पर सक्रिय हो गया है। जिससे चेन्नई और केरल के आसपास के तटीय क्षेत्रों में अगले तीन से चार दिनों तक अच्छी बारिश की उम्मीद है। जबकि चेन्नई में 2 दिसंबर तक रुक-रुक कर अच्छी बारिश हो सकती है। इस दौरान, शहर में जलभराव और ट्रैफिक जाम की भी आशंका है।

इसके अलावा, 30 नवंबर के आसपास दक्षिण-पूर्व अरब सागर में एक निम्न दबाव क्षेत्र विकसित होने की उम्मीद है। यह सिस्टम धीरे-धीरे उत्तर पश्चिमी दिशा से लक्षद्वीप की ओर बढ़ेगा। इसका असर केरल में 30 नवंबर से 1 दिसंबर तक रहेगा। जिससे केरल में इस दौरान बारिश और गरज के साथ बौछारें गिरने की संभावना रहेगी।


Updated on November 27, 2019, 15:56 PM:  तमिलनाडु के कुछ हिस्सों में सक्रिय हुआ उत्तर पूर्वी मॉनसून

उत्तर पूर्वी मॉनसून अभी भी दक्षिण भारत के अधिकांश हिस्सों में कमजोर बना हुआ है।

हालांकि पिछले 24 घंटों में, तमिलनाडु के तटीय हिस्सों पर भारी बारिश दर्ज की गई है। तमिलनाडु के आंतरिक हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश देखी गई है।

हालांकि, केरल, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक और आंध्र प्रदेश का मौसम लगभग सूखा ही बना रहा। इसके अलावा दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक में हल्की बारिश दर्ज की गई।

अब हम उम्मीद करते हैं कि उत्तर पूर्वी मॉनसून एक बार फिर वापसी करेगा, जिससे पूर्वी हवाएँ सक्रिय हो जाएंगी। इसके अलावा, उत्तर-पूर्वी हवाएँ एक बार फिर अपनी गति पकड़ेंगी।

जल्द ही दक्षिण-पूर्वी अरब सागर में निम्न-दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है। इसलिए अब हम उम्मीद करते हैं कि अगले हफ्ते तक तटीय तमिलनाडु पर मानसून सक्रीय बना रहेगा। साथ ही बारिश की तीव्रता दक्षिणी तमिलनाडु पर अधिक होगी।

वहीं दूसरी ओर, दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश, केरल और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक में कम बारिश होगी।

Updated on November 23, 2019, 01:20 PM: चेन्नई और तमिलनाडु में अच्छी बारिश के साथ फिर सुस्त हुआ मॉनसून, जल्द इसके सक्रिय होने की उम्मीद

चेन्नई में पिछले 24 घंटों के दौरान 23 मिमी की अच्छी बारिश दर्ज हुई है। इसके अलावा पलयामकोत्तई में 46 मिमी, टोंडी में 10 मिमी तथा कराईकल में 25 मिमी की अच्छी बारिश देखने को मिली है।

हालांकि अब उत्तर पूर्वी मॉनसून अब कमजोर होने वाला है। जिसके साथ ही दक्षिण भारत में बारिश की गतिविधियां कम हो जाएगी। स्काईमेट के मौसम विशषज्ञों के अनुसार, तमिलनाडु के अलग अलग स्थानों पर हल्की वर्षा के साथ एक दो स्थानों पर खासकर तटीय इलाकों में अगले 24 घंटों के दौरान मध्यम बारिश देखी जा सकती है। इस दौरान, राज्य के आंतरिक जिलों में हल्की बारिश होने के आसार हैं।

मौसम विशषज्ञों के अनुसार 26 नवंबर तक उत्तर पूर्वी मॉनसून कमजोर ही बनी रहेगी। जिसके बाद 27 नवंबर के आसपास एक बार फिर मॉनसून के सक्रिय होने की संभावना है। इस दौरान तमिलनाडु के अधिकांश स्थानों पर गरज के बारिश की गतिविधियां देखे जाने के आसार हैं। इतना ही नहीं, कहीं कहीं मध्यम बारिश के साथ एक दो स्थानों पर भारी बारिश भी देखने को मिल सकती है। राजधानी चेन्नई में भी इस दौरान एक दो स्थानों पर मध्यम या भारी बारिश देखने को मिल सकती है। उत्तर पूर्वी मॉनसून के कारण 27 नवंबर से शुरू होने वाली बारिश के 29 नवंबर तक जारी रहने कि उम्मीद है।

Updated on November 22, 2019, 05:20 PM: मॉनसून फिर हुआ सक्रिय, चेन्नई और तमिलनाडु में अगले 24 घंटों में होगी अच्छी बारिश

उत्तर पूर्वी मॉनसून ने एक बार फिर वापसी कर ली है, जिससे दक्षिण भारत में बारिश हो रही है। तमिलनाडु और केरल में पिछले कुछ दिनों से मध्यम तीव्रता की वर्षा और गरज के बारिश देखी गई है।

अधिशेष जो लगातार गिर रहा था, वह अब स्थिर हो गया है। जिससे अक्टूबर का महीना 54 प्रतिशत की भारी वर्षा के साथ समाप्त हुआ है, जबकि उत्तर पूर्वी मॉनसून की स्थिति नवंबर महीने में काफी कमजोर रही है। साथ ही, दक्षिण भारत के लिए वर्षा अधिशेष 22 प्रतिशत ही रहा है।

अब तक तमिलनाडु में उत्तर पूर्वी मॉनसून का प्रदर्शन संतोषजनक नहीं रहा है। 20 नवंबर तक राज्य में वर्षा की कमी 9% बनी हुई थी। हालांकि, 21 नवंबर तक यह आंकड़ा सुधर कर 8% पर आ गया है।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार, आने वाले दिनों में तमिलनाडु, केरल, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, रायलसीमा और दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश में मध्यम बारिश की उम्मीद है।

Updated on November 21, 2019, 05:20 PM: सक्रिय मोड पर मॉनसून, चेन्नई और तमिलनाडु में अगले 24 घंटों तक होती रहेगी अच्छी बारिश 

चेन्नई की बारिश ने एक बार फिर रफ्तार पकड़ ली है। राजधानी चेन्नई में आज यानि 21 नवंबर को भी कुछ स्थानों पर तीव्र वर्षा की संभावना बनी हुई है। आज सुबह से ही शहर में बादल छाए रहने के साथ कुछ हिस्सों में तो पहले से ही बारिश की गतिविधियां शुरू है।

दक्षिण भारत के शहरों में इस समय हो रही बारिशों का मुख्य कारण है कोमोरिन क्षेत्र से तटीय तमिलनाडु होते हुए दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश तक फैले ट्रफ रेखा। स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों का अनुमान है कि चेन्नई में अगले 24 घंटों के दौरान मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश होने के आसार हैं।

उम्मीद है कि, यह ट्रफ रेखा अगले एक दो दिनों में कमजोर हो जाएगी। जिसके बाद 23 नवंबर से राज्य में बारिश कम हो जाने की उम्मीद है, लेकिन मौसम पूरी तरह से शुष्क नहीं होगा और शहर में एक-दो स्थानों पर हल्की बारिश उसके बाद भी जारी रहेगी। इस दौरान, दक्षिण तटीय तमिलनाडु के कुछ हिस्सों जैसे कराईकल और पंबन के कुछ स्थानों पर मध्यम बारिश जारी रहेगी। इसके अलावा, चेन्नई सहित उत्तरी तटीय तमिलनाडु में भी हल्की बारिश जारी रहने की संभावना है।

Updated on November 20, 2019, 05:20 PM: मॉनसून फिर सक्रिय मोड पर, चेन्नई और तमिलनाडु में हुई अच्छी बारिश की शुरुआत, बढ़ सकती है बारिश

उत्तर पूर्वी मॉनसून 2019 अब फिर सक्रिय मोड पर आ गया है। जिसके कारण दक्षिण भारत में बारिश एक बार फिर से रफ्तार पकड़ ली है, जो नवंबर के लिए कुछ अच्छी खबर लेकर आया है। पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य में हल्की से मध्यम वर्षा देखी गई है। मंगलवार सुबह 8:30 बजे से बीते 24 घंटों के दौरान पंबन में 22 मिमी बारिश दर्ज की गई। इसके अलावा, चेन्नई में 21 मिमी, कराईकल में 21 मिमी, पलायमकोट्टई में 11 मिमी, परगनीपेटाई में 11 मिमी और तंजावुर में 6 मिमी की अच्छी बारिश रिकॉर्ड हुई है।

English Version: Chennai, Tamil Nadu gear up more rains as Northeast Monsoon picks up pace

बारिश की हुई इस वृद्धि के मुख्य कारण हैं कोमोरिन क्षेत्र में चिह्नित चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र और साथ ही इस प्रणाली से बंगाल के दक्षिण-पश्चिम खाड़ी तक फैले एक ट्रफ रेखा। इन मौसम प्रणालियों ने उमस भरी हवाओं के प्रवाह को और मजबूत कर दिया है।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार, तमिलनाडु में अगले दो दिनों तक भी गरज के साथ व्यापक बारिश होने का अनुमान है। राज्य के आंतरिक भागों की तुलना में तटीय क्षेत्रों में बारिश की तीव्रता अधिक होगी। चेन्नई में भी इस दौरान हल्की बारिश देखी जा सकती है। हालांकि, इस दौरान भारी बारिश से इंकार किया जाता है।

Updated on November 19, 2019, 01:20 PM: उत्तर-पूर्वी मॉनसून अभी भी सामान्य, चेन्नई सहित तमिलनाडु में अगले 3-4 दिनों तक जारी रहेगी बारिश

तमिलनाडु में एक बार फिर से बारिश की गतिविधियां तेज हो गई है। स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों द्वारा किए गए पूर्वानुमान के मुताबिक ही राज्य के कई हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक-दो स्थानों पर भारी बारिश भी दर्ज हुई है। सोमवार सुबह 08:30 बजे से बीते 24 घंटों के अंतराल में राज्य के कुड्डालोर में 61 मिमी की अच्छी बारिश रिकॉर्ड हुई है। इसके अलावा, चेन्नई में बारिश की तीव्रता कम रही। इस दौरान, नुगमबक्कम में केवल 3 मिमी बारिश दर्ज हुई।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार, इस समय पूर्वी हवाएं ज्यादा सक्रिय हो गया है और उत्तर-पूर्वी मॉनसून राज्य में अभी भी सामान्य स्थिति में है। जिसके कारण, दक्षिण भारत के कई हिस्सों में अगले 3-4 दिनों के दौरान अलग-अलग स्थानों पर बारिश की गतिविधियां जारी रहने का अनुमान है। इस दौरान राजधानी चेन्नई में हल्की बारिश के साथ एक-दो स्थानों पर मध्यम बारिश भी हो सकती है। हालाँकि, अगले 3-4 दिनों के बाद बारिश की तीव्रता में कमी के आसार हैं। बारिश की तीव्रता में कमी के बावजूद रुक-रुक कर बारिश की गतिविधियां जारी रहेगी।

Updated on November 17, 2019, 02:00 PM: मॉनसून फिर हुआ सक्रिय, पूरे दक्षिण भारत में दिखी बारिश, तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में आगे भी अच्छी बारिश का अनुमान

दक्षिण भारत में पिछले कुछ दिनों के दौरान बारिश के साथ उत्तर-पूर्वी मॉनसून एक बार फिर से सक्रिय हो गया है। पिछले 24 घंटों के दौरान, उत्तर-पूर्वी मॉनसून की बारिश में और तेजी देखी गई है।

इस दौरान, तमिलनाडु में कुछ हिस्सों में भारी से बहुत भारी बारिश के साथ ज़्यादातर हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश देखने को मिली है। इसके अलावा, केरल, तटीय और दक्षिणी आंतरिक कर्नाटक में भी हल्की से मध्यम बारिश दर्ज की गई।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार, केरल, तटीय आंध्र प्रदेश, रायलसीमा, तटीय और दक्षिणी आंतरिक कर्नाटक और तमिलनाडु में अगले 2-3 दिनों तक हल्की से मध्यम बारिश जारी रहेगी। खासकर, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु के तटीय क्षेत्रों के भी कुछ क्षेत्रों में भारी से बेहद भारी बारिश हो सकती है।

चेन्नई और बेंगलुरु के प्रमुख शहरों में भी मॉनसून की बारिश देखने को मिलेगी। इतना ही नहीं, मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक, मॉनसून की बारिश 19 और 20 नवंबर को और तेज हो सकती है।

Updated on November 05, 2019, 05:00 PM: फिर सक्रिय हो रहा मॉनसून, चेन्नई समेत पूरे दक्षिण भारत में अगले 10 दिन अच्छी बारिश का अनुमान 

बंगाल की खाड़ी के ऊपर इस समय कोई मौसम प्रणाली नहीं है। इसलिए, उत्तर पूर्वी हवाओं का सामान्य पैटर्न एक बार फिर से आ जाएगा। हम उम्मीद करते हैं कि उत्तर पूर्वी मॉनसून एक बार फिर से रफ्तार पकड़ लेगा और उत्तर-पूर्वी हवाएँ तमिलनाडु तट पर बारिश देने में कारगर साबित होंगी।

नवंबर के महीने में मॉनसून अब तक कमजोर रहा है। लेकिन, आज यानि 13 नवंबर के बाद चेन्नई समेत पूरे दक्षिण भारत में बारिश शुरू होने की उम्मीद है। इस बारिश की तीव्रता कल के बाद से और बढ़ सकती है।

यह बारिश 22 या 23 नवंबर तक जारी रह सकती है। राज्य के पुडुचेरी, कराईकल, तंजावुर, चेन्नई जैसे स्थानों के साथ-साथ दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश के आसपास के जिले भी इन बारिश की गतिविधियों होंगी। तमिलनाडु के तटीय भागों में मध्यम वर्षा की आशंका है।

Updated on November 05, 2019, 05:00 PM: दक्षिण भारत में मिनी मॉनसून पश्चिमी तटों पर रहेगा सक्रिय, केरल, कर्नाटक और आंतरिक तमिलनाडु में होगी बारिश

नॉर्थ ईस्ट मॉनसून पिछलें कई दिनों से कमजोर बना हुआ है,अक्टूबर का महिना नॉर्थ ईस्ट मॉनसून के लिए काफी अच्छा रहा है।

लेकिन नवंबर के शुरुआती दिनों से उत्तर पूर्वी मॉनसून कमजोर बना हुआ है, इसका कारण अरब सागर में एक के बाद एक चकरवात बन रहे है, जेसे क्यार, तथा महा। जिसके बाद से डिप्रेशन बंगाल की खाड़ी में बना हुआ है जिससेहवाऔ की दिशा परिवर्तित होगी। और जो नमी वाली हवाएँ दक्षिण भारत को प्रभावित नहीं कर रही है, इसके कारण अगले कुछ दिनो के दौरान हम उम्मीद करते है की वर्षा की गतिविधियां कम बनी रहेगी।

खासकर की उत्तर आंतरिक कर्नाटक, तेलंगाना, केरल और आंध्र प्रदेश में वर्षा की गतिविधियां कम रहेंगी लेकिन दक्षिणी आंतरिक कर्नाटक, तमिल नाडु, में अगले तीन या चार दिनों में भारी से अति भारी बारिश नही होगी। लेकिन हल्की से माध्यम वर्षा जारी रहेगी, क्योंकि दक्षिण पूर्वी दिशा से आने वाली हवाएँ नमी को बढ़ा रही हैं जिससे दोनों हवाओं के मिलन के कारण इन भागों में बादल बनेंगे और बारिश होने की आशंका है।

देश भर के मौसम का हाल जानने के लिए देखें वीडियो:

Updated on November 04, 03:00 PM: नॉर्थईस्ट मॉनसून अपडेट: बंगलुरु, त्रिवेन्द्रम, कोचीन सहित केरल और कर्नाटक में सक्रिय रहेगा मिनी मॉनसून

नॉर्थ ईस्ट मॉनसून पिछले कुछ दिनों से कमजोर है, क्योंकि कोई सक्रिय मौसमी सिस्टम इसे सपोर्ट नहीं कर रहा है। बंगाल की खाड़ी में हाल ही में बना निम्न दबाव का क्षेत्र अभी बहुत दूर है और अरब सागर में विकसित तूफान भी काफी दूर चला गया है। हालांकि विपरीत दिशाओं से आने वाली के आपस में टकराने से कर्नाटक तथा तमिलनाडु के कुछ भागों में अच्छी बारिश देखने को मिली है।

उम्मीद है की कर्नाटक, केरल तथा आंतरिक तमिलनाडु में अगले 24 से 48 घंटों तक बारिश जारी रहेगी, उसके बाद मिनी मॉनसून फिर से कमजोर हो जाएगा जिसके कारण बारिश की गतिविधियां कमजोर पढ़ जाएंगी। हालांकि तमिलनाडु, रायलसीमा, उत्तरी आंतरिक कर्नाटक सहित तटीय कर्नाटक तथा केरल में हल्की बारिश जारी रह सकती है।

यह स्थिति 7 नवंबर तक जारी रहेगी, 8 नवंबर के आसपास दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, रायलसीमा, तमिलनाडु तथा केरल में वर्षा की गतिविधियां कुछ जगहों पर बढ़ सकती हैं। इस बीच बंगाल की खाड़ी में विकसित हो रहा मौसमी सिस्टम 10 नवंबर के आसपास समुद्री तूफान के रूप में पूर्वी तटों पर पहुँच सकता है। इसके प्रभाव से आंध्र प्रदेश के उत्तरी तटों पर भारी बारिश होने की संभावना है।

अनुमान है कि 9 और 10 नवंबर को तेलंगाना और उत्तरी आंतरिक कर्नाटक का मौसम लगभग शुष्क बना रहेगा, हालांकि तटीय कर्नाटक, तमिलनाडु, और केरल में हल्की से मध्यम वर्षा रहेगी।

देश भर के मौसम का हाल जानने के लिए देखें वीडियो:

Updated on October 29, 03:00 PM: चेन्नई, बंगलुरु, त्रिवेन्द्रम सहित दक्षिण भारत में सक्रिय रहेगा मिनी मॉनसून

दक्षिण भारत के राज्यों में लंबे समय से बारिश हो रही है। ऐसा इसलिए है क्योंकि बंगाल की खाड़ी और अरब सागर में एक के बाद एक उठने वाले मौसमी सिस्टम उत्तर-पूर्वी मॉनसून यानि देश के मिनी मॉनसून को सक्रिय बनाए रखने में मदद कर रहे हैं।

स्काइमेट का आकलन है कि अगले 24-48 घंटों के दौरान उत्तर पूर्वी मॉनसून सक्रिय बना रहेगा। इसके चलते तमिलनाडु और केरल में मध्यम से भारी बारिश जारी रहने की उम्मीद है। दोनों राज्यों के दक्षिणी जिलों में बारिश का प्रभाव अधिक होगा और कुछ स्थानों पर मूसलाधार वर्षा हो सकती है। इस दौरान लक्षद्वीप में भी भारी से अति भारी बारिश होने की भी संभावना है।

इस क्षेत्र में वर्षा की इन गतिविधियों के लिए कोमोरिन और दक्षिणी श्रीलंका के तटों पर बने गहरे निम्न दबाव के क्षेत्र को ज़िम्मेदार माना जा सकता है। यह सिस्टम उत्तर-पश्चिमी दिशा में जाएगा और आज रात या कल सुबह तक दक्षिण-पूर्वी अरब सागर पर डिप्रेशन बन जाएगा।

मौसम विशेषज्ञों के अनुसार यह सिस्टम लगातार प्रभावी होता रहेगा और जल्द ही एक डीप डिप्रेशन बन सकता है। बाद में इसके चक्रवाती तूफान बनने की भी संभावना है। कह सकते हैं कि तमिलनाडु और केरल सहित दक्षिण भारत के कई इलाकों में पूर्वोत्तर मॉनसून आने वाले दिनों में भी सक्रिय रहने वाला है।

देश भर के मौसम का हाल जानने के लिए देखें वीडियो:

 

Updated on October 24, 12:40 PM: चक्रवाती तूफान 'क्यार' के जल्द आने की संभावना, मध्यम से भारी बारिश जारी

तमिलनाडु में लगातार मध्यम से भारी बारिश का असर रहा है। बुधवार सुबह 8.30 बजे से 24 घंटे के अंतराल में, तिरुचिरापल्ली में 57 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। इस दौरान आदिरामपट्टिनम में भी 46 मिमी बारिश हुई है। दूसरी ओर, कर्नाटक में खासकर राज्य के तटीय क्षेत्र में भारी वर्षा देखी जा रही है।

आंकड़ों के मुताबिक, बुधवार को सुबह 8.30 बजे से बीते 24 घंटे के अंतराल में होन्नावर में 113 मिमी की भारी बारिश दर्ज हुई।इसके अलावा, कारवार में 111 मिमी और मंगलौर में 61 मिमी की अच्छी बारिश देखी गई।

स्काईमेट के मौसम विज्ञानियों के अनुसार, तटीय कर्नाटक में एक चिह्नित निम्न दबाव वाले क्षेत्र के कारण दक्षिणी प्रायद्वीप में कुछ समय के लिए मध्यम से भारी बारिश जारी रहेगी। इस निम्न दवाब क्षेत्र के बाद में चक्रवाती तूफान 'क्यार' में तेज होने की संभावना है। आंध्र प्रदेश के तटीय भागों पर भी एक और अच्छी तरह से चिह्नित निम्न दबाव वाला क्षेत्र विकसित है।

Updated on October 23, 12:08 PM: उत्तर-पूर्वी मॉनसून सक्रिय, तमिलनाडु में रेड अलर्ट के साथ केरल, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में अच्छी बारिश होने की उम्मीद

16 अक्टूबर के बाद से उत्तरपूर्वी मॉनसून पूरे दक्षिणी प्रायद्वीप में सक्रिय बना हुआ है। तमिलनाडु, केरल, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, तटीय आंध्र प्रदेश और रायलसीमा में उसके बाद से बेहद भारी वर्षा दर्ज हो रही है। स्काईमेट के पास उपलब्ध बारिश के आंकड़ों के अनुसार, दक्षिणी आंतरिक कर्नाटक में अक्टूबर के महीने में अब तक 88 प्रतिशत अधिक बारिश हुई है।

पिछले चार दिनों में, खासकर क्षेत्र में दैनिक बारिश सामान्य आंकड़े से लगभग दोगुनी है। अगले 24-48 घंटों में तमिलनाडु और केरल कुछ राहत की उम्मीद कर सकते हैं क्योंकि बारिश की तीव्रता कम हो जाएगी। लेकिन इसी अवधि के दौरान पूरे कर्नाटक और तटीय आंध्र प्रदेश के लिए भारी बारिश का अनुमान है।

Updated on October 22, 11:15 PM: तमिलनाडु के लिए स्काइमेट ने जारी किया रेड अलर्ट, अगले 2-3 दिनों तक अच्छी बारिश का अनुमान 

स्काइमेट द्वारा किए गए पूर्वानुमान के मुताबिक तमिलनाडु में पिछले 2-3 दिनों से अत्यंत भारी बारिश देखी जा रही है। स्काईमेट के पास उपलब्ध बारिश के आंकड़ो के अनुसार सोमवार को सुबह 8.30 बजे से बीते 24 घंटे के अंतराल में कराईकल 113 मिमी की बेहद भारी बारिश दर्ज की गई है। इसी दौरान, सलेम में 97 मिमी और टोंडी में 50 मिमी की भारी बारिश दर्ज की गई। इसके अलावा, आदिरामपट्टिनम में 45 मिमी और मदुरई में 30 मिमी बारिश देखी गई। वहीं, राजधानी चेन्नई में भी 28 मिमी की मध्यम बारिश दर्ज हुई है।

तमिलनाडु के करीबी क्षेत्र और उससे सटे तटीय आंध्र प्रदेश में एक निम्न दवाब क्षेत्र बना हुआ है। इस मौसम प्रणाली के कारण इस समय, उत्तर-पूर्वी मॉनसून 2019 लगभग पूरे दक्षिणी प्रायद्वीप में सक्रिय बना हुआ है। इसके अलावा, एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र कोमोरियन क्षेत्र पर विकसित है और साथ ही एक ट्रफ रेखा निम्न दवाब क्षेत्र होते हुए तटीय आंध्र प्रदेश तक फैली हुई है।

स्काईमेट के मौसम विशेषज्ञों ने अभी के मौसमी स्थिति को देखते हुए तमिलनाडु में रेड अलर्ट जारी किया है। केरल, तटीय आंध्र प्रदेश और कर्नाटक के कुछ हिस्सों में अगले 2-3 दिनों तक अच्छी बारिश होने वाली है। जबकि केरल और कर्नाटक के कुछ हिस्सों में तो पहले से ही भारी बारिश हो रही है। साथ ही, भारी बारिश के कारण केरल के कुछ हिस्सों में बाढ़ जैसी स्थिति पहले से ही बनी हुई है।

पूरे भारत के मौसम का हाल जानने के लिए देखें विडियो: 

Updated on 21October, 2019 at 04:10 PM: उत्तर पूर्वी मॉनसून आने वाले दिनों में रहेगा सक्रिय, तटीय कर्नाटक में बाढ़ का अलर्ट 

अरब सागर पर बीते 4 दिनों से एक मौसमी सिस्टम बना हुआ है। 4 दिनों से इसकी निम्न दबाव की क्षमता बनी हुई लेकिन यह अब और प्रभावी हो रहा है। जल्द ही इसकी डिप्रेशन बनने की संभावना है।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार अगले 24 घंटों के दौरान यह सिस्टम गहरे निम्न दबाव का क्षेत्र बनेगा और उसके बाद आगामी 24 घंटों में यह डिप्रेशन का रूप ले सकता है।

इस सिस्टम के प्रभाव से उत्तर पूर्वी मॉनसून आने वाले दिनों में सक्रिय बना रहेगा। माना जा रहा है कि इसके प्रभाव से केरल और कर्नाटक के तटवर्ती क्षेत्रों में मूसलाधार वर्षा देखने को मिलेगी। मौसम विशेषज्ञों ने पहले ही केरल और कर्नाटक के तटवर्ती क्षेत्रों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी कर दिया है।

केरल में पहले से ही अधिकांश स्थानों पर मूसलाधार वर्षा हो रही है। कर्नाटक और दक्षिणी महाराष्ट्र में भी कई जगहों पर मध्यम से भारी वर्षा पिछले कुछ दिनों के दौरान देखने को मिली है। हमारा अनुमान है कि कर्नाटक में 21 अक्टूबर को भी कई जगहों पर मध्यम से भारी वर्षा हो सकती है।

Updated on 20 October, 2019 at 06:30 PM: उत्तर-पूर्वी मॉनसून अपडेट: तटीय कर्नाटक और केरल में भारी बारिश की संभावना

उत्तर-पूर्वी मॉनसून देश का मिनी मॉनसून है। इसके चलते मुख्यतः दक्षिण भारत के राज्यों में खासकर तमिलनाडु, केरल, दक्षिणी आंतरिक कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में बारिश होती है। इन भागों में पिछले कई दिनों से अच्छी बारिश हो रही है। बीते 24 घंटों के दौरान भी इन राज्यों में अच्छी बारिश रिकॉर्ड की गई है।

स्काइमेट के पास उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में बारिश का आंकड़ा अब सामान्य से ऊपर चल रहा है। मौसम विशेषज्ञों का अनुमान है कि अरब सागर में बना निम्न दबाव का क्षेत्र और प्रभावी हो रहा है। साथ ही बंगाल की खाड़ी में एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र विकसित हो रहा है। इससे उत्तर-पूर्वी मॉनसून यानि देश का मिनी मॉनसून सक्रिय बना रहेगा। खासकर पश्चिमी तटीय भागों में मौसम में ज़्यादा हलचल होगी।

अनुमान लगाया जा रहा है कि उत्तरी आंतरिक कर्नाटक से लेकर तटीय कर्नाटक और केरल के अलावा पश्चिमी तथा दक्षिणी तमिलनाडु में अधिकांश स्थानों पर मध्यम से भारी बारिश रिकॉर्ड की जाएगी। इसके अलावा तमिलनाडु और कर्नाटक के बाकी हिस्सों के साथ आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश रुक-रुक कर होती रहेगी।

Updated on 19 अक्टूबर, 12:30 PM : चेन्नई, तमिलनाडु सहित केरल में भारी बारिश आगे भी रहेगी जारी

उत्तर-पूर्वी मॉनसून 2019 के आगमन के तुरंत बाद से ही अपना असर दिखाने लगा है। चेन्नई सहित केरल और तमिलनाडु में बीते तीन दिनों से भारी से मूसलाधार बारिश रिकॉर्ड हुई है।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार, आगे भी इन राज्यों में मिनी मॉनसून यानि उत्तर-पूर्वी मॉनसून 2019 का कहर जारी रहने की संभावना है।

अगले 2-3 दिनों तक चेन्नई तथा केरल में बारिश की तीव्रता में मामूली कमी का अनुमान है। लेकिन, उसके बाद इन दोनों राज्यों में 22 अक्टूबर से बारिश फिर से रफ्तार पकड़ेगी।

Updated on 18 अक्टूबर, 04:00 PM : चेन्नई सहित तमिलनाडु में भारी बारिश की संभावना, केरल में बाढ़ की आशंका 

उत्तर-पूर्वी मॉनसून 2019 ने इस बार 15 अक्टूबर को ही दस्तक दे दी। तब से, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, केरल और कर्नाटक राज्यों में अच्छी बारिश होने लगी है।

तमिलनाडु तट से सटे दक्षिण पश्चिम बंगाल की खाड़ी में एक निम्न दवाब का क्षेत्र बन रहा है , जिसके कारण चेन्नई शहर सहित तमिलनाडु राज्य में भारी बारिश होगी। स्काइमेट के पास उपलब्ध बारिश के आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटों में चेन्नई के नुंगमबक्कम में 101 मिमी बारिश दर्ज की गई है, जो शहर के लिए इस सीजन का पहला तीन अंकों वाली भारी बारिश था। ऐसा लग रहा है कि चेन्नई आसानी से अपने 315.6 मिमी बारिश के मासिक औसत को पार कर लेगा, जो आज तक 142 रहा है।

इसके अलावा केरल की बात करें तो, कोझीकोड में 74 मिमी, करीपुर में 44 मिमी, कोट्टयम में 53 मिमी बारिश दर्ज की गई।

22 से 23 अक्टूबर के बीच अधिक वर्षा जारी रहने की उम्मीद है, उस दौरान, वर्षा की गतिविधियों में वृद्धि देखी जाएगी और बंगाल की खाड़ी में निम्न दबाव वाला क्षेत्र बनने के कारण बारिश हो सकती है। साथ ही, उस दौरान केरल के कुछ हिस्सों में भारी बारिश के कारण बाढ़ जैसी स्थिति की भी आशंका जताई जा रही है।

Also Read In English: Northeast Monsoon 2019: Latest News and Updates on Northeast Monsoon

Image Credit: Skymet Weather 

कृपया ध्यान दें: स्काइमेट की वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी सूचना या लेख को प्रसारित या प्रकाशित करने पर साभार: skymetweather.com अवश्य लिखें।








For accurate weather forecast and updates, download Skymet Weather (Android App | iOS App) App.

Weather Forecast

Other Latest Stories






latest news

Skymet weather

Download the Skymet App

Our app is available for download so give it a try

×